honey in hindi

शहद क्या है? – What is Honey in Hindi

शहद एक घरेलू खाद्य पदार्थ जैसा हो गया है, जिसे चीनी के स्थान पर अधिकतर इस्तेमाल में लिया जाता है। इसे आयुर्वेदिक और यूनानी दवाई में बड़े स्तर पर उपयोग किया जाता है।

Advertisements

यह माजून फ्लास्फा, डाबर हनीटस सिरप, लालिमा सिरप जैसे उत्पाद में मुख्य घटक है।

आयुर्वेद में शहद को अनेक बीमारियों का इलाज बताया है, यह कई हर्बल दवाओं को बनाने में एक सहयोगी के रूप में काम आता है।

प्राकृतिक शहद को मधुमक्खी के छतों से हासिल किया जाता है, जो पूर्णतया शुद्ध और उच्च गुणवत्ता वाला होता है। आजकल जनसंख्या की अधिकता में हर किसी को शहद का पूर्ण शुद्ध रूप मिल पाना मुश्किल है, इसलिए कई विभिन्न प्रकार के शहद आज बाजार में देखने को मिलते है जैसे- मनुका शहद, लेदर वुड हनी, बकवीट हनी, रोजमेरी हनी, ब्लूबेरी हनी, क्लोवर हनी, अल्फाल्फा हनी, लैवेंडर हनी आदि।

आयुर्वेद चिकित्सा में भी शहद के कई रूपों का वर्गीकरण देखने को मिलता है जैसे- माक्षिक, पौतिक, भ्रामर, क्षौद्र, छात्र, आर्ध्य, औद्दालिक, दाल आदि।

शहद पोषक तत्वों से भरपूर स्रोत है, जो गाढ़ा लिक्विड होता है और स्वाद में मीठा होता है।

आप रोजाना कृत्रिम शहद का सेवन करते है, लेकिन आपको इससे फायदा नहीं मिलता है, तो प्रयोग में लिए जाने वाले शहद की जांच अवश्य करें। इसके लिए आपको कहीं जाने की आवश्यकता नहीं है, शहद की थोड़ी सी मात्रा को पानी में डालकर देखें अगर शहद पानी में आसानी से घुल जाता है, तो वह शहद नकली है।

एक अच्छी गुणवत्ता वाले शहद में पानी की मात्रा 18 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए।

पढ़िये: शंखपुष्पी के फायदे | Amla in Hindi

शहद के पौष्टिक तत्व – Honey Nutrition Facts in Hindi

शहद पोषक तत्व, विटामिन और मिनरल का एक समुच्चय स्रोत है। इसे लेने से शरीर में पौष्टिक तत्वों के स्तर में सकारात्मक बदलाव अवश्य हो सकता है।

पोषक तत्वमात्रा प्रति 100 ग्राम
प्रोटीन0.3 ग्राम
कार्बोहाइड्रेट82.4 ग्राम
फाइबर0.2 ग्राम
शुगर82.12 ग्राम
कैलोरी304 kcal
पानी17.1 ग्राम
मिनरल्स मात्रा प्रति 100 ग्राम
कैल्शियम6 मिलीग्राम
आयरन0.42 मिलीग्राम
मैग्नीशियम 2 मिलीग्राम
फास्फोरस 4 मिलीग्राम
पोटैशियम 52 मिलीग्राम
सोडियम 4 मिलीग्राम
जिंक 0.22 मिलीग्राम
मैंगनीज 0.08 मिलीग्राम
कॉपर 0.036 मिलीग्राम
सेलेनियम 0.8 माइक्रोग्राम
विटामिनमात्रा प्रति 100 ग्राम
विटामिन सी0.5 मिलीग्राम
राइबोफ्लेविन0.038 मिलीग्राम
नियासिन0.121 मिलीग्राम
फोलेट2 माइक्रोग्राम
कोलीन2.2 मिलीग्राम

पढ़िये: लौह भस्म के फायदे | Brahmi in Hindi

शहद के उपयोग व फायदे – Honey Uses & Benefits in Hindi

शहद से मिलने वाले फायदें कुछ इस प्रकार है।

त्वचा के लिए फायदेमंद

त्वचा से जुड़ी कई परेशानियों में शहद एक सफल उपचार हो सकता है। रूखी त्वचा में नमी लाने, त्वचा को कोमल बनाने और सौंदर्य बढ़ाने के लिए शहद काफी मददगार हो सकता है। त्वचा के कटने, छिलने और जलनें के मामलों में शहद का उपयोग करना बेहद फायदेमंद साबित होता है। इसके एंटीसेप्टिक और एंटीबैक्टीरियल गुण त्वचा की जलन तथा त्वचा संक्रमण से छुटकारा दिला सकते है।

घावों को जल्दी भरने में सहायक

घावों को भरने से पहले घाव को फैलने से रोकना पड़ता है। शहद के अंदर मौजूद फ्लेवोनॉयड और फेनोलिक एसिड जैसे तत्व शामिल होते है, ये प्रकृति में एंटीबैक्टीरियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी होते है, जो क्षतिग्रस्त कोशिकाओं की मरम्मत करने और उनकी सूजन को दूर करने में मददगार साबित होते है। यह नई कोशिकाओं का निर्माण कर त्वचा की परत को पूरा करता है।

गले की खराश को मिटाने में प्रभावी

ज्यादा तेज आवृत्ति से बोलने, लगातार बोलने या सर्दी-जुखाम से गले में खराश की समस्या होती है, जिसमें गले पर दबाव पड़ता है और किसी चीज को निगलने में मुश्किलात आती है। शहद के सेवन से गले की उत्तेजित मांसपेशियों को राहत मिलती है। शहद को अदरक के रस के साथ सेवन करने से गले की खराश से छुटकारा पाया जा सकता है।

एसिडिटी के लिए लाभकारी

शहद के सेवन से ज्यादा एसिड स्राव को कम किया जा सकता है, पेट की जलन की दूर किया जा सकता है तथा एसिड रिफ्लक्स की समस्या का निवारण किया जा सकता है।

मुँहासों के उपचार में प्रभावशाली

शहद में एंटी फंगल और एंटी माइक्रोबियल गुण शामिल होते है। यह त्वचा की गंदगी को साफ करने, ऑक्सीडेटिव तनाव को दूर करने और मुँहासों का सफल इलाज करने में प्रभावी सिद्ध हो सकता है।

बलगम की समस्या को दूर करने में सहायक

शहद में ब्रोंकोडाइलेटर गुण शामिल होता है, जो अतिरिक्त बलगम की समस्या को दूर कर सकता है। अतिरिक्त बलगम से होने वाली खाँसी, दमा, अस्थमा, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, छाती में जकड़न आदि स्थितियों के लिए शहद का उपयोग अच्छा साबित होता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार

शरीर को लोगों से लड़ने की शक्ति प्रदान करने और बाहरी हमलों से बचाव करने हेतु शहद प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने पर ध्यान देता है। यह स्वास्थ्य को आम लक्षणों को जल्दी घिरने नहीं देता है और लक्षणों के प्रति एंटीबॉडी का निर्माण तेज कर देता है।

हड्डियों को मजबूती देने में सक्षम

शहद की चिकनाहट हड्डियों के कार्यों को बरकरार रखने में मदद करती है। यह कमजोर हड्डियों को बल प्रदान कर हड्डियों के घनत्व को बढ़ाने में मदद कर सकता है, इससे हड्डियां मजबूत बनने लगती है। यह हड्डियों को लचीला कर जल्दी फ्रेक्चर होने से बचा सकता है।

उच्च रक्तचाप को कम करने में सहायक

शुद्ध शहद में क्वेरसेटिन (Quercetin) नामक फ्लेवोनोइड पाया जाता है, जो रक्तचाप की समस्या को कुछ हद तक कम करने में सहायक हो सकता है।

मानसिक तनाव से छुटकारा दिलाने में अहम

मानसिक तनाव को दूर करने वाली कई आयुर्वेदिक संगठनों में शहद का इस्तेमाल देखने को मिलता है। शहद में एंटीडिप्रेसेंट गुण पाया जाता है, जो अपने प्रभाव से मस्तिष्क को तनाव मुक्त कर सकता है। यह याददाश्त को बढ़ाने, स्मरण शक्ति में सुधार करने और अवसाद से छुटकारा दिलाने में सक्षम है।

वजन को कम करने में मददगार

शहद अतिरिक्त चर्बी को जलाने और वजन बढ़ने की प्रक्रिया को धीमा करने में कुछ हद तक मदद कर सकता है।

