निर्माता

Rajvaidya Shital Prasad & Sons

कीमत

Rs 550 (454 ml)

Hempushpa Syrup की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन लोधरा + मंजिष्ठा + अनंतमूल + बाला + गोखरू + शंखपुष्पी + मुसली + पुनर्नवा + अश्वगंधा + बच + धईफुल + दारूहल्दी + गंभारी + नागरमोठा + शतावरी
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
hempushpa-in-hindi

हेमपुष्पा के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Hempushpa in Hindi

परिचय

हेमपुष्पा क्या है? – What is Hempushpa in Hindi

हेमपुष्पा एक आधुनिक तकनीक से बनाई हुई आयुर्वेदिक औषधि है, जो केवल महिलाओं के लिए बनाई गई है।

हेमपुष्पा खून की अनियमितता, असमय होना, बेचैनी, चिड़चिड़ापन, शारीरिक कमजोरी, दर्द से पेट मे सुई चुभना, थकान होना, वजन कम होना आदि सभी मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं का समाधान करता है।

यह महिलाओं को स्वस्थ बनाकर चुस्ती एवं ताजगी प्रदान करने, रक्त साफ करने और सौन्दर्य निखारने में सहायक है।

साथ ही, महिलाओं में इन मुश्किल दिनों में हॉर्मोन अंसतुलन होता है, जिसकी वजह से मुँह पर पिंपल और बाल उगते है, इन सभी समस्याओं को दूर करने में भी कारगार है।

पढ़िये: केसरी कल्प च्यवनप्राश | Halwa Fauladi F in Hindi

संयोजन

हेमपुष्पा की संरचना – Hempushpa Composition in Hindi

हेमपुष्पा आयुर्वेदिक पदार्थ से मिलाकर बनाया जाता है, इसमे निम्न प्रमुख घटक है।

लोधरा + मंजिष्ठा + अनंतमूल + बाला + गोखरू + शंखपुष्पी + मूसली + पुनर्नवा + अश्वगंधा + बच + धईफुल + दारूहल्दी + गंभारी + नागरमोठा + शतावरी     

फायदे

हेमपुष्पा के फायदे – Hempushpa Benefits in Hindi

हेमपुष्पा के जरूरत अनुसार उपयोग करने पर निम्न फायदे होते है।

  • पीरियड्स के दौरान ज्यादा खून बहने की स्थिति में एनीमिया रोग होता है, जिसे हेमपुष्पा द्वारा दूर किया जा सकता है।
  • हेमपुष्पा महिला हार्मोन (Astrogen & Projestron) का सामान्य अनुपात बनाये रखने में सहायक है।
  • मुँह पर मुँहासे और बाल उगना, बाल झड़ना आदि समस्याओं को रोकने में मदद करता हैं।
  • हेमपुष्पा मूत्र विसंगतियों को दूर करता हैं।
  • हेमपुष्पा पीरियड्स मे नियमितता लाने मे मदद करता है।
  • हेमपुष्पा अत्यधिक पेट दर्द, बेचैनी, चिड़चिड़ापन आदि समस्याओं का निवारण करता है।
  • गर्भाशय संबंधित हर समस्याओं को दूर करता है।
  • पीरियड्स से आयी कमजोरी, थकावट, तनाव आदि सबको दूर करता है।
  • कमजोरी दूर कर वजन को बढ़ाता है।
  • भुख लगाने में मदद करता है
  • प्रजनन और प्रजनन स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है
  • स्तनों में दुग्ध स्तर को बढ़ाता है।
  • पीरियड्स में खून (Bleeding) को ज्यादा बहने से रोकता है।
  • पाचन तंत्र को मजबूत करता है।

पढ़िये: खमीरा मरवारीद खास | Japani F Capsule in Hindi 

दुष्प्रभाव

हेमपुष्पा के दुष्प्रभाव – Hempushpa Side Effects in Hindi

यह टॉनिक पूरी तरह से महिलाओं के स्वास्थ्य को ध्यान में रख के बनाई गई है।

यह एक पूरी तरह सुरक्षित है और इससे साइड इफेक्ट न के बराबर है।

परन्तु इसके ज्यादा सेवन से शरीर का वजन ज्यादा बढ़ सकता है।

कभी-कभी ज्यादा दर्द से आराम दिलवाने के लिए, यह टॉनिक आँखों को भारी कर नींद लाने का काम करती है, इसलिए यह भी इसका एक साइड इफेक्ट है।

उपयोग

हेमपुष्पा के उपयोग – Hempushpa Uses in Hindi

महिलाओं मे मासिक धर्म (Periods) से जुड़ी हर समस्या को दूर करने में इसका उपयोग किया जाता हैं। जैसे

  • चक्कर आना
  • चेहरे पर मुँहासे
  • अनावश्यक बालों में
  • हार्मोन असंतुलन
  • दर्द के कारण सांस लेने में दिक्कत
  • Pubic (मादा जनन अंग) क्षेत्र में सूजन, जलन आदि
  • ज्यादा सफ़ेद पानी में
  • शीघ्रपतन में
  • स्टेमिना की कमी में
  • मानसिक थकान में
  • यौन रोगों में
  • खूनी की कमी में

पढ़िये: दिव्य धारा के फायदे | Sapat Lotion in Hindi 

खुराक

हेमपुष्पा की खुराक – Hempushpa Dosage in Hindi

हेमपुष्पा की खुराक कई हद तक उम्र व अवस्था पर निर्भर करती है। इसलिए अवस्था अनुसार किसी विशेषज्ञ या चिकत्सक की सलाह ले सकते है।

उत्पाद खुराक

हेमपुष्पा
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 2 छोटी चम्मच
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: बाद

सावधानी

भोजन

हर प्रकार के खाद्य सामग्री के साथ हेमपुष्पा सुरक्षित है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ हेमपुष्पा की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, हेमपुष्पा की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और हेमपुष्पा की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए हेमपुष्पा का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, हेमपुष्पा के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

हेमपुष्पा के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

अन्य कोई बड़ी बीमारी होने पर हेमपुष्पा का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

पढ़िये: जायफल के फायदे | Nagkesar in Hindi 

कीमत

सवाल-जवाब

क्या हेमपुष्पा पाचन तंत्र को ठीक करने में सहायक है?

यह पेट में पाचन के लिए स्त्रावित होने वाले सभी एंजाइमों को पूरी तरह नियंत्रित करता है, जिससे भोजन का पाचन आसानी से हो जाता है और पाचन तंत्र मजबूत हो जाता है।

क्या हेमपुष्पा का उपयोग मानसिक तनाव को दूर करने में किया जा सकता है?

हेमपुष्पा मासिक धर्म से संबंधित आए मानसिक तनाव, कमजोरी को दूर करने में सहायक है।

क्या हेमपुष्पा भारत में लीगल है?

हाँ, यह उत्पाद भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: हिमालया यष्टिमधु | Himalaya Ophthacare Eye Drops in Hindi

11 thoughts on “हेमपुष्पा के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Hempushpa in Hindi”

  1. Pure month use hempushpa lena h ki period k time bas or jb se ye le rahi hu daily sar dard hota h or teblet or tonic lene k bad chakkar bhi aata h aankho k samne andhera sa chha jata h kya kru continue lu ki nhi

  2. मेरी बीबी को बेटी हुई थी तब से लेकर अब तक उनको थकान कमजो री बदन में हाथ पैर में दर्द रहता है तो बताइए किया उनको हेमपुष्पा लेना चाहिएउनको हमेशा शरीर में दर्द बदन में दर्द कमजोरी बुखार दर्द हमेशा रहता है क्या इनको दोबारा एम पुष्पा लेना चाहिए अभिनंदन पुष्पा का पीलिया नहीं है इनकी समस्या बहुत ज्यादा हो गई है इससे हमारे कर्म इनका रुकता नहीं है आज 6 महीनों से प्रयास हो रहा है लेकिन का गर्भ ठहर नहीं रहा है कृपया करके मदद कीजिए कोई सलाह दीजिए क्या इनको हेमपुष्पा लेना चाहिए इसका सेवन इन को कैसे करना चाहिए मेरा नंबर है 96254 02848 कृपया मुझे इस पर कॉल करके कंफर्मेशन दीजिए इसकी सलाह मुझे मेरे लिए बहुत जरूरी है

Leave a Comment

Your email address will not be published.