Ashokarishta की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन अशोक छाल + मुस्ता + हरीतकी + विभितकी + जीरा + वासा + धाताकी फूल आदि
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Ashokarishta in Hindi

अशोकारिष्ट के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Ashokarishta in Hindi

परिचय

अशोकारिष्ट क्या है? – What is Ashokarishta in Hindi

पीरियड्स काल हर महिला के लिए एक कठिनाई से भरा समय होता है।

इस दौरान होने वाली असंगत परेशानियों से राहत पाने में अशोकारिष्ट बहुत उपयोगी आयुर्वेदिक दवा है।

इस दवा को हर्बल घटकों के साथ आयुर्वेदिक तरीके से निर्मित किया जाता है।

अशोकारिष्ट विशेषकर महिलाओं के लिए है और उन मुश्किलों दिनों में बेहद असरदार है।

इसका उपयोग हार्मोन असंतुलन, मासिक धर्म विकार, अतिरिक्त रक्त प्रवाह, प्रदर रोग, कोलाइटिस, अल्सर, खराब गर्भाशय और अन्य सभी स्त्री रोगों के इलाज में कुशलता से किया जाता है।

इस दवा को मौखिक रूप से ग्रहण किया जाता है और इसमें पहले से 5-10% स्वयं निर्मित एल्कोहोल होता है।

यह एक OTC उत्पाद है, जिसे खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची आवश्यक नहीं है।

अशोकारिष्ट बाज़ार में निम्न कंपनी के उत्पाद रूप में प्रचलित है।

  • Dabur Ashokarishta Tonic
  • Baidyanath Ashokarishta Syrup
  • Multani Ashokarishta
  • Sandu Ashokarishta
  • Kerala Ayurveda Ashokarishtam
  • Zandu Ashokarishta

पढ़िये: लॉन्ग लुक्स कैप्सूल | Rogan Badam Oil in Hindi 

संयोजन

अशोकारिष्ट की संरचना – Ashokarishta Composition in Hindi

अशोकारिष्ट को बनाने में लगने वाली मुख्य आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां निम्नलिखित है।

अशोक छाल + मुस्ता + हरीतकी + विभितकी + जीरा + वासा + धाताकी फूल आदि

अशोकारिष्ट कैसे कार्य करती है?

इस दवा में Analgesic (दर्द निवारक) और Anti-inflammatory (सूजन रोधी) गुण होने के कारण, यह औषधि मासिक धर्म के दर्द और प्रजनन अंग में सूजन को कम करने का कार्य करती है।

  • अशोक की छाल त्वचा के लिए लाभकारी होती है और सौंदर्य निखारने के काम आती है।
  • धातकी में हीलिंग गुण होते हैं, जो महिला स्वास्थ्य को जल्दी रिकवर करने में सहायक है।
  • मुस्ता में भूख बढ़ाने वाले और सूजनरोधी गुण होते है। साथ ही, ये गर्भाशय की अच्छी देखरेख में सहायता करता है।
  • हरितकी में एंटीऑक्सीडेंट और प्रतिरक्षात्मक गुण होते है, जो सामान्य कमजोरी को दूर करने का कार्य करता है।
  • इसके अतिरिक्त यह दवा मासिक धर्म के दौरान संक्रमणों को पैदा होने या फैलने से रोककर अपना असर सिद्ध करती है।

पढ़िये: रूमा ऑइल | Dabur Honitus Hot Sip in Hindi 

फायदे

अशोकारिष्ट के फायदे व उपयोग – Ashokarishta Benefits & Uses in Hindi

अशोकारिष्ट से होने वाले फायदों का असर शरीर पर लंबे समय के लिए रहता है।

इस आयुर्वेदिक दवा की नियमित जरूरत अनुसार सही खुराक लेने पर निम्न फायदे हो सकते है।

  • भारी ब्लीडिंग का इलाज
  • भूख की कमी को दूर करना
  • रक्त अर्श में लाभदायक
  • महिला प्रजनन प्रणाली को सुदृढ़ बनाना
  • गर्भ ठहराव में सहायक
  • गर्भाशय की सिकुड़न दूर कर मासिक धर्म के दर्द और ऐंठन से राहत
  • खूनी बवासीर और पेचिश की समस्या का निपटारा
  • कोलाइटिस और अल्सर का इलाज
  • हार्मोन में गड़बड़ी का सुधार करना
  • मेनोपॉज के कारण मिनरल्स की कमी को संतुलित करने में मददगार
  • अंड निषेचन प्रक्रिया का सही से संचालन
  • अंडाशय और गर्भाशय की सूजन को दूर करना
  • पॉलीस्टिक सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) में फायदेमंद
  • बाल झड़ना, मुहांसे और वजन बढ़ने जैसी समस्याओं का निवारण
  • महिलाओं की सहनशक्ति को बढ़ाना
  • एक मजबूत पाचन तंत्र की नींव रखना
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा
  • मल-मूत्र त्याग को आसान बनाना
  • पेट दर्द और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को

दुष्प्रभाव

अशोकारिष्ट के दुष्प्रभाव – Ashokarishta Side Effects in Hindi

महिलाओं में यह उत्पाद काफी सुरक्षित है, लेकिन हर किसी की अवस्था और जरूरत अलग होती है।

कुछ महिलाओं में अशोकारिष्ट के कुछ मामूली दुष्प्रभाव देखे गए हैं। इसलिए इस दवा के नुकसान से बचने के लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर का सहारा लेना उचित है।

  • सीने में जलन
  • पीरियड्स में देरी
  • मासिक धर्म में रक्त के प्रवाह की कमी
  • उच्च रक्तचाप
  • अरुचि आदि

पढ़िये: हेमपुष्पा सिरप Takzema Ointment in Hindi 

खुराक

अशोकारिष्ट की खुराक – Ashokarishta Dosage in Hindi

अशोकारिष्ट की खुराक विभिन्न मरीजों में अलग हो सकती है।

सुरक्षित खुराक हर किसी के स्वास्थ्य के लिए महत्व रखती है, इसलिए इस दवा की खुराक चिकित्सा सुविधा के अनुसार ही शुरू करें।

उत्पाद खुराक

Ashokarishta
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 10 से 15 ml
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: खाने के बाद
  • लेने का माध्यम: पानी के साथ
  • उपचार अवधि: 1 महीने

18 से कम उम्र में यह दवा चिकित्सा के नजरिये से अनुशंसित नहीं है।

पीरियड्स में देरी होने की स्थिति में इसका सेवन 10 ml बिना पानी के अकेले करने से बेहद अच्छा परिणाम मिलता है।

दवा की खुराक को कम या ज्यादा किया जा सकता है, लेकिन इसके लिए अपने चिकित्सक की सलाह ले।

यदि कोई खुराक भूलवश छूट जाएं, तो समय रहते छूटी खुराक का सेवन कर लेना चाहिए। एक साथ दो खुराक कभी न लें।

ओवरडोज होने पर खुराक बंदकर तुरंत चिकित्सा सहायता तलाश करें।

सावधानी

भोजन

हर प्रकार के खाद्य सामग्री के साथ अशोकारिष्ट सुरक्षित है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ अशोकारिष्ट की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, अशोकारिष्ट की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और अशोकारिष्ट की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए अशोकारिष्ट का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, अशोकारिष्ट के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

अशोकारिष्ट के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

कुछ बीमारी होने पर अशोकारिष्ट का सेवन डॉक्टर की सलाह से करें, जैसे- मधुमेह, रक्त कैंसर, अतिसंवेदनशीलता, भ्रम इत्यादि।

पढ़िये: हेमपुष्पा सिरप Takzema Ointment in Hindi 

कीमत

अशोकारिष्ट को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

पढ़िये: झंडू केसरी जीवन | Pain Niwaran Churna in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.