पढ़िए: गर्भावस्था से जुड़ी सावधानियां | Shilajit in Hindi

शहद के दुष्प्रभाव – Honey Side Effects in Hindi

शहद के अधिक सेवन से पेटदर्द का सामना करना पड़ सकता है। शहद में मौजूद फ्रुक्टोज की शरीर में अधिकता होने पर डायबिटीज का लेवल गड़बड़ा सकता है।

बच्चों में शहद की अधिक खुराक से भोजन विषाक्ता जिसे फूड पॉइजनिंग कहते है, का सामान करना पड़ सकता है। यह संवेदनशील अवस्थाओं में एलर्जी का कारण बन सकता है। इसे सीमित मात्रा के ही प्रयोग करें।

शहद की खुराक – Honey Dosage in Hindi

  • शहद को विभिन्न तरीकों से अलग-अलग माध्यमों के साथ प्रयोग में लिया जा सकता है। लक्षण के हर प्रकार में इसकी सुरक्षित खुराक और समय अनुसरण के लिए चिकित्सा सहायता आवश्यक है।
  • शहद और अदरक का तैयार पेय रस पीने से खाँसी में बेहद अच्छा परिणाम मिलता है।
  • शहद की रोजाना एक या दो चम्मच खुराक साधारण हो सकती है। इसे कई मुद्दों में हल्के गुनगुने पानी या दूध के साथ लिया जा सकता है।
  • शहद को त्वचा के घाव पर लगाने से त्वचा की जलन और संक्रमण को ठीक किया जा सकता है।
  • हल्के गुनगुने पानी में शहद और नींबू का रस मिक्स कर इसका सेवन करने से वजन कम करने में काफी मदद मिल सकती है।
  • इसे गुनगुने दूध में डालकर रोजाना पीने से रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाया जा सकता है।

सावधानियां – Honey Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में Honey के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में शहद से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, विशेषज्ञ को अवस्था बताकर ही शहद की खुराक लें।

  • संवेदनशील त्वचा के मामलों में
  • अनियंत्रित ब्लड शुगर
  • एलर्जी
  • डायबिटीज

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

शहद और भोजन के बीच की प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: कुश्ता फौलाद के फायदे | Ashwgandha in Hindi

Honey FAQ in Hindi

1) किस शहद को सबसे अच्छा माना जाता है?

उत्तर: शहद के विभिन्न प्रकारों में से मनुका शहद को सबसे अच्छा माना जाता है। इसकी गुणवत्ता और शुद्धता उच्च कोटि की होती है।

2) क्या शहद गर्भावस्था के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: शहद हर स्थितियों के लिए बेहद अच्छा और सुरक्षित माना जाता है। लेकिन इसके दुरूपयोग से कुछ नुकसान भी आपको देखने को जरूर मिल सकते है। गर्भावस्था में हर सुरक्षित गतिविधि को बनायें रखने के लिए शहद का सेवन अपने चिकित्सक की सलाह अनुसार करना ज्यादा उचित है।

3) क्या शहद को फ्रिज में रखा जा सकता है?

उत्तर: हाँ, इसे फ्रिज में स्टोर कर लंबे समय तक सुरक्षित रखा जा सकता है। इसे सीधी धूप में रखने से यह जल्दी खराब हो सकता है।

4) क्या शहद को भूखे पेट लेना सुरक्षित है?

उत्तर: हाँ, शहद को भूखे पेट लेना सुरक्षित है। इसे रोजाना सुबह एक चम्मच भूखे पेट लेने से कई बीमारियों से बचा जा सकता है।

5) क्या शहद के सेवन से इसकी आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, शहद के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है। शहद एक प्रकृति की देन है, जिसकी हमारे शरीर में मौजूदगी फायदेमंद होती है। इसमें नशे का कोई गुण शामिल नहीं होता है।

6) क्या शहद बालों के लिए उपयोगी हो सकता है?

उत्तर: हाँ, शहद का अच्छा प्रभाव बालों पर भी देखने को मिलता है, यह बालों के लिए काफी उपयोगी साबित हो सकता है। शहद से बालों का टूटना, रूखापन, रूसी आदि समस्याओं को दूर किया जा सकता है।

7) क्या शहद से जुड़े उत्पादों भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, शहद से बने उत्पाद भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: जवारिश मस्तगी के फायदे | Shabab E Azam in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *