Kamsudha Yog

कामसुधा योग के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Kamsudha Yog in Hindi

कामसुधा योग क्या है? – What is Kamsudha Yog in Hindi

कामसुधा योग मर्दों की यौन समस्याओं के लिए एक स्वदेशी उपचार है, जो आयुर्वेदिक जोशवर्धक है।

कामसुधा योन 21 वाजीकरण अवयवों का एक अद्भुत संयोजन है, जिसके शक्तिशाली प्रभाव से शीघ्रपतन, नपुंसकता, बांझपन, शारीरिक कमजोरी, मानसिक थकावट, लिंग की अतिसंवेदनशीलता, नसों की कमजोरी, स्तंभन दोष, स्वप्नदोष, कामेच्छा की कमी आदि लक्षणों की रोकथाम व इलाज किया जा सकता है।

इस दवा के उपयोग से पुरुषों के शरीर में अश्वशक्ति का वास होता है, जिसके कारण यह पुरूष प्रदर्शन को लंबा खींच सकती है। इसमें ऊर्जावर्धक और कामशक्तिवर्धक गुण शामिल होते है।

यह इंद्रियों की शिथिलता, धातु दौर्बल्य और वीर्य दोषों से मुक्ति दिलाने में सक्षम योग है।

कामसुधा योग को जानकारों के द्वारा संभोग सुख, यौन संतुष्टि और संतान प्राप्ति के लिए काफी सराहनीय विकल्प बताया है।

इससे पुरुषों में प्राकृतिक तरीकें से टेस्टोस्टेरॉन और वीर्य का नवीन निर्माण होता है, जो रोग पर जल्दी असर कर महीने भर में हमारे शरीर को बलशाली बना सकता है। हमेशा बीमार और थका-थका महसूस करने वालों के लिए यह बेहतरीन औषधियों में से एक हो सकती है।

कामसुधा योग की संरचना – Kamsudha Yog Composition in Hindi

निम्न घटक कामसुधा योग में होते है।

शिलाजीत + कौंच बीज + सफेद मूसली + गोखरू + विदारीकंद + अकरकरा + अश्वगंधा + शतावरी + दालचीनी + प्रवाल पिष्टी + अतिबला + बंग भस्म + जायफल + बला + जावित्री + मकरध्वज

पढ़िये: मिनरल्स क्या है? | Honey in Hindi

कामसुधा योग के उपयोग व फायदे – Kamsudha Yog Uses & Benefits in Hindi

इस दवा से होने वाले फायदें व लाभ निम्नलिखित है।

कामेच्छा की कमी को दूर करने में सहायक

यह स्वदेशी उपचार वाजीकरण दवाओं का एक अच्छा उदाहरण है, यह सेक्स में इच्छा की कमी को दूर कर संभोग के लिए दिमागी घोड़े दौड़ाती है। यह दवा पुरूष अंग में गर्माहट पैदा कर यौन क्रियाओं के लिए पुरुषों को उत्तेजित कर सकती है।

शारीरिक कमजोरी से छुटकारा दिलाने में मददगार

लंबे समय से पोषक की कमी या गलत कामों (ज्यादा हस्थमैथुन) से शारीरिक कमजोरी का बढ़ना तय होता है। ऐसे में, सही समय पर सही उपचार लेना आवश्यक होता है, अन्यथा कई मामलों में इसका सीधा असर सेक्स लाइफ पर पड़ता है। यह योग शरीर को बार-बार बीमार होने नहीं होने देता है, ऊर्जा को बढ़ाता है तथा स्थायी रूप से ऊर्जा का संचय करता है। इसे लेने से पुरूषों को यकीनन इससे लाभ हो सकता है।

वीर्य रोगों का निवारण

इस दवा में शुक्रजनन मतलब शुक्राणुओं का निर्माण और शुक्र स्तंभन यानी शुक्राणुओं को ज्यादा देर तक ठहराने वाले गुण शामिल होते है। यह औषधि वीर्य से जुड़ी सभी शिकायतों को ठीक कर सकती है। यह नए वीर्य का निर्माण करने, वीर्य को गाढ़ा करने और वीर्य को चिकना बनाने में मददगार साबित हो सकती है। यह शुक्राणुओं की गुणवत्ता में सुधार करने हेतु काफी अच्छा साधन हो सकता है।

शीघ्रपतन का उपचार करने में उपयोगी

शिश्न की मांसपेशियां अधिक संवेदनशील होने पर कई बार योनि में जाते ही या बिस्तर पर लिंग रगड़ने से ही वीर्य स्खलन हो जाता है। शीघ्रपतन की समस्या से संभोग की अवधि बेहद कम हो सकती है, जिसके कारण संभोग सुख प्राप्त करना मुश्किल होता है। कामसुधा योग वीर्य प्रतिरोध को बढ़ाकर वीर्य स्खलन को धीमा कर सकता है, यह मानसिक तनाव या ज्यादा उत्तेजना को ठीक कर शीघ्रपतन से छुटकारा दिला सकता है।

स्तंभन दोष से निजात दिलाने में कारगर

शिश्न में मांसपेशियों में मजबूती लाने के लिए यह दवा पुरूष अंग में रक्त के संचार को बढ़ा देती है। यह पुरुष प्रदर्शन को लंबा करने और कामोन्माद को बढ़ाने में सफल प्रयास हो सकता है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार

यह लैंगिक कमजोरी को दूर करने के साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार करने के लिए भी अच्छी दवा हो सकती है। शरीर की सभी गतिविधियों को पूरा करने के लिए हमें पर्याप्त मात्रा में ताकत की आवश्यकता होती है, जब हमारा शरीर बार-बार जल्दी बीमार पड़ता है, तो रोग प्रतिरोधक क्षमता कम होती जाती है। यह दवा शरीर में ऊर्जा की कमी को पूरा कर प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत कर सकती है।

