Vasant Kusumakar Ras की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन प्रवाल पिष्टी + लौह भस्म + अभ्रक भस्म + रजत भस्म + रस सिंदूर + अभ्रक भस्म + मुक्तापिष्टी + रस सिंदूर + बंग भस्म + नाग भस्म + स्वर्ण भस्म + अम्बर
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Vasant Kusumakar Ras

वंसत कुसुमाकर रस के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी

परिचय

वंसत कुसुमाकर रस क्या है? – What is Vasant Kusumakar Ras in Hindi

वंसत कुसुमाकर रस कई पुरानी और जटिल बीमारियों को उखाड़ फेंकने वाली एक आयुर्वेदिक औषधि है।

इसे डॉक्टर की पर्ची के बिना भी उपयोग व खरीद सकते है।

यह दवा दिल और दिमाग को संतुलित रखने के लिए बढ़िया ढंग से काम करती है।

यह रस रक्त में शर्करा के स्तर को सुनिश्चित कर मधुमेह के लिए लाभदायक सिद्ध हो सकती है।

यह दवा मर्दों की खोई ताकत को पुनः लौटाने और जीवन में जोश की कमी को मिटाने में काफी हद तक सफल है।

इसे भारत में कई बड़ी हर्बल कंपनियों द्वारा निर्मित कर अपनी पहचान के साथ बाजार में विपणन किया जाता है, जैसे- डाबर, झंडू, पतंजलि, हिमालया और बैधनाथ आदि।

वंसत कुसुमाकर रस डायबिटीज, मूत्र संबंधी विकार, शीघ्रपतन, स्मृति हानि, त्वचा से जुड़ी दिक्कतें, खराब पाचन तंत्र, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, शारीरिक कमजोरी, ल्यूकोरिया, मानसिक दुर्बलता, अस्वस्थ हृदय आदि सभी स्थितियों की रोकथाम और इलाज में सहायक हो सकता है।

वृद्धाकाल में होने वाली शिकायतों जैसे मांसपेशियों में दर्द, गठिया दर्द, कमजोर नेत्र ज्योति, सांस लेने में तकलीफ आदि सभी के लिए यह दवा अभीष्ट है।

इस दवा से निरोगी स्वास्थ्य पाकर जिंदगी के पढ़ाव को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने में काफी मदद मिल सकती है।

निम्न वंसत कुसुमाकर युक्त प्रचलित उत्पाद है।

  • Jhansi Baidyanath Basant Kusumakar Ras
  • Dabur Vasant Kusumakar Ras
  • Patanjali Divya Vasant Kusumakar Ras
  • Dhootapapeshwar Vasant Kusumakar Ras
  • Baidyanath Vasant Kusumakar Ras

पढ़िये: हैमर ऑफ थोर कैप्सूल | Himalaya Diabecon DS Tablet in Hindi 

संयोजन

वंसत कुसुमाकर रस की संरचना – Vasant Kusumakar Ras Composition in Hindi

निम्न घटक वंसत कुसुमाकर रस में होते है।

प्रवाल पिष्टी + लौह भस्म + अभ्रक भस्म + रजत भस्म + रस सिंदूर + अभ्रक भस्म + मुक्तापिष्टी + रस सिंदूर + बंग भस्म + नाग भस्म + स्वर्ण भस्म + अम्बर

फायदे

वंसत कुसुमाकर रस के उपयोग व फायदे – Vasant Kusumakar Ras Uses & Benefits in Hindi

वंसत कुसुमाकर रस के प्रमुख उपयोग व फायदे निम्नलिखित है।

यौन दौर्बल्य के लिए अतिउत्तम

वंसत कुसुमाकर रस पुरुषों में यौन दुर्बलता के लिए खास प्रभावी औषधियों में से एक है। यह नपुंसकता, शीघ्रपतन और कामेच्छा की कमी को दूर कर जननेद्रियों को शक्तिशाली बनाने में सहायक है। अश्लील दृश्यों को ज्यादा देख वीर्यनाश करने से आई कमजोरी को दूर करने के लिए इस रस को स्वास्थ्यवर्धक के रूप में देखा जा सकता है। इन मामलों में इसकी रोजाना दो गोलियां बेहद हितकारी साबित हो सकती है।

मधुमेह को नियंत्रण में करें वंसत कुसुमाकर का प्रयोग

यह मूल्यवान जड़ी-बूटियों का संगम रस मधुमेह की अस्थिरता को सामान्य बनाने का एक अच्छाखासा इलाज हो सकता है। इसके द्वारा रक्त में शर्करा के स्तर पर काबू पाने में मदद मिलती है, ताकि मूत्र में अधिक शर्करा न आएं। यह मूत्र संस्थान की कमियों के निवारण और इंद्रियों की शिथिलता को मिटाने हेतु बेहद फायदेमंद माना जाता है।

