निर्माता

Patanjali Ayurved Ltd

कीमत

Rs 90 (200 ml)

Liv Amrit Syrup की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन पुनर्नवा + अर्जुन + भृंगराज + त्रिफला + गिलोय + मुलेठी + दारूहल्दी + कालमेघ + भूमि आंवला + कुटकी + अमलतास
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
liv amrit syrup

Patanjali Liv Amrit Syrup Benefits in Hindi: उपयोग, नुकसान, खुराक

परिचय

लिव अमृत सिरप क्या है? – What is Liv Amrit Syrup in Hindi

लिव अमृत सिरप शुद्ध प्राकृतिक जड़ी-बूटियों के योग से निर्मित एक आयुर्वेदिक उपाय है, जो शरीर के सबसे बड़े आंतरिक अंग लिवर से जुड़ी समस्याओं का समाधान करता है।

यह एक ओवर द काउंटर प्रॉडक्ट है, जिसे डॉक्टर की पर्ची के बिना आसानी से खरीदा जा सकता है।

यह अमृत सिरप शरीर से विषाक्त पदार्थों को हटाने, चयापचय क्रियाओं को नियंत्रित करने तथा प्लीहा व पाचन संबंधी विकारों को दूर करने हेतु लिवर को दुरुस्त बनायें रख सकती है।

लिव अमृत सिरप फैटी लिवर, लिवर डैमेज और हेपेटाइटिस के मामलों में बेहद फायदेमंद साबित हो सकती है।

लिवर के कार्यों में लय स्थापित कर यह दवा लिवर स्वास्थ्य को लंबे समय तक बेहतर बनायें रख सकती है।

पढ़िये: हिमालया गुडुची टैबलेट | Amritdhara in Hindi

संयोजन

लिव अमृत सिरप की संरचना – Liv Amrit Syrup Composition in Hindi

इसमें निम्न घटक शामिल है-

पुनर्नवा + अर्जुन + भृंगराज + त्रिफला + गिलोय + मुलेठी + दारूहल्दी + कालमेघ + भूमि आंवला + कुटकी + अमलतास

लिव अमृत सिरप कैसे कार्य करती है?

  • पुनर्नवा लिवर को हेपेटाइटिस द्वारा संक्रमित होने से बचा सकता है। इस जड़ी-बूटी में पाये जाने औषधीय गुण किडनी स्टोन, पीलिया, डायबिटीज, एनीमिया जैसे कई बड़े लक्षणों का इलाज कर सकते है।
  • अर्जुन हृदय स्वास्थ्य के लिए अतिउत्तम औषधि है। इससे स्थायी लाभ होता है और यह उच्च रक्तचाप व हाई कोलेस्ट्रॉल के मामलों में बेहद फायदेमंद हो सकता है।
  • भृंगराज में विषहरण गुण पाया जाता है, जो विषाक्त पदार्थों को खत्म कर लिवर को प्रभावित होने से बचा सकता है और पाचन शक्ति में सुधार के सकता है।
  • त्रिफला चयापचय क्रियाओं को संतुलित कर भूख से जुड़ी परेशानी को दूर कर सकता है। यह भूख में वृद्धि करने, लाल रक्त कोशिकाओं को बनाने व इम्युनिटी बढ़ाने में फायदेमंद हो सकता है।
  • गिलोय हाइपोग्लाइसेमिक गुण होता है, जो डायबिटीज में बेहद अच्छा परिणाम देता है। इसके अलावा, यह रक्त को शुद्ध कर सकता है और संक्रमणों से लड़ सकता है।
  • मुलेठी लिवर के कार्यों में सुधार कर पाचन तंत्र को सुदृढ बनाने में मददगार हो सकती है। यह दर्द व सूजन के लक्षणों को ठीक कर सकती है और इसमें कोलेस्ट्रॉल को कम करने की भी क्षमता होती है।
  • दारुहल्दी लिवर रोगों के लिए उत्कृष्ट उपाय है। यह लिवर की सूजन को कम कर सकता है और उसके कार्यों में पुनः लय स्थापित कर सकता है। पाचन क्रिया को दुरुस्त कर यह घटक पाइल्स से बचाव कर सकता है।
  • कालमेघ लिवर में पित्त के रेगुलेशन को संतुलित रखता है। इसके अलावा, बार-बार आने वाले बुखार, पुराने बुखार, मलेरिया, टायफाइड आदि में काफी असरदार हो सकता है।
  • भूमि आंवला गैस्ट्रिक बीमारियों में राहतकारी हो सकता है। इसमें मौजूद गुण लिवर की रक्षा करते है और इसे डैमेज होने से बचा सकते है।
  • कुटकी लिवर सिरोसिस और पीलिया की गंभीर स्थितियों में भी लाभ पहुंचा सकती है। यह जीवाणुरोधी और विषाणुरोधी गुणों से भरपूर होती है इसलिए इसके इस्तेमाल से संक्रमण से छुटकारा पाया ज सकता है।
  • अमलतास में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट गुण प्रतिरक्षा शक्ति में सुधार कर सकते है।

पढ़िये: हिमालया ओफ्थाकेयर आई ड्रॉप्स | Himalaya Yashtimadhu in Hindi 

फायदे

लिव अमृत सिरप के उपयोग व फायदे – Liv Amrit Syrup Benefits & Uses in Hindi

निम्न अवस्था या विकार में लिव अमृत सिरप को विशेषज्ञ द्वारा रोगी को सलाह किया जाता है-

  • लिवर रोग
  • पीलिया
  • एनीमिया
  • पाचन संबंधी समस्याएं
  • हेपेटाइटिस
  • मूत्र विकार
  • प्रमेह रोग
  • हृदय विकार

दुष्प्रभाव

लिव अमृत सिरप के दुष्प्रभाव – Liv Amrit Syrup Side Effects in Hindi

प्राकृतिक घटकों से निर्मित इस सिरप को निर्धारित मात्रा में इस्तेमाल करने से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है।

यह एक सुरक्षित दवा है, लेकिन इसके बावजूद इसकी अति या दुरूपयोग बिल्कुल न करें।

पढ़िये: पतंजलि दिव्य धारा | Japani F Capsule in Hindi

खुराक

लिव अमृत सिरप की खुराक – Liv Amrit Syrup Dosage in Hindi

खुराक विशेषज्ञ द्वारा लिव अमृत सिरप की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है।

आमतौर पर, लिव अमृत सिरप की ज्यादातर मामलों में सुझाव की जाने वाली खुराक कुछ इस प्रकार है-

उत्पाद खुराक
use in hindi
Liv Amrit Syrup
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 2 बड़ी चम्मच
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने से पहले या बाद: खाने के बाद
  • उपचार अवधि: डॉक्टर की सलाह अनुसार

बच्चों में इसकी आधा चम्मच खुराक सुबह व शाम दिन में दो बार दे सकते है।

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित लिव अमृत सिरप का उपयोग जल्द करें। अगली खुराक लिव अमृत सिरप की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में लिव अमृत सिरप के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

भिन्न खाद्य सामग्री के साथ लिव अमृत सिरप की प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ लिव अमृत सिरप की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, लिव अमृत सिरप की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और लिव अमृत सिरप की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए लिव अमृत सिरप का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाएं लिव अमृत सिरप को अपने डॉक्टर की सलाह से लें।

ड्राइविंग

लिव अमृत सिरप के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

एलर्जी या अतिसंवेदनशीलता के मामलों में लिव अमृत सिरप का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

पढ़िये: बैद्यनाथ केसरी कल्प च्यवनप्राश | Dr Ortho Oil in Hindi

कीमत

लिव अमृत सिरप को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

पढ़िये: डाबर स्टिमुलेक्स ऑयल | Indulekha Hair Oil in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.