Swarna Bhasma in Hindi

स्वर्ण भस्म के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Swarna (Gold) Bhasma in Hindi

नाम (Name)स्‍वर्ण भस्‍म
उपयोग (Uses)यौन दुर्बलता, एकाग्रता में कमी, मानसिक अस्थिरता, एनीमिया, टीबी, त्वचा रोग, गठिया, अस्पष्ट दृष्टि आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects)दुरुपयोग से शारीरिक शक्ति में कमी, उल्टी, दस्त, बेचैनी आदि
ख़ुराक (Dosage)जरूरत अनुसार
किसी अवस्था पर प्रभावगर्भावस्था, अतिसंवेदनशीलता
खाद्य पदार्थ से प्रतिक्रियाअज्ञात
अन्य दवाई से प्रतिक्रियाअज्ञात
कीमत (Price)औसतन 5,500 रुपये (प्रतिग्राम)

स्‍वर्ण भस्‍म क्या है? – What is Swarna Bhasma in Hindi

स्‍वर्ण भस्‍म को आयुर्वेदिक विधि द्वारा शुद्ध सोने से तैयार किया जाता है, इसलिए यह भौतिक अवस्था में सोने की राख है, जिसे गोल्ड (Gold) भस्म भी कहते है।

यह भस्म मात्र कुछ समय में शरीर के सभी अंगों की देखरेख कर शारीरिक क्षमता में कमाल का सुधार करती है। स्वर्ण भस्म को खासतौर पर, मानसिक जटिलताओं को सुलझाने में मददगार माना जाता है।

स्वर्ण भस्म एक कीमती दवा है, जिसका मूल्य बहुत ज्यादा होता है। बाजार में 500 ग्राम स्वर्ण भस्म का मूल्य ढाई से चार हजार रुपये के बीच होता है, जो कई आयुर्वेदिक दवाओं में बेहद कम मात्रा में इस्तेमाल किया जाता है। लेकिन इसके ड्यूप्लिकेट उत्पाद से सतर्क करना चाहिए।

स्वर्ण भस्म का उपयोग एनीमिया, टीबी, सांस की परेशानी, रक्त अशुद्धि, बांझपन, पुरुषों की कमजोरी, कैंसर, मधुमेह, तंत्रिका क्षति, त्वचा विकार, हृदय संबंधी रोग, गठिया, दमा और नसों की कमजोरी जैसे कई ढेर सारे लक्षणों को ठीक करने हेतु किया जा सकता है।

पढ़िये: Rajat Bhasma in Hindi | Baidyanath Triphala Juice in Hindi

स्वर्ण भस्म कैसे काम करती है?

  • स्वर्ण भस्म मस्तिष्क में कैटेकोलामाइन (Catecholamines) नामक हार्मोन को उत्तेजित कर तनाव की गंभीरता को कम करने का कार्य करती है।
  • स्वर्ण भस्म त्वचा की मृत कोशिकाओं का सफाया कर त्वचा का अंदर से सौंदर्य निखार करती है। यह त्वचा की सूजन, संक्रमण और कई परेशानियों को ठीक करने में सहायक हो सकती है।
  • स्वर्ण भस्म आंखों के दोषों को दूर करने के लिए आवश्यक गतिविधियों का समर्थन कर उनका संचालन करने का कार्य करती है। स्वर्ण भस्म आंखों की नजर को स्पष्ट करने में बेहद लाभदायक हो सकती है।
  • स्वर्ण भस्म खून की अशुद्धियों को मिटाकर रक्त में ऑक्सीजन की पर्याप्त मात्रा को सुनिश्चित करती है। यह एनीमिया के इलाज में बेहद प्रभावी कदम साबित होता है।
  • सोने से बनी स्वर्ण भस्म में क्रोनिक डिसऑर्डर मतलब पुरानी गंभीर बीमारियों को ठीक करने की क्षमता होती है। स्वर्ण भस्म शारीरिक जटिलताओं का हल कर हृदय को मजबूती से सहजने का कार्य करती है।
  • स्वर्ण भस्म कामेच्छा को बढ़ाने में सहायता करती है, इसलिए इसे यौन संबंधी सभी दुर्बलताओं को सुधारने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। स्वर्ण भस्म वीर्य को गाढ़ा बनाकर शुक्राणु अल्पता की समस्या को खत्म करने का कार्य करती है।