महिलाओं के रोगों के उपचार में लाभकारी

गर्भाशय से ज्यादा रक्तस्राव होना और योनि से ज्यादा सफेद पानी निकलना जिसे ल्यूकोरिया या श्वेत प्रदर कहा जाता है, ऐसी स्थितियों में इसे सुबह-शाम लेने से कुछ समय में इसके फायदों अनुमानित हो जाते है। यह स्त्री के शरीर को पुष्ट कर अनेकों बीमारियों से लड़ने में मददगार हो सकता है।

शारीरिक और मानसिक कमजोरी के प्रबंधन में सहायक

वंसत कुसुमाकर रस लोगों को उम्र के साथ महसूस हो रही कमजोरी और मस्तिष्क की थकावट से निजात दिलाने वाला एक प्रभावी उपचार हो सकता है। याददाश्त कम होना, सांस में तकलीफ, लगातार खाँसी का प्रकोप, दृष्टि अस्पष्ट होना, जल्दी थकना आदि संकेतों के प्रबंधन हेतु इसका प्रयोग किया जा सकता है।

एनीमिया के इलाज में सहायक वंसत कुसुमाकर रस

यह रक्त बनने की प्रक्रिया को सुधारने और रक्त की हानि होने से बचाने के लिए दो तरीकों से काम करता है क्योंकि रक्त का स्तर बराबर होने से एनीमिया के इलाज में काफी मदद मिल सकती है।

पाचन तंत्र को मजबूत करने में सहायक

पाचन तंत्र की दिक्कतों से पूरा शरीर नीरस-सा हो जाता है। यह दवा पाचन को मजबूत कर सेहत को पेट की बीमारियों के प्रति अद्यतन बनाने का कार्य करती है।

पढ़िये: हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट | IME 9 Tablet in Hindi

दुष्प्रभाव

वंसत कुसुमाकर रस के दुष्प्रभाव – Vasant Kusumakar Ras Side Effects in Hindi

वंसत कुसुमाकर से होने वाले नुकसानों के बारें में अभी तक कोई पता नहीं चला है।

इसमें प्रयुक्त होने वाले पर प्रभावी तत्व गंभीर स्थितियों के लिए भी फायदेमंद हो सकते है। इसे लेते समय हर छोटी बातों के लिए चिकित्सा निगरानी ज्यादा उचित मानी जाती है।

खुराक

वंसत कुसुमाकर रस की खुराक – Vasant Kusumakar Ras Dosage in Hindi

आमतौर पर, वंसत कुसुमाकर रस की ज्यादातर मामलों में सुझाव की जाने वाली खुराक कुछ इस प्रकार है-

उत्पाद खुराक
use in hindi
Vasant Kusumakar Ras
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 1 टैबलेट
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने से पहले या बाद: कभी भी
  • लेने का माध्यम: दूध के साथ
  • उपचार अवधि: 1 महिना

इसकी खुराक में कुछ परिवर्तनों के लिए अपने स्वास्थ्य प्रदाता या मेडिकल स्टॉफ की मदद लें।

बच्चों में वंसत कुसुमाकर रस अनुशंसित नहीं है। बच्चों को इस दवा से दूर रखें।

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित वंसत कुसुमाकर रस का उपयोग जल्द करें। अगली खुराक वंसत कुसुमाकर रस की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: कायम टैबलेट | Zandu Striveda Powder in Hindi

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में वंसत कुसुमाकर रस के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

वंसत कुसुमाकर रस की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ वंसत कुसुमाकर रस की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, वंसत कुसुमाकर रस की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और वंसत कुसुमाकर रस की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भवती महिलाओं के लिए वंसत कुसुमाकर रस का सेवन असुरक्षित है।

स्तनपान

इस विषय में ज्यादा जानकारी के लिए अपने चिकित्सक की राय ले।

ड्राइविंग

वंसत कुसुमाकर रस के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

अन्य कोई बड़ी बीमारी होने पर वंसत कुसुमाकर रस का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

कीमत

वंसत कुसुमाकर रस को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

पढ़िये: एमिल बीजीआर-34 टैबलेट | Peedanil Gold Tablet in Hindi 

सवाल-जवाब

क्या वंसत कुसुमाकर रस नवजात शिशुओं के लिए सुरक्षित है?

नहीं, यह दवा बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं है। आमतौर पर इसे 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए सिफारिश नहीं किया जाता है।

वंसत कुसुमाकर रस की एक खुराक के बाद दूसरी खुराक कितने घंटों के बाद लेनी चाहिए?

इस दवा की सुबह एक खुराक लेने के बाद दूसरी खुराक के लिए 5 से 6 घंटों के इंतजार के बाद दूसरी खुराक लेना सुरक्षित माना जाता है।

क्या वंसत कुसुमाकर रस मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकती है?

यह दवा मासिक धर्म चक्र पर कैसा असर कर सकती है, इसकी जानकारी अपने मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक से लें।

क्या वंसत कुसुमाकर रस भारत में लीगल है?

हाँ, यह हर्बल दवा भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: इसबगोल पाउडर | Ajmodadi Churna in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.