पुष्पधन्वा रस: फायदे, नुकसान, खुराक, साइड एफ़ेक्ट्स, उपयोग, सावधानी | Pushpadhanwa Ras in Hindi

पुष्पधन्वा रस
नाम (Name)पुष्पधन्वा रस
संरचना (Composition)नाग भस्म + रस सिन्दूर + लौह भस्म + वंग भस्म + अभ्रक भस्म + मुलेठी + धतूरा + भांग + सेमल की छाल + नागर बेल
दवा-प्रकार (Type of Drug)आयुर्वेदिक दवा
उपयोग (Uses)नपुंसकता, शीघ्रपतन, बांझपन, शुक्राणुओं की कमी, एनीमिया आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects)एसिडिटी, छाती में जलन, अनियमित धड़कन,, हल्का सिरदर्द आदि
ख़ुराक (Dosage)डॉक्टरी सलाह अनुसार
किसी अवस्था पर प्रभावगर्भावस्था, अतिसंवेदनशीलता
खाद्य पदार्थ से प्रतिक्रियाअज्ञात
अन्य दवाई से प्रतिक्रियाअज्ञात

पुष्पधन्वा रस क्या है? – What is Pushpadhanwa Ras in Hindi

पुष्पधन्वा रस वैवाहिक सुख और यौन संतुष्टि पाने के लिए एक आयुर्वेदिक रसायन है।

Advertisements

यह दवा पुरुषों और महिलाओं दोनों में समान रूप से फायदेमंद है। इस विकल्प को अपनाने से यौन संबंधी कई लक्षण जैसे शीघ्रपतन, शुक्रमेह, स्तंभन दोष, नपुंसकता, बांझपन, अविकसित गर्भाशय, स्वप्नदोष, कामेच्छा और कामशक्ति में कमी आदि सभी का सुरक्षित इलाज संभव हो सकता है।

पुष्पधन्वा रस के प्रतिदिन सेवन से यह महिलाओं को संभोग के लिए उत्तेजित कर गर्भधारण की संभावना को यकीन में बदलने का काम कर सकता है।

पुष्पधन्वा रस नामर्दांगी के दाग को मिटाकर, अपने पार्टनर के सामने पुरुष की छवि को सुधारने में मददगार साबित हो सकता है।

संभोग के दौरान जल्दी वीर्य स्खलन या शिश्न ऊर्ध्वाधर न हो पाने के कारण दंपतियों के बीच उलझन पैदा हो सकती है, जिससे महिला अतृप्त रह जाती है और पुरुष का खुद पर से भरोसा कम हो जाता है। पुष्पधन्वा रस ऐसे पुरुषों में यौन दुर्बलताओं का समापन कर उनके आत्मविश्वास को बढ़ाता है और महिलाओं को चरम आनंद तक ले जाता है।

पुष्पधन्वा रस निम्नलिखित कंपनी और ब्रांड के उत्पाद के रूप में प्रचलित है।

  • Dabur Pushpadhanwa Ras
  • Baidyanath Pushpadhanwa Ras
  • Unjha Pushpadhanwa Ras
  • Dhootapapeshwar Pushpadhanwa Ras

पुष्पधन्वा रस की संरचना – Pushpadhanwa Ras Composition in Hindi

निम्न घटक Pushpadhanwa Ras में होते है।

नाग भस्म + रस सिन्दूर + लौह भस्म + वंग भस्म + अभ्रक भस्म + मुलेठी + धतूरा + भांग + सेमल की छाल + नागर बेल

पढ़िये: हिमालया सिस्टोन टैबलेट | Trikatu Churna in Hindi

Pushpadhanwa Ras कैसे काम करती है?

  • नाग भस्म कामेच्छा को बेहतर करने वाला एक हर्बल यौगिक है। इसके जरिए एनीमिया, ल्यूकोरिया, नपुंसकता और अन्य कई यौन दिक्कतों के निवारण में सहायक मिलती है।
  • रस सिन्दूर वीर्य, स्वप्नदोष, वाजीकरण और गर्भाशय से जुड़े विकारों के लिए एक संजीवनी बूटी के रूप में कार्य करता है। यह एक बलवर्धक यौगिक है, जो यौन अंगों को उत्तेजित कर यौन क्रियाओं को सफल बनाता है। यह शीघ्रपतन को रोककर अत्यंत आनंद प्रदान वाला एक सुखदायी यौगिक है।
  • लौह भस्म का इस्तेमाल हमेशा से रक्त के निर्माण हेतु किया जाता है। यह खून की शुद्धता और जरूरत को पूरा कर एनीमिया से लड़ने में सहायक है। यह शिश्न में रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर स्तंभन दोष से छुटकारा दिला सकता है।
  • वंग भस्म नपुंसकता का इलाज कर शारीरिक संबंधों से होने वाली घबराहट को दूर करने का कार्य करती है। यह यौन अंगों के पूर्ण निर्माण में भी सहायता करती है।
  • अभ्रक भस्म वीर्य के उत्पादन को उत्तेजित करने और संभोग के बाद आने वाली थकावट को दूर करने में कारगर साबित होता है। यह तंत्रिका तंत्र को काबू में कर उत्तेजित नसों को शांत करने में फायदेमंद हो सकता है।
  • मुलेठी मूत्र में जलन, खून की कमी, मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव, मानसिक कमजोरी, कामेच्छा की कमी, पेट की समस्याएं आदि सभी स्वास्थ्य से जुड़े लक्षणों के लिए एक फायदे का सौदा हो सकता है।

