निर्माता

Himalaya Drug Company

कीमत

Rs 165 (60 Tablet)

Himalaya Guduchi Tablet की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन गिलोय (250 mg)
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं

हिमालया गुडुची टैबलेट के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Himalaya Guduchi Tablet in Hindi

परिचय

हिमालया गुडुची टैबलेट क्या है?-What is Himalaya Guduchi Tablet in Hindi

हिमालया गुडुची में मुख्य रूप से गुडुची का ही इस्तेमाल होता है और गुडुची को आयुर्वेद में गिलोय और अमृता नाम से भी जाना जाता है।

गिलोय एक बेल के रूप में होता है, जिसकी पत्तियां, जड़े और तने का इस्तेमाल आयुर्वेदिक दवाओं में किया जाता है। इस उत्पाद में गिलोय के तने का इस्तेमाल किया जाता है।

गिलोय वात, पित्त और कफ त्रिदोष को संतुलित कर बुखार, पीलिया, गठिया, डायबिटीज, कब्ज, अपच, विषाक्ता और मूत्र से जुड़े रोगों को ठीक करता है।

यह तासीर में गर्म होता है। इसमें कैल्शियम, फॉस्फोरस, कॉपर, आयरन, जिंक और मैगनीज जैसे पोषक तत्वों का भंडार होता है।

इस उत्पाद को खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची आवश्यक नहीं होती है क्योंकि यह एक OTC उत्पाद है, जिसे आयुर्वेदिक स्टोर या ऑनलाइन वेबसाइट के माध्यम से सरलतापूर्वक खरीदा जा सकता है।

पढ़िये: पंकज कस्तुरी ब्रेथ इजी | Arnica Montana in Hindi

संयोजन

हिमालया गुडुची टैबलेट की संरचना-Himalaya Guduchi Tablet Composition in Hindi

इसकी एक टैबलेट में गिलोय की 250 mg मात्रा होती है और अलग से कोई परिरक्षक, कृत्रिम कलर या स्वाद नहीं मिलाया गया है।

फायदे

हिमालया गुडुची टैबलेट के फायदे व उपयोग-Himalaya Guduchi Tablet Uses & Benefits in Hindi

हिमालया गुडुची से होने वाले फायदे कुछ इस प्रकार है-

  • यह उत्पाद श्वसन पथ के संक्रमण की रोकथाम कर आम एलर्जिक लक्षणों जैसे सर्दी, जुकाम और खाँसी से छुटकारा दिलाता है।
  • गुडुची सफेद रक्त कोशिकाओं (WBC) की गतिविधि को बढ़ाकर प्रतिरक्षा कार्यों में सुधार लाता है।
  • यह औषधि सामान्य कमजोरी और थकान के लक्षणों को दूर कर शारीरिक कार्यों में समन्वय स्थापित करने में मदद करता है।
  • इसमें एन्टी-पायरेटिक गुण पाये जाने के कारण, यह हर्बल औषधि बुखार को कम करने में मददगार साबित होती है।
  • गुडुची में पाये जाने वाले एंटी-इंफ्लामेटरी और एंटीऑक्सीडेंट गुण, सांस की समस्या से लेकर पेट की कई समस्याओं को दूर रखते है।
  • यह उत्पाद मधुमेह से पीड़ित मरीजों में होने वाले संक्रमित घाव को ठीक करने में मदद करता है। (और पढ़िये: डायबिटीज क्या है?)
  • गिलोय से पाचन संबंधी कई लक्षण जैसे दस्त और पेचिश की समस्या ठीक हो सकती है। यह पाचन तंत्र को मजबूत करने के लिए बहुत उपयोगी माना जाता है।
  • इसमें एंटी-अर्थराइटिक और एंटी-ऑस्टियोपोरोटिक गुण पाये जाते है, जो जोड़ो के दर्द व सूजन में राहत देती है।

पढ़िये: अमृतधारा के फायदे | Himalaya Ophthacare Eye Drops in Hindi

दुष्प्रभाव

हिमालया गुडुची टैबलेट के नुकसान-Himalaya Guduchi Tablet Side Effects in Hindi

हिमालया गुडुची का डॉक्टर की निगरानी में इस्तेमाल करने से कोई दुष्प्रभाव या नुकसान नहीं होता है। लेकिन इसकी अति या दुरुपयोग करने से ऑटोइम्यून बीमारियों का खतरा बढ़ सकता है।

यदि इस उत्पाद के सेवन से पेट में जलन और गैस की समस्या होती है, तो इसे लेना बंद कर दें और दोबारा शुरू करने के लिए किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक की मदद लें।

खुराक

हिमालया गुडुची टैबलेट की खुराक-Himalaya Guduchi Tablet Dosage in Hindi

उत्पाद खुराक

Himalaya Guduchi
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 1-2 टैबलेट
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: खाने के बाद
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी के साथ
  • उपचार अवधि: डॉक्टर की सलाह अनुसार

पढ़िये: हिमालया यष्टिमधु | Sapat Lotion in Hindi 

सावधानी

भोजन

हर प्रकार के खाद्य सामग्री के साथ गुडुची सुरक्षित है। आवश्यक पोषक तत्वों से भरपूर आहार लें।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ गुडुची की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, गुडुची की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और गुडुची की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए गुडुची का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, गुडुची के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

गुडुची के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

निम्न बीमारी होने पर गुडुची का सेवन ना करें, जैसे- एलर्जी, निम्न रक्तचाप और अतिसंवेदनशीलता

कीमत

पढ़िये: दिव्य धारा के फायदे | Japani F Capsule in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.