Lodhrasava की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन लोध्र + आंवला + कचूर + पुश्कर्मूल + धायपुष्प + इलायची + मुरवा + अज्वैन + चव्य + अतिविषा + प्रियांगु + चिरायता + टगर + कुटकी + भारंगी + चित्राक + पिपलामूल + कुटज + कूठ + पाठा + इन्द्रजौ + नागकेसर + मुस्ताक + तेजपत्ता + काली मिर्च + पानी + शहद + सुपारी + इंद्रावरूनी
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Lodhrasava in Hindi

लोध्रासव के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Lodhrasava in Hindi

परिचय

लोध्रासव क्या है?-What is Lodhrasava in Hindi

लोध्रासव को कई अन्य नामों से भी जाना जाता है, जैसे लोध्रसव और रोद्रसाव।

यह हर्बल पदार्थों से बनी एक आयुर्वेदिक दवा है, जिसकी तरल रूप में मौखिक खुराक ली जाती है।

इस आयुर्वेदिक सिरप का उपयोग महिलाओं और पुरुषों में मूत्र से संबंधी हर तरह के विकारों के इलाज में किया जाता है।

इसके साथ ही, इस सिरप का इस्तेमाल गर्भाशय की कई जटिलताओं को दूर करने में भी किया जा सकता है।

लोध्रासव को डाबर और बैधनाथ द्वारा बनाया जाता है, जिन्हे खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची नहीं चाहिए। (और पढ़िये: डॉक्टर की पर्ची कैसे पढ़े?)

इसके अलावा, बहुत से ज्ञात विकारों जैसे ल्यूकोडर्मा, एनीमिया, ल्यूकोरिया, मेनोरेजिया, मोटापा, यौन संबंधी रोगों, पाइल्स, त्वचा रोग, रक्त प्रदर, श्वेत प्रदर, बांझपन आदि सभी से निजात पाने में भी यह दवा पूरी तरह सहायक है।

पढ़िये: बृहत्यादी कश्यम | Brihatyadi Kashayam in Hindi

संयोजन

लोध्रासव की संरचना-Lodhrasava Composition in Hindi

निम्न घटक लोध्रासव में एक निश्चित अनुपात में होते है।

लोध्र + आंवला + कचूर + पुश्कर्मूल + धायपुष्प + इलायची + मुरवा + अज्वैन + चव्य + अतिविषा + प्रियांगु + चिरायता + टगर + कुटकी + भारंगी + चित्राक + पिपलामूल + कुटज + कूठ + पाठा + इन्द्रजौ + नागकेसर + मुस्ताक + तेजपत्ता + काली मिर्च + पानी + शहद + सुपारी + इंद्रावरूनी

लोध्रासव कैसे काम करती है?

  • लोध्रासव में बहुत-से तत्व शामिल होने के कारण इसकी कार्यशैली बहुत प्रभावशाली है। यह सिरप कफ का अंत करने का कार्य भी करती है।
  • यह सिरप यौन संचारित रोगों से बचने में भी मदद करती है। साथ ही, यह सिरप हार्मोन असंतुलन ठीक कर इसकी वजह से पैदा हुए विकारों का इलाज भी बड़ी सरलता से कर सकती है।
  • यह सिरप महिलाओं में अंड का निषेचन अच्छे से करने का कार्य करती है और बार-बार हो रहें गर्भपात को दूर कर एक सुरक्षित गर्भ ठहराव करने में सहायक है।
  • इस सिरप से रक्त का शुद्धिकरण हो सकता है और रक्त के प्रवाह की गतिशीलता एकदम सामान्य हो सकती है, जिससे त्वचा संबंधी विकारों के इलाज में मदद मिलती है।

पढ़िये: स्फटिक भस्म | Khadirarishta in Hindi 

फायदे

लोध्रासव सिरप के फायदे व उपयोग-Lodhrasava Syrup Uses & Benefits in Hindi

लोध्रासव के नियमित सही सेवन के निम्नलिखित उपयोग व फायदे है।

  • अनावश्यक चर्बी का नाश कर मोटापा कम करना
  • ज्यादा रक्तस्राव को नियंत्रित करना
  • गर्भ को विकसित करने में मददगार
  • खून में कमी की भरपाई
  • रक्तप्रदर, श्वेतप्रदर रोगों से छुटकारा
  • शारीरिक थकावट मिटाना
  • गर्भ का ठहराव
  • मूत्र विकारों से बचाव
  • कफ और पित्त से जुड़े रोगों के इलाज में सहायक
  • लिवर और किड़नी को प्रबलता प्रदान करना
  • बांझपन को दूर करना
  • रक्त का शुद्धिकरण
  • एनीमिया और पाइल्स का इलाज
  • त्वचा रोगों जैसे खुजली, एलर्जी, दाग-धब्बों आदि में कारगर
  • हृदय स्वास्थ्य बेहतर बनाएँ (और पढ़िये: Heart Facts in Hindi)

दुष्प्रभाव

लोध्रासव के दुष्प्रभाव-Lodhrasava Side Effects in Hindi

लोध्रासव को दवा के रूप में आयुर्वेदिक तौर-तरीकों से इस्तेमाल करने पर इसके नगण्य नुकसान है।

ज्यादातर इस दवा का इस्तेमाल महिलाओं द्वारा किया जाता है, क्योंकि इसका मुख्य कार्य गर्भाशय की जटिलता को संभालना है।

पुरुषों में इस दवा का सेवन कम से कम करने की सलाह दी जाती है। यह नर हार्मोन में भारी गिरावट का कारण बन सकती है, जिससे कई मर्दाना विषम स्थितियां पैदा हो सकती है।

इस सिरप की ज्यादा या गलत खुराक व शरीर के साथ गलत व्यवहार किये जाने पर निम्न दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते है।

  • अत्यधिक गर्मी महसूस होना
  • चिड़चिड़ापन
  • खुजली
  • सिरदर्द
  • कामेच्छा में कमी आदि।

पढ़िये: द्राक्षासव सिरप Ashokarishta in Hindi

खुराक

लोध्रासव की खुराक-Lodhrasava Dosage in Hindi

एक स्वस्थ व्यक्ति लोध्रासव की खुराक, इसकी बोतल पर अंकित निर्देशों के अनुसार लें सकता है।

लेकिन कोई गंभीर बीमारी होने पर, इस सिरप को सदैव किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह से इस्तेमाल करें।

उत्पाद खुराक

Lodhrasava
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 10 से 15 ml
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: बाद
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी के साथ
  • उपचार अवधि: 3 महीने

5 वर्ष से अधिक आयु के बच्चों में इसकी खुराक दिन में 2.5-10ml लघुकालिक अवधि के लिए दी जा सकती है।

खुराक में बिना डॉक्टरी सलाह बदलाव करने से बचें। गंभीरता के आधार पर खुराक को कम या ज्यादा करने हेतु डॉक्टर से परामर्श लेवें।

छूटी खुराक की ओर ध्यान देते हुए जल्द से जल्द उसे लेने के बारें में करवाई करें। अनावश्यक खुराक लेने से बचें।

ओवरडोज का खतरा महसूस होते ही खुराक पर रोक लगाकर जल्द से जल्द चिकित्सा सुविधा तलाश करें।

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में लोध्रासव के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

लोध्रासव की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ लोध्रासव की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, इस दवा में उपस्थित सभी हर्बल उत्पादों के कारण इसकी आदत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब के साथ लोध्रासव के सेवन से परहेज़ रखें।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए लोध्रासव का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, लोध्रासव के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

लोध्रासव के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

अन्य कोई बड़ी बीमारी होने पर लोध्रासव का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

पढ़िये: बैद्यनाथ भृंगराजासव | Dabur Honitus Hot Sip in Hindi

कीमत

पढ़िये: झंडू केसरी जीवन | Pain Niwaran Churna in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.