पुष्पधन्वा रस के उपयोग व फायदे – Pushpadhanwa Ras Uses & Benefits in Hindi

Pushpadhanwa Ras को निम्न अवस्था व विकार में सलाह किया जाता है। Pushpadhanwa Ras का सेवन डॉक्टर या विशेषज्ञ से व्यक्तिगत सलाह लेने के बाद ही करें।

  • नपुंसकता
  • शीघ्रपतन
  • बांझपन
  • शुक्राणुओं की कमी
  • एनीमिया
  • यौन शक्ति में गिरावट
  • कामेच्छा में कमी
  • मूत्र संक्रमण
  • गर्भाशय की समस्याएं
  • हड्डियों की कमजोरी
  • शुक्रमेह
  • मधुमेह
  • स्तंभन दोष
  • स्वप्नदोष
  • ल्यूकोरिया
  • मानसिक और शारीरिक थकावट
  • इनफर्टिलिटी
  • संभोग असंतुष्टि
  • खराब पुरुष प्रदर्शन
  • कम टेस्टोस्टेरॉन स्तर

पुष्पधन्वा रस के दुष्प्रभाव – Pushpadhanwa Ras Side Effects in Hindi

निम्न साइड एफ़ेक्ट्स Pushpadhanwa Ras के कारण हो सकते है। आमतौर पर साइड एफ़ेक्ट्स Pushpadhanwa Ras से शरीर की अलग प्रतिक्रिया व गलत खुराक से होते है और सबको एक जैसे साइड एफ़ेक्ट्स नहीं होते है।

  • एसिडिटी
  • छाती में जलन
  • अनियमित धड़कन
  • मुंह के स्वाद में बदलाव
  • हल्का सिरदर्द
  • उल्टी

पढ़िये: दशमूलारिष्ट | Supari Pak in Hindi

पुष्पधन्वा रस की खुराक – Pushpadhanwa Ras Dosage in Hindi

  • पुष्पधन्वा रस की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है।
  • एक सामान्य वयस्क को, पुष्पधन्वा रस की खुराक दिन में दो गोलियां सुबह-शाम भोजन के पश्चात लेने की सलाह दी जाती है।
  • पुष्पधन्वा रस की गोलियों को शहद में मिलाकर चांटे और फिर मिश्री वाले दूध का सेवन ऊपर से करें। ऐसा करने पर, कुछ समय के भीतर ही स्वास्थ्य में सुखद बदलाव देखने को मिल सकता है।
  • छोटे बच्चों में यह दवा निषेध है। इस दवा की खुराक का बच्चों में कोई काम नहीं है। इस विषय में बेहतर जानकारी के लिए बाल रोग विशेषज्ञ का परामर्श लें सकते है।
  • पुष्पधन्वा रस की सक्रियता बनाये रखने के लिए रोजाना लगातार अंतराल में दवा की खुराक लेते रहें।
  • पुष्पधन्वा रस की गलत या अधिक खुराक लेने से बचें, एक साथ दो खुराक न लें।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित पुष्पधन्वा रस का सेवन जल्द करें। अगली खुराक पुष्पधन्वा रस की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानियां – Pushpadhanwa Ras Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में Pushpadhanwa Ras के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में Pushpadhanwa Ras से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर ही Pushpadhanwa Ras की खुराक लें।

  • गर्भावस्था
  • अतिसंवेदनशीलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

Pushpadhanwa Ras की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: सुहाग्रा टैबलेट | Himalaya Himcolin Gel in Hindi 

Pushpadhanwa Ras FAQ in Hindi

1) क्या पुष्पधन्वा रस से यौन रोगों का पूर्ण इलाज संभव है?

उत्तर: पुष्पधन्वा रस यौन रोगों को टालने की बजाय इनका धीरे-धीरे पूरा इलाज करने में सहायक हो सकता है। पुरुषों की समस्याओं से पूरा छुटकारा पाने हेतु इस दवा की खुराक के साथ-साथ भोजन पर भी विशेष ध्यान रखा जाना आवश्यक है।

2) क्या पुष्पधन्वा रस हस्तमैथून की लत से छुटकारा दिलाने में सहायक हो सकता है?

उत्तर: बचपन की गलतियां या अत्यधिक हस्तमैथून से मस्तिष्क और स्वास्थ्य अत्यधिक कमजोर हो सकता है। यह दवा इन स्थितियों में सुधार कर वीर्य को गाढ़ा बनाने में सहायक हो सकती है। हस्थमैथुन की लत से छुटकारा पाने के लिए आपको योगा या किसी अच्छे विशेषज्ञ से निजी राय लेने की आवश्यकता है।

3) क्या पुष्पधन्वा रस गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: गर्भवती महिलाओं के मामलों में यह दवा अस्पष्ट परिणाम दे सकती है। इस दवा में मौजूद घटक गