Panchatikta Ghrita Guggulu की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन नीम + पटोल + कंटकारी + वासा + गिलोय
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Panchatikta Ghrita in Hindi

पंचतिक्त घृत गुग्गुल के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Panchatikta Ghrita Guggulu in Hindi

परिचय

पंचतिक्त घृत गुग्गुल क्या है?-What is Panchatikta Ghrita Guggulu in Hindi

पंचतिक्त घृत गुग्गुल एक आयुर्वेदिक घृत है, जिसे पांच नेचुरल तत्वों के संयोजन से बनाया जाता है।

पंचतिक्त घृत का उपयोग मुख्य रूप से वात, कफ और पित्त संबंधी रोगों के उपचार हेतु किया जाता है। पंचतिक्त घृत अनचाहे संक्रमणों से भी रक्षा करता है।

पंचतिक्त घृत गुग्गुल टैबलेट भी मार्केट में उपलब्ध है, जिसे डॉक्टर की पर्ची के बिना आसानी से खरीद सकते है और इसमें रक्तशोधक व त्वचाविकारक गुण होते है।

इसके अतिरिक्त, पंचतिक्त घृत खांसी, बवासीर, कृमि संक्रमण, त्वचा संबंधी विकार (खुजली, सूखापन, जलन, सूजन, घाव आदि), अत्यधिक बलगम, भारी सांस आदि सभी परेशानियों का इलाज सहजता से करती है।

शरीर के भीतर विषाक्त पदार्थों की अधिकता में हो रहे कष्टों को मिटाने हेतु भी यह घृत एक बेहतरीन विकल्प है।

एलर्जी और अतिसंवेदनशीलता के मामलों में इस पंचतिक्त घृत के सेवन में पूरी तरह बचा जाना चाहिए। (और पढ़िये: अतिसंवेदनशीलता क्या है?)

पढ़िये: विडंगारिष्ट | Pippalyasava in Hindi

संयोजन

पंचतिक्त घृत गुग्गुल की संरचना-Panchatikta Ghrita Guggulu Composition in Hindi

निम्न घटक पंचतिक्त घृत गुग्गुलु में होते है-

नीम + पटोल + कंटकारी + वासा + गिलोय

पंचतिक्त घृत गुग्गुल कैसे काम करती है?

इस पंचतिक्त घृत गुग्गुल की कार्य क्षमता इसमें उपस्थित तत्वों की गुणवत्ता पर आधारित होती है।

  • नीम की उपस्थिति इस पंचतिक्त घृत को ओर प्रभावशाली बनाती है। नीम एक बेहतरीन एंटीफंगल एजेंट है, जो त्वचा संबंधी रोगों के निदान हेतु लाभकारी है। साथ ही, यह रक्त की शुद्धि कर शारीरिक सौंदर्य को बढ़ाने का भी कार्य करता है। (और पढिये: Skin Tips in Hindi)
  • पटोल के पत्ते एक रेचक का कार्य करते है, जो आंतों के तनाव को सुधारकर कृमि संक्रमणों का इलाज करते है और पाचन तंत्र को मजबूत करते है।
  • कंटकारी स्वाद में कड़वा होता है, जो सर्दी, गले में खराश, मांसपेशियों में दर्द, बुखार, यकृत का बढ़ना आदि सभी के इलाज में कारगर है। (और पढ़िये: Fever Facts in Hindi)
  • वासा एक बेहतरीन प्राकृतिक तत्व है जिसमें ढेर सारे गुण पाये जाते है। यह एक एंटी-एलर्जी, एंटीबैक्टीरियल, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटीवायरल, एंटीसेप्टिक, मूत्रवर्धक आदि सभी गुणों से निहित होता है। यह सूजन, बुखार, गठिया, खुजली आदि सभी के इलाज में सहायक है।
  • गिलोय ब्लड शुगर को कम करने का कार्य करता है। साथ ही यह पीलिया, अपच, गोनोरिया, ल्यूकोरिया, मधुमेह आदि सभी बड़े विकारों का भी इलाज करता है।

