Khadirarishta की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन खदिरा + देवदारु + बाकुची + दारूहरिद्रा + हरीतकी + विभितकी + आमलकी + शहद + धातकी + नागकेसर + लवंग + इलायची + पिप्पली
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Khadirarishta in Hindi

खादिरारिष्ट के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Khadirarishta in Hindi

परिचय

खदिरारिष्ट क्या है? – What is Khadirarishta in Hindi

खदिरारिष्ट 18 प्राकृतिक जड़ी-बूटियों से निर्मित एक पॉली हर्बल आयुर्वेदिक फार्मूलेशन है।

इस तरल को बनाने की प्रक्रिया के दौरान फेरमेंटेशन के कारण, इसमें 5 से 10% सेल्फ जनेरेटेड एल्कोहोल होता है, जो हमारी बॉडी को डिटॉक्सिफाई करता है।

खदिरारिष्ट तरल गहरे भूरे रंग का होता है, जो स्वाद में थोड़ा कसैला होता है इसलिए इसे पानी के साथ लिया जाता है।

खदिरारिष्ट को कई बड़ी हर्बल कम्पनियों जैसे पतंजलि, डाबर, बैद्यनाथ, सांडू और केरला आयुर्वेदा द्वारा बनाया जाता है, जिसे खदिरारिष्ट और खदिरारिष्टम नाम भी दिया गया है।

खदिरारिष्ट को खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची नहीं चाहिए क्योंकि यह एक OTC प्रॉडक्ट है।

पढ़िये: द्राक्षासव सिरप | Ashokarishta in Hindi

निर्माण विधि

खदिरारिष्ट को बनाने के लिए, खदिरा, देवदारु, बाकुची, दारुहरिद्रा, हरीतकी, विभितकी और आंवला का बिल्कुल बारीक पाउडर उपयोग में लिया जाता है।

इन सभी घटकों के पाउडर को मिक्स कर, पर्याप्त पानी के साथ गर्म किया जाता है।

जब एक चौथाई पानी उड़ जाता है तब यह मिक्सचर काढ़े का रूप लेता है।

फिर इसे फिल्टर किया जाता है और इसमें मीठे स्वाद के लिए शुगर मिलाई जाती है और अच्छे से मिक्स करने के बाद इसे वापस फिलटर किया जाता है।

फिर बाकी की सामग्रियों को मिलाकर, इसे वायुरोधी बर्तनों में रखा जाता है। इन बर्तनों में इस काढ़े का घी के साथ फेरमेंटेशन किया जाता है और एक महीने बाद फ़िल्टर कर यह पूरी तरह से तैयार हो जाता है।

खदिरारिष्ट 10 साल तक खराब नहीं होता है, लेकिन एक बार बोतल खोलने के बाद इसे 2 महीनों के भीतर खत्म करना चाहिए।

संयोजन

खदिरारिष्ट की संरचना – Khadirarishta Composition in Hindi

इस आयुर्वेदिक घोल को निर्मित करने में लगी हर्बल सामग्रियों की सूची निम्नलिखित है।

खदिरा + देवदारु + बाकुची + दारूहरिद्रा + हरीतकी + विभितकी + आमलकी + शहद + धातकी + नागकेसर + लवंग + इलायची + पिप्पली

पढ़िये: लॉन्ग लुक्स कैप्सूल | Rogan Badam Oil in Hindi 

खदिरारिष्ट कैसे काम करती है?

  • खदिरारिष्ट, बैक्टीरिया का विकास रोककर चेहरे से कील-मुहांसे साफ करता है। यह तरल त्वचा पर मवाद से भरी गांठे, व्हाइट हेड्स और ब्लैकहेड्स के खिलाफ भी रिजल्ट देता है।
  • खदिरारिष्ट, स्किन पर तेल के अतिरिक्त उत्पादन को कम कर फोड़े-फुंसियों को ठीक करता है।
  • यह हर्बल तरल रक्त को शुद्ध कर क्रोनिक स्किन डिजीज यानी पुराने त्वचा रोगों जैसे ल्युकोडर्मा, लेप्रोसी, दाद और सोरायसिस का इलाज करता है।
  • खदिरारिष्ट एटोपिक डर्मेटाइटिस और एक्जिमा का इलाज कर खुजली, पपडीदार त्वचा और जलन को दूर में मदद करता है। हालांकि डर्मेटाइटिस और एक्जिमा एक गंभीर चर्म रोग है, इसलिए इन मामलों में खदिरारिष्ट को लेने से पहले स्किन डॉक्टर से जांच अवश्य करायें।
  • खदिरारिष्ट स्किन प्रॉब्लम्स के अलावा अन्य कई कंडीशन्स में भी फायदेमंद होता है। जैसे-
  • यह अस्थमा, ब्रोन्कियल कंजेशन, सांस लेने में तकलीफ जैसी कई श्वशन संबंधी समस्याओं का समाधान कर सकता है।
  • खदिरारिष्ट में रेचक के गुण भी पाए जाते है, जिस कारण यह कब्ज को ठीक कर मेटाबोलिज्म में सुधार करता है और पाचन स्वास्थ्य को बेहतर बनाता है।
  • इसमें कृमिनाशक गुण होता है, जो परजीवियों को बाहर निकालकर शरीर को पोषण देता है।
  • खदिरारिष्ट ट्राईग्लिसराइड को कम करने में सहायक है, जिससे हृदय का स्वास्थ्य बेहतर होता है।

फायदे

खदिरारिष्ट के फायदे व उपयोग – Khadirarishta Uses & Benefits in Hindi

निम्न उपयोग व फायदे खदिरारिष्ट के नियमित सही सेवन करने के है।

  • श्वसन दर में कमाल की बढ़ोतरी
  • त्वचा हानि की तेजी से भरपाई
  • अस्थमा में लाभदायक
  • शारीरिक सौंदर्य में निखार
  • त्वचा को कोमलता प्रदान करना
  • रक्त का प्रवाह सुधारना
  • हृदय को स्वस्थ बनायें रखने में फायदेमंद
  • पेट की अच्छे से सफाई
  • कृमि नाशक के रूप में
  • अच्छा पाचन स्वास्थ्य प्रदान करना
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार
  • चयापचयी क्रियाओं में निरंतरता
  • लिवर की दुर्बलता दूर करना
  • पीलिया के उपचार में सहायक
  • ब्लैकहेड्स और व्हाइटहेड्स से निजात
  • दर्द और सूजन से राहत
  • पित्त को कम करने में फायदेमंद
  • एनीमिया और ट्यूमर के इलाज में सहायक

पढ़िये: रूमा ऑइल | Dabur Honitus Hot Sip in Hindi 

दुष्प्रभाव

खदिरारिष्ट के दुष्प्रभाव – Khadirarishta Side Effects in Hindi

इसकी अति या दुरुपयोग से कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हो सकते है-

  • गैस्ट्रिक समस्याएं
  • सीने में जलन
  • पेट में जलन इत्यादि।

दुष्प्रभाव दिखने पर खदिरारिष्ट का इस्तेमाल बंद कर दें और किसी अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह पर ही इसे दोबारा शुरू करें।

खुराक

खदिरारिष्ट की खुराक – Khadirarishta Dosage in Hindi

उत्पाद खुराक

Khadirarishta
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 2 छोटी चम्मच
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: बाद
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी के साथ
  • उपचार अवधि: 1 महीने

5 साल से बड़े बच्चों को पूरे दिन 1 से 2 चम्मच दे सकते है।

ओवरडोज़ महसूस होते ही खुराक बंद कर तुरुंत नजदीकी चिकित्सा सुविधा तलाश करें।

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित खदिरारिष्ट सेवन जल्द करें। अगली खुराक खदिरारिष्ट की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: हेमपुष्पा सिरप Takzema Ointment in Hindi 

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में खदिरारिष्ट के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

हर प्रकार के खाद्य सामग्री के साथ खदिरारिष्ट सुरक्षित है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ खदिरारिष्ट की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, खदिरारिष्ट की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब के साथ खदिरारिष्ट के सेवन से परहेज़ रखें।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए खदिरारिष्ट का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, खदिरारिष्ट के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

खदिरारिष्ट के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

लिवर

लिवर पर खदिरारिष्ट का कोई प्रभाव नहीं होता है।

किडनी

किडनी पर खदिरारिष्ट का कोई गलत प्रभाव नहीं होता है।

अन्य बीमारी

डायबिटीज के मामलों में खदिरारिष्ट का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें क्योकि इसमे शुगर और शहद होता है।

कीमत

खदिरारिष्ट को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

पढ़िये: हेमपुष्पा सिरप Takzema Ointment in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.