हार्मोन असंतुलन को ठीक करने में सहायक

यह दवा शरीर के हार्मोन को संतुलित कर हमें बीमारियों से लड़ने में मदद कर सकती है। यह दवा हार्मोन असंतुलन की वजह से होने वाले मामूली लक्षणों के प्रभाव को कम करने में सहायक हो सकती है। इसके अलावा, यह उत्पाद नसों को शांत करने में भी फायदेमंद हो सकता है।

पढ़िये: शंखपुष्पी के फायदे | Amla in Hindi

कामसुधा योग के दुष्प्रभाव – Kamsudha Yog Side Effects in Hindi

इस आयुर्वेदिक औषधि के कोई निश्चित दुष्प्रभाव नहीं है, क्योंकि इसे दुष्प्रभावों रहित माना जाता है। यहां निश्चित दुष्प्रभाव नहीं होने का तात्पर्य था कि हर किसी की मेडिकल स्थिति अलग होती है, इसके कारण सबकों इससे एक जैसे दुष्प्रभाव हो, यह मुमकिन नहीं है। अगर आपको इसके दुष्प्रभावों का अनुभव होता है, तो किसी अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक से सलाह अवश्य लें।

इनके अलावा भी अन्य साइड इफेक्ट्स कामसुधा योग से हो सकते है।

कामसुधा योग की खुराक – Kamsudha Yog Dosage in Hindi

  • कामसुधा योग की खुराक दिन में दो बार एक-एक कैप्सूल भोजन के पहले लेने की सलाह दी जाती है।
  • कामसुधा योग कैप्सुल को दूध या पानी के साथ ले सकते है।
  • यह योग चूर्ण रूप में भी आता है, जिसकी सही खुराक के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह जरूरी होती है।
  • इसकी खुराक को कम या ज्यादा करने के लिए स्वतंत्र फैसला न लें।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित कामसुधा योग का उपयोग जल्द करें। अगली खुराक कामसुधा योग की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानियां – Kamsudha Yog Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में कामसुधा योग के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में कामसुधा योग से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, विशेषज्ञ को अवस्था बताकर ही कामसुधा योग की खुराक लें।

  • हाई ब्लड प्रेशर
  • अतिसंवेदनशीलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

कामसुधा योग की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: लौह भस्म के फायदे | Brahmi in Hindi

Kamsudha Yog FAQ in Hindi

1) क्या कामसुधा योग का इस्तेमाल महिलाएं कर सकती है?

उत्तर: सामान्य स्थिति वाली महिलाएं इस दवा का उपयोग ऊर्जावर्धक के रूप में कर सकती है, लेकिन हर किसी महिला को इस उत्पाद को लेने से पहले चिकित्सीय सलाह अवश्य लेनी चाहिए क्योंकि इस दवा के फायदें महिलाओं की तुलना में पुरूषों के लिए ज्यादा है।

2) क्या कामसुधा योग को दूध के साथ ले सकते है?

उत्तर: हाँ, कामसुधा योग की कैप्सूल को दूध के साथ लेना बेहद लाभदायक माना जाता है। आप इसके चूर्ण को पानी या दूध किसी के साथ भी लें सकते है।

3) क्या कामसुधा योग स्थायी शक्ति देती है?

उत्तर: यह स्वदेशी उपचार पुरानी से पुरानी कमजोरी या थकावट को दूर कर सेहत को तरोताजा कर सकती है। यह स्थायी शक्ति या ऊर्जा का संचय करती है, जो लंबे समय के लिए शरीर द्वारा खपत की जा सकती है।

4) क्या कामसुधा योग को भूखे पेट ले सकते है?

उत्तर: जब इसे भोजन के बाद लिया जाता है,तो इस दवा के बारे में किसी दुष्प्रभाव की पुष्टि नहीं की गई है। लेकिन इसे भूखे पेट लेने से पेट में हल्की जलन या गैस हो सकती है।

5) क्या कामसुधा योग एक नशेदार उत्पाद है?

उत्तर: यह दवा शरीर पर आदत नहीं बनती है। इसे नशामुक्त उत्पाद माना जाता है, जिसमें सभी हर्बल तत्वों को जगह दी गयी है। हालांकि यह आपकी दैनिक पसंद जरूर बन सकती है।

6) कामसुधा योग को कितने समय तक इस्तेमाल करने की आवश्यकता होती है?

उत्तर: इसे एक महीने तक रोजाना इस्तेमाल करने से आपको एक अच्छा परिणाम मिल सकता है। आगे इस दवा की खुराक को बढ़ाने के लिए आप किसी अच्छे आतुर्वेदिक डॉक्टर की राय लें।

7) क्या कामसुधा योग की खुराक के बाद ड्राइविंग कर सकते है?

उत्तर: चूंकि यहां दवा शीघ्र प्रभावी नहीं है और इसे महीने तक इस्तेमाल करने की आवश्यकता होती है, इसी कारण यह मस्तिष्क के लिए सुरक्षित है।

8) क्या कामसुधा योग मधुमेह के मामलों में सुरक्षित है?

उत्तर: मधुमेह के मामलों में इस दवा को शुरू करने से पहले आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

9) क्या कामसुधा योग भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, यह हर्बल दवा भारत में पूर्णतया लीगल है। इसे खरीदने के लिए डॉक्टरी पर्चे की आवश्यकता नहीं होती है।

पढ़िए: गर्भावस्था से जुड़ी सावधानियां | Kushta Faulad in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *