निर्माता

Himalaya Drug Company

कीमत

Rs 170 (60 Tablet)

Himalaya Liv 52 DS Tablet की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन कासनी + हिमस्रा + अर्जुन
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Himalaya Liv 52 DS Tablet

Liv 52 DS Tablet Uses in Hindi: फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी

परिचय

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट क्या है? – What is Himalaya Liv 52 DS Tablet in Hindi

लिव 52 डीएस टैबलेट लिवर की आयु को लंबे समय तक बरकरार रखने वाली एक आयुर्वेदिक टैबलेट है, जिसमें शामिल सभी अवयवों में प्राकृतिक गुणधर्म होते है।

रसायनों से मुक्त यह टैबलेट पाचन की प्रगति को बढ़ाने में सहायक हो सकती है।

हमारे शरीर की अनेक पाचन गतिविधियां लीवर से संबंधित हो सकती है। यद्यपि लीवर पर कोई आघात होता है, तो सबसे पहला गलत प्रभाव पाचन तंत्र पर देखने को मिलता है।

यह टैबलेट लीवर को सेहतमंद कर खाने के अवशोषण को इस तरीके से बढ़ाती है कि जिससे वजन भी नियंत्रण में रहें और हजम शक्ति पर भी दबाव न पड़ें।

लिव 52 डीएस टैबलेट के उपयोग से एनोरेक्सिया, हेपेटाइटिस, एल्कोहोलिक लीवर डिजीज, पीलिया, लीवर सिरोसिस, भूख परिवर्तन, आंतों में इंफेक्शन, फैटी लीवर और एनीमिया जैसी कई अन्य स्थितियों का उपचार किया जा सकता है।

यह टैबलेट लीवर की कार्यात्मक और सुरक्षात्मक शक्ति को बनाएं रखने में मददगार हो सकती है।

पढ़िये: आईएमई 9 टैबलेट | Kayam Tablet in Hindi 

संयोजन

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट की संरचना – Himalaya Liv 52 DS Tablet Composition in Hindi

निम्न घटक हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट में होते है।

कासनी + हिमस्रा + अर्जुन

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट कैसे काम करती है?

  • कासनी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट यौगिक है, जो शरीर से मुक्त कणों की सफाई का कार्य करता है। यह शराब की विषाक्ता के खिलाफ कार्य कर लीवर को सुरक्षा प्रदान कर संक्रमणों से बचाए रखता है।
  • हिमस्रा एक हेपेटोप्रोटेक्टिव यौगिक है, जो प्लाज्मा और हेपेटिक कोशिकाओं में मैलोनडिएल्डिहाइड (ऑक्सीडेटिव तनाव के लिए जिम्मेदार) के स्तर की वृद्धि को रोकने का कार्य करता है। यह लीवर की सूजन को कम करने, उसके कार्यों को सुनिश्चित करने और कार्यात्मक दक्षता में सुधार के लिए प्रभावी है।
  • अर्जुन पाचन क्रिया को सुधारने वाला एजेंट है। यह खाने के अवशोषण को बढ़ाकर भूख लगाने में मदद कर सकता है। यह संक्रमित लीवर जिससे हेपेटाइटिस होता है, को ठीक करने के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया और वायरस के विकास को रोकने में मददगार हो सकता है।
  • यह टैबलेट लीवर की कमजोरी को दूर कर सूजन और दर्द से आराम प्रदान कर सकती है। यह रक्त के स्तर में सुधार कर एनीमिया के लक्षणों में काफी कारगर हो सकती है।

पढ़िये: झंडू स्त्रीवेदा पाउडर | Aimil Bgr-34 Tablet in Hindi 

फायदे

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट के उपयोग व फायदे – Himalaya Liv 52 DS Tablet Uses & Benefits in Hindi

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट को निम्न अवस्था या विकार में सलाह किया जाता है-

  • वायरल हेपेटाइटिस
  • सिरोसिस
  • एनोरेक्सिया
  • भूख की कमी
  • एल्कोहोलिक लीवर डिजीज
  • पीलिया
  • फैटी लीवर
  • यकृत संक्रमण
  • हल्का कब्ज
  • मूत्राशय की सूजन
  • हीमोग्लोबिन में कमी
  • आंतों में इंफेक्शन
  • एनीमिया
  • पेप्टिक अल्सर
  • सुस्त लीवर
  • ल्यूकोरिया

