liv amrit syrup

Liv Amrit Syrup के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | लिव अमृत सिरप

Liv Amrit Syrup क्या है?

Liv Amrit Syrup शुद्ध प्राकृतिक जड़ी-बूटियों के योग से निर्मित एक आयुर्वेदिक उपाय है, जो शरीर के सबसे बड़े आंतरिक अंग लिवर से जुड़ी समस्याओं का समाधान करता है।

यह एक ओवर द काउंटर प्रॉडक्ट है, जिसे डॉक्टर की पर्ची के बिना आसानी से खरीदा जा सकता है।

यह अमृत सिरप शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने, चयापचय क्रियाओं को नियंत्रित करने तथा प्लीहा व पाचन संबंधी विकारों को दूर करने हेतु लिवर को दुरुस्त बनायें रख सकती है।

लिव अमृत सिरप फैटी लिवर, लिवर डैमेज और हेपेटाइटिस के मामलों में बेहद फायदेमंद साबित हो सकती है।

लिवर के कार्यों में लय स्थापित कर यह दवा लिवर स्वास्थ्य को लंबे समय तक बेहतर बनायें रख सकती है।

नामLiv Amrit Syrup
निर्माता (Manufacturer)Patanjali Ayurved
संरचना (Composition)पुनर्नवा + अर्जुन + भृंगराज + त्रिफला + गिलोय + मुलेठी + दारूहल्दी + कालमेघ + भूमि आंवला + कुटकी + अमलतास
दवा-प्रकार (Type of Drug)आयुर्वेदिक
डॉक्टरी पर्ची (Prescription)आवश्यक
कीमत (Price)90 रूपये (200ml)

पढ़िये: इंडुलेखा तेल | Tendocare Tablet in Hindi

लिव अमृत सिरप कार्यशैली

  • पुनर्नवा लिवर को हेपेटाइटिस द्वारा संक्रमित होने से बचा सकता है। इस जड़ी-बूटी में पाये जाने औषधीय गुण किडनी स्टोन, पीलिया, डायबिटीज, एनीमिया जैसे कई बड़े लक्षणों का इलाज कर सकते है।
  • अर्जुन हृदय स्वास्थ्य के लिए अतिउत्तम औषधि है। इससे स्थायी लाभ होता है और यह उच्च रक्तचाप व हाई कोलेस्ट्रॉल के मामलों में बेहद फायदेमंद हो सकता है।
  • भृंगराज में विषहरण गुण पाया जाता है, जो विषाक्त पदार्थों को खत्म कर लिवर को प्रभावित होने से बचा सकता है और पाचन शक्ति में सुधार के सकता है।
  • त्रिफला चयापचय क्रियाओं को संतुलित कर भूख से जुड़ी परेशानी को दूर कर सकता है। यह भूख में वृद्धि करने, लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने व इम्युनिटी बढ़ाने में फायदेमंद हो सकता है।
  • गिलोय हाइपोग्लाइसेमिक गुण होता है, जो डायबिटीज में बेहद अच्छा परिणाम देता है। इसके अलावा, यह रक्त को शुद्ध कर सकता है और संक्रमणों से लड़ सकता है।
  • मुलेठी लिवर के कार्यों में सुधार कर पाचन तंत्र को सुदृढ बनाने में मददगार हो सकती है। यह दर्द व सूजन के लक्षणों को ठीक कर सकती है और इसमें कोलेस्ट्रॉल को कम करने की भी क्षमता होती है।
  • दारुहल्दी लिवर रोगों के लिए उत्कृष्ट उपाय है। यह लिवर की सूजन को कम कर सकता है और उसके कार्यों में पुनः लय स्थापित कर सकता है। पाचन क्रिया को दुरुस्त कर यह घटक पाइल्स से बचाव कर सकता है।
  • कालमेघ लिवर में पित्त के रेगुलेशन को संतुलित रखता है। इसके अलावा, बार-बार आने वाले बुखार, पुराने बुखार, मलेरिया, टायफाइड आदि में काफी असरदार हो सकता है।
  • भूमि आंवला गैस्ट्रिक बीमारियों में राहतकारी हो सकता है। इसमें मौजूद गुण लिवर की रक्षा करते है और इसे डैमेज होने से बचा सकते है।
  • कुटकी लिवर सिरोसिस और पीलिया की गंभीर स्थितियों में भी लाभ पहुंचा सकती है। यह जीवाणुरोधी और विषाणुरोधी गुणों से भरपूर होती है इसलिए इसके इस्तेमाल से संक्रमण से छुटकारा पाया ज सकता है।
  • अमलतास में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रतिरक्षा शक्ति में सुधार कर सकते है।

पढ़िये: विजी-3 टैबलेट | Sanyasi Sehat Tablet in Hindi

लिव अमृत सिरप के उपयोग व फायदे – Benefits & Uses in Hindi

निम्न अवस्था या विकार में Liv Amrit Syrup को विशेषज्ञ द्वारा रोगी को सलाह किया जाता है। Liv Amrit Syrup का उपयोग विशेषज्ञ से व्यक्तिगत सलाह बिना लिए ना करें।

  • लिवर रोग
  • पीलिया
  • एनीमिया
  • पाचन संबंधी समस्याएं
  • हेपेटाइटिस
  • मूत्र विकार
  • प्रमेह रोग
  • हृदय विकार

लिव अमृत सिरप के दुष्प्रभाव – Side Effects in Hindi

प्राकृतिक घटकों से निर्मित इस सिरप को निर्धारित मात्रा में इस्तेमाल करने से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। यह एक सुरक्षित दवा है, लेकिन इसके बावजूद इसकी अति या दुरूपयोग बिल्कुल न करें।

पढ़िये: आदिवासी नीलांबरी हेयर ऑइल | Mahatriphala Ghrita in Hindi

लिव अमृत सिरप की खुराक – Dosage in Hindi

खुराक विशेषज्ञ द्वारा Liv Amrit Syrup की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है। इसलिए Liv Amrit Syrup का उपयोग विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद शुरू करें।

Liv Amrit Syrup को एक सामान्य व्यक्ति दिन में 1 से 2 टेबल स्पून सुबह-शाम ले सकता है।

बच्चों में इसकी आधा चम्मच खुराक सुबह व शाम दिन में दो बार दे सकते है।

इसे भोजन करने से पहले इस्तेमाल करें। इस दवा को लंबे समय तक इस्तेमाल करने से पहले डॉक्टर की सलाह अवश्य लें।

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित Liv Amrit Syrup का उपयोग जल्द करें। अगली खुराक Liv Amrit Syrup की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानियां – Liv Amrit Syrup Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में Liv Amrit Syrup के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में Liv Amrit Syrup से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, विशेषज्ञ को अवस्था बताकर ही Liv Amrit Syrup की खुराक लें।

पढ़िये: केराग्लो इवा टैबलेट | Dabur Laxirid Syrup in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.