स्‍वर्ण भस्‍म के उपयोग व फायदे – Swarna Bhasma Uses & Benefits in Hindi

स्‍वर्ण भस्‍म को निम्न अवस्था व विकार में सलाह किया जाता है। लेकिन किसी भी गंभीर अवस्था में इसका सेवन करने से पहले विशेषज्ञ की सलाह बेहद महत्वपूर्ण है।

  • मधुमेह आधारित न्यूरोपैथी
  • यौन दुर्बलता
  • एकाग्रता में कमी
  • मानसिक अस्थिरता
  • एनीमिया
  • टीबी
  • दमा
  • फेफड़ों में संक्रमण
  • रक्त विकार
  • कैंसर
  • हड्डियों से जुड़ी समस्याएं
  • क्रोनिक डिसऑर्डर
  • त्वचा रोग
  • गठिया
  • अस्पष्ट दृष्टि
  • मांसपेशियों की समस्याएं

पढ़िये: Baidyanath Kesari Kalp Chwanprash in Hindi | Kaunch Beej in Hindi 

स्‍वर्ण भस्‍म के दुष्प्रभाव – Swarna Bhasma Side Effects in Hindi

निम्न साइड एफ़ेक्ट्स स्‍वर्ण भस्‍म के कारण हो सकते है। आमतौर पर साइड एफ़ेक्ट्स शरीर की अलग प्रतिक्रिया व गलत खुराक से होते है और सबको एक जैसे साइड एफ़ेक्ट्स नहीं होते है।

  • अत्यधिक सेवन से बेचैनी
  • मिलावटी या अशुद्ध भस्म से मानसिक असंतुलन
  • दुरुपयोग से शारीरिक शक्ति में कमी
  • उल्टी
  • दस्त

स्‍वर्ण भस्‍म की खुराक – Swarna Bhasma Dosage in Hindi

  • खुराक डॉक्टर द्वारा स्‍वर्ण भस्‍म की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है। इसलिए स्‍वर्ण भस्‍म का सेवन डॉक्टर या विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद शुरू करें।
  • एक आम वयस्क के लिए, स्वर्ण भस्म की खुराक प्रतिदिन 12-62mg आयुर्वेद द्वारा निर्धारित है। लक्षणों के प्रकार और गंभीरता पर इस दवा की खुराक निर्भर करती है।
  • छोटे बच्चों में, स्वर्ण भस्म की खुराक दिन में 5-10mg तक सुरक्षित है। बच्चों में सामान्य खुराक के लिए बाल रोग विशेषज्ञ की सहायता जरूर लें।
  • स्वर्ण भस्म को सुबह नाश्ते के समय और रात को सोने से पहले लेना अत्यधिक फायदेमंद साबित होता है। इसे शहद, घी और दूध के साथ भी लिया जा सकता है।
  • स्वर्ण भस्म का शरीर में सही से अवशोषण के लिए दो लगातार खुराकों के बीच एक सख्त समय अंतराल रखें।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित स्‍वर्ण भस्‍म का सेवन जल्द करें। अगली खुराक स्‍वर्ण भस्‍म की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: Vita Ex Gold Plus in Hindi | Himalaya Liv 52 Syrup in Hindi

सावधानियां – Swarna Bhasma Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में स्‍वर्ण भस्‍म के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में स्‍वर्ण भस्‍म से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अपनी अवस्था बताकर ही स्‍वर्ण भस्‍म की खुराक लें।

  • गर्भावस्था
  • अतिसंवेदनशीलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

स्‍वर्ण भस्‍म की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: Zandu Vigorex Gold in Hindi | Himalaya Tentex Forte in Hindi

Swarna Bhasma FAQ in Hindi

1) क्या स्वर्ण भस्म पाचन सुधारक है?

उत्तर: हाँ, यह औषधि पाचन सुधारक के रूप में कार्य कर सकती है। यह दवा पाचन तंत्र को सुदृढ़ कर पाचन क्रियाओं को उत्तेजित करने और स्वास्थ्य विकास को बढ़ावा देने में पूर्णतया मददगार साबित होती है।

2) क्या स्वर्ण भस्म वजन बढ़ाने में सहायक है?

उत्तर: यह दवा कमजोरी और थकावट को दूर करने में सक्रिय है। इस दवा द्वारा वजन बढ़ने का कोई रोचक तथ्य नहीं है। लेकिन इस विषय में अपने डॉक्टर की सलाह लेना ज्यादा उचित है।

3) क्या स्वर्ण भस्म रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार कर सकती है?