फायदे

पंचतिक्त घृत गुग्गुल के उपयोग व फायदे-Panchatikta Ghrita Guggulu Uses & Benefits in Hindi

पंचतिक्त घृत गुग्गुल के नियमित सही सेवन के निम्न उपयोग व फायदे है।

  • वात, कफ, पित्त के इलाज में फायदेमंद
  • शारीरिक गतिविधियां सामान्य रखने में उपयोगी
  • त्वचा की परेशानियों का निदान
  • बाहरी घावों का फटाफट भरना
  • बवासीर में फायदेमंद
  • खांसी का अंत
  • न ठीक होने वाले अल्सर के मामलों में बहुत ही ज्यादा कारगर
  • विषाक्ता को मिटाने में सहायक
  • कृमि संक्रमणों से पहुँची हानि की भरपाई
  • पाचन शक्ति में बढ़ोतरी
  • बुखार, खांसी, सर्दी, गले में खराश जैसे सामान्य लक्षणों में फायदेमंद
  • तंदुरुस्ती और चुस्ती
  • अपच से छुटकारा
  • हृदय को स्वस्थ रखने में फायदेमंद (और पढ़िये: Heart Facts in Hindi)

पढ़िये: अकीक पिष्टी Kumaryasava in Hindi

दुष्प्रभाव

पंचतिक्त घृत गुग्गुल के दुष्प्रभाव-Panchatikta Ghrita Guggulu Side Effects in Hindi

कुछ विषम परिस्थितियों में पंचतिक्त घृत गुग्गुल के गलत सेवन से दुष्प्रभाव हो सकते है, जैसे-

  • हल्का सिर दर्द
  • जी मचलाना
  • तेलीय चीजों के प्रति असंवेदना
  • अत्यधिक पसीना
  • तेलीय त्वचा
  • दस्त लगना

खुराक

पंचतिक्त घृत गुग्गुल की खुराक-Panchatikta Ghrita Guggulu Dosage in Hindi

उत्पाद खुराक

Panchatikta Ghrita
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 3 से 6 ग्राम
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: पहले
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी के साथ
  • उपचार अवधि: डॉक्टर की सलाह अनुसार

पढ़िये: आरोग्यवर्धिनी वटी | Kutajarishta in Hindi

सावधानी

भोजन

हर प्रकार के खाद्य सामग्री के साथ पंचतिक्त घृत गुग्गुल सुरक्षित है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ पंचतिक्त घृत गुग्गुल की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, पंचतिक्त घृत गुग्गुल की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

इस बारें में कोई पुख्ता जानकारी नहीं है। एल्कोहोल के साथ इसका सेवन करने से पहले चिकित्सक से परामर्श लें।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए पंचतिक्त घृत गुग्गुल का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, पंचतिक्त घृत गुग्गुल के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

हाँ, पंचतिक्त घृत गुग्गुल के सेवन के बाद गाड़ी चलाना बिल्कुल सुरक्षित है क्योंकि यह ड्राइविंग क्षमता को प्रभावित नहीं करता है।

लिवर

लिवर पर पंचतिक्त घृत गुग्गुल के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है, इसलिए लिवर दुर्बलता के मामलें में डॉक्टर से सलाह लें।

किडनी

किडनी पर पंचतिक्त घृत गुग्गुल के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

अन्य बीमारी

अन्य बीमारी के साथ पंचतिक्त घृत गुग्गुल की प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

कीमत

पढ़िये: लाक्षादि गुग्गुल Makardhwaj Vati in Hindi

सवाल-जवाब

क्या पंचतिक्त घृत गुग्गुल मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है?

पूर्णतया आयुर्वेदिक तत्वों से बना पंचतिक्त घृत गुग्गुल मासिक धर्म चक्र को बिल्कुल प्रभावित नहीं करता है।

क्या पंचतिक्त घृत गुग्गुल भारत में लीगल है?

हाँ, पंचतिक्त घृत गुग्गुल भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: अभयारिष्ट | Lodhrasava in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.