जायफल क्या है?

जायफल को सदियों से घरेलू रसोई में मसाले के रूप में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इसमें शामिल कई गुणकारी औषधीय गुणों के कारण इसे आयुर्वेद चिकित्सा में एक विशिष्ट स्थान दिया गया है।

जावित्री के कवच के भीतर जायफल होता है, जो सूखने पर जावित्री से अलग हो सकता है।

जायफल अंडाकार और काले रंग का सिकुड़ा हुआ बीज जैसा होता है, जिसकी तीव्र गंध होती है।

जायफल का वैज्ञानिक नाम मिरिस्टिका फ्रेगरेंस (Myristica Fragrans) है, जो मिरिस्टिकेसी (Myristicaceae) कुल से संबंध रखता है।

जायफल

जायफल को विभिन्न जगह पर विभिन्न नामों से जाना जाता है, जैसे- जायफर, जातिफल, जाजीपत्री, नट मेग, मैक ट्री इत्यादि।

पढ़िये: नागकेसर के फायदे | Himalaya Yashtimadhu in Hindi 

जायफल के पोषक तत्व – Nutmeg Nutrients in Hindi

जायफल कई पोषक तत्वों का एक समर्द्ध स्त्रोत है, जैसे-

पोटेशियम, आयरन, मैंगनीज, जिंक, कॉपर, कैल्शियम और मैग्नीशियम

इसमें कई बी-कॉम्प्लेक्स विटामिन जैसे नियासिन, राइबोफ्लेविन, फोलिक एसिड और विटामिन ए व विटामिन सी पाया जाता है। (और पढ़िये: Vitamins in Hindi)

जायफल के फायदे व उपयोग

जायफल से होने वाले फायदे कुछ इस प्रकार है-

  • जायफल में मिरिस्टिसिन (Myristicin) पाया जाता है, जो अल्जाइमर रोग के लिए जिम्मेदार एंजाइम को रोकता है। यह मानसिक तनाव, चिंता और अवसाद को दूर कर याददाश्त, एकाग्रता और सतर्कता में सुधार करता है।
  • जायफल में एंटीमाइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाये जाते है, जो मुहाँसों का इलाज के त्वचा से दाग-धब्बों को साफ करता है।
  • जायफल का एंटी-एजिंग प्रभाव होता है, जिससे झुर्रियां कम होती है और स्किन टोन हल्की होती है।
  • जायफल कमेच्छा में सुधार कर यौन स्वास्थ्य बेहतर बनाता है।
  • यह घटक जोड़ो के दर्द व सूजन कम करने में सहायक है।
  • जायफल एक प्रभावी एंटीऑक्सीडेंट है, जो मुक्त कणों के गठन को रोककर सेलुलर क्षति को रोकने में मदद करता है और प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत करता है।
  • जायफल में फाइबर की अच्छी मात्रा होती है, जिस कारण यह कब्ज, अपच और गैस जैसे लक्षणों को खत्म कर पेट की सफाई करता है।
  • जायफल मस्तिष्क को शांत कर अच्छी नींद में सहायता करता है।
  • यह ट्राई ग्लिसराइड को कम कर व ब्लड लिपिड को बढ़ाकर हृदय को स्वस्थ बनाये रखता है। (और पढ़िये: Heart Facts in Hindi)
  • इसमें मौजूद पोटेशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम उच्च रक्तचाप के इलाज में मददगार है।

पढ़िये: अर्निका मोंटाना के फायदे | Pankajakasthuri Breathe Eazy in Hindi

दुष्प्रभाव

जायफल के नुकसान – Nutmeg Side Effects in Hindi

जायफल की अति या दुरुपयोग से कुछ दुष्प्रभाव हो सकते है:

  • पेट दर्द
  • बेहोशी
  • बेचैनी
  • गला सुखना

इससे अन्य दुष्प्रभाव भी हो सकते है, जिनका सामना होने पर, किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक का परामर्श अवश्य लें।

पढ़िये: हिमालया गुडुची टैबलेट | Pain Niwaran Churna in Hindi

खुराक

जायफल की खुराक – Nutmeg Dosage in Hindi

जायफल की खुराक मरीज की वर्तमान हालात, लक्षण के प्रकार, आयु और लक्षण की गंभीरता के आधार पर तय की जाती है। इसलिए इसकी सही खुराक जानने के लिए डॉक्टर की सलाह लें।

आमतौर पर, जायफल चूर्ण की दिन में 0.5-1 ग्राम और जायफल तेल की दिन में 1-3 बूंदों का इस्तेमाल करना सुरक्षित माना जाता है।

पढ़िये: झंडू केसरी जीवन के फायदे | Dabur Honitus Hot Sip in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.