दुष्प्रभाव

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट के दुष्प्रभाव – Himalaya Liv 52 DS Tablet Side Effects in Hindi

इसकी अति या दुरुपयोग से कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हो सकते है-

  • त्वचा में जलन
  • एलर्जी
  • मतली
  • चेहरे पर लाल चकत्ते होना
  • सिर भारी होना

पढ़िये: पीड़ानील गोल्ड टैबलेट | Isabgol Powder in Hindi

खुराक

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट की खुराक – Himalaya Liv 52 DS Tablet Dosage in Hindi

खुराक डॉक्टर द्वारा लिव 52 डीएस टैबलेट की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है।

इसलिए इसका सेवन डॉक्टर से निजी सलाह लेने के बाद शुरू करें।

आमतौर पर, लिव 52 डीएस टैबलेट की ज्यादातर मामलों में सुझाव की जाने वाली खुराक कुछ इस प्रकार है-

उत्पाद खुराक
use in hindi
Himalaya Liv 52 DS Tablet
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 1 टैबलेट
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने से पहले या बाद: खाने के बाद
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी के साथ
  • उपचार अवधि: डॉक्टर की सलाह अनुसार

इस टैबलेट की गोलियों को तोड़कर, चबाकर या कुचलकर लेने की भूल न करें। इसे गुनगुने पानी के साथ आइस्ता लें।

इससे उपचार की अवधि लम्बी चल सकती है, इसलिए डॉक्टर द्वारा सुझाई गई खुराक का रोजाना पालन करें।

इस टैबलेट को लेने के बाद यदि इससे आपको फायदें प्राप्त नहीं हो रहें तो ऐसी स्थिति में खुराक को बंदकर अपने चिकित्सक से व्यक्तिगत सम्पर्क करें।

सावधानी

भोजन

भिन्न खाद्य सामग्री के साथ लिव 52 डीएस टैबलेट की प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ लिव 52 डीएस टैबलेट की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, लिव 52 डीएस टैबलेट की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और लिव 52 डीएस टैबलेट की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए लिव 52 डीएस टैबलेट का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

इस विषय में जानकारी अज्ञात होने के कारण आप किसी गायनेकोलॉजिस्ट से सलाह ले सकते है।

ड्राइविंग

लिव 52 डीएस टैबलेट के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

पढ़िये: अजमोदादि चूर्ण Himalaya Mentat Tablet in Hindi 

कीमत

लिव 52 डीएस टैबलेट को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

सवाल-जवाब

क्या हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकती है?

इस टैबलेट में इम्युनोमॉड्यूलेटर गुण होते है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक है।

क्या हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट वजन बढ़ाने में सहायक हो सकती है?

हाँ, इस टैबलेट का इस्तेमाल से वजन को बढ़ाया जा सकता है।

क्या हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में सहायक है?

इस टैबलेट को एनीमिया के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि यह खून बनने की प्रक्रिया में सुधार कर सकती है। यह टैबलेट रक्त के साथ हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में भी फायदेमंद हो सकती है।

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट को कैसे संग्रहित किया जाना चाहिए?

इस टैबलेट को कमरे के ताप पर सीधे प्रकाश और गर्मी से बचाते हुए संग्रहित किया जाना चाहिए। ध्यान रहें, इस टैबलेट को बच्चों और पालतू जानवरों से भी दूर रखें। इसे फ्रिज में रखने की गलती न करें।

क्या हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट पथरी के इलाज में सहायक है?

यह हर्बल टैबलेट लीवर के लिए उत्कृष्ट है, लेकिन इससे पथरी को मिटाने की चाह रखने वाले लोगों को पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

क्या हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकती है?

इस विषय में मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

क्या हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट भारत में लीगल है?

हाँ, यह आयुर्वेदिक टैबलेट भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: शंख भस्म | Trikatu Churna in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.