उत्तर: हाँ, स्वर्ण भस्म रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार कर सकती है। यह भस्म प्रतिरक्षा क्षति की भरपाई करने में सहायक हो सकती है, जिसका सीधा मतलब है, कि यह रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी सुधार ला सकती है।

4) क्या स्वर्ण भस्म गर्भवती महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: गर्भावस्था में दवाओं का व्यवहार जल्दी बदल सकता है। गर्भवती महिलाएं इस दवा की अति या दुरुपयोग से बचें। गर्भावस्था में स्वर्ण भस्म की खुराक से पूरी सुरक्षा का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है। इसलिए इस विषय में अपने डॉक्टर का व्यक्तित्व परामर्श अहम है।

5) क्या स्वर्ण भस्म एल्कोहोल के साथ सुरक्षित है?

उत्तर: एल्कोहोल तो शरीर के लिए हानिकारक ही होता है। स्वर्ण भस्म के साथ भी एल्कोहोल के सेवन से परहेज करें।

6) क्या स्वर्ण भस्म स्तनपान कराने वाली महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: स्वर्ण भस्म स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर सकारात्मक असर करती है या नकारात्मक, इस बारें में कोई पुख्ता शोध या रिसर्च नहीं है। इस बात को ध्यान में रखते हुए नर्सिंग महिलाएं हमेशा चिकित्सक की सलाह का पूरा पालन करें।

7) क्या स्वर्ण भस्म मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करती है?

उत्तर: स्वर्ण भस्म मासिक धर्म की कठिनाइयों को सुलझाने में सहायक हो सकती है। यह दवा मासिक धर्म चक्र पर कोई बुरा असर नहीं छोड़ती है। इस विषय में ज्यादा जानकारी के लिए अपने मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक से मिलें।

8) क्या स्वर्ण भस्म का इस्तेमाल रक्त बढ़ाने हेतु किया जा सकता है?

उत्तर: रक्त की शुद्धि और इससे जुड़े अन्य विकारों के इलाज में स्वर्ण भस्म कारगर हो सकती है। लेकिन रक्त की मात्रा बढ़ाने के उद्देश्य से इस दवा का इस्तेमाल डॉक्टर की सलाह अनुसार ही करें।

9) क्या स्वर्ण भस्म नसों को आराम देने में सहायक है?

उत्तर: हाँ, यह भस्म नसों को आराम प्रदान करने में सहायक है। यह नसों में दबाव को कम कर तरल के प्रवाह को सामान्य करने का कार्य करती है।

10) क्या स्वर्ण भस्म शीघ्रपतन के इलाज में सहायक है?

उत्तर: हाँ, यह शीघ्रपतन का इलाज करने में मददगार है। यह यौन स्वास्थ्य से जुड़े सभी विकारों के लिए एक चमत्कारी भस्म है। यह कामेच्छा को तेज कर पुरुष प्रदर्शन को लंबा करती है और शीघ्र वीर्य स्खलन प्रक्रिया को धीमा करती है।

11) क्या स्वर्ण भस्म के सेवन से आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, स्वर्ण भस्म के सेवन से आदत नहीं लगती है। यह एक हर्बल दवा है, जिसमें शरीर पर बोझ बनने वाले गुण शामिल नहीं होते है। इसके लंबे समय के इस्तेमाल हेतु आप एक बार अपने डॉक्टर से जरूर चर्चा कर लें।

12) क्या स्वर्ण भस्म भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, स्वर्ण भस्म भारत में पूर्णतया लीगल है, क्योंकि यह एक आयुर्वेदिक दवा है और आयुर्वेद भारत की ही एक देन है।

पढ़िये: Dr Ortho Oil in Hindi | Becozinc Capsule in Hindi

References

Swarna Bhasma in cancer: A prospective clinical study https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3665104/ Accessed On 10/03/2021

Blood compatibility studies of Swarna bhasma (gold bhasma), an Ayurvedic drug https://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC3157103/ Accessed On 10/03/2021

Comparative study on cellular entry of incinerated ancient gold particles (Swarna Bhasma) and chemically synthesized gold particles https://www.nature.com/articles/s41598-017-10872-3 Accessed On 10/03/2021

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अस्वीकरण

हम पूरी कोशिश करते है, कि इस साइट पर मौजूद जानकारी सही, पूरी व नवीनतम हो। लेकिन हम इसकी सटीकता की गारंटी नहीं लेते है। यह लेख सिर्फ जानकारी मात्र है और इसका उपयोग चिकित्सकीय परामर्श के विकल्प में उपयोग ना करें। किसी भी प्रकार की हानी होने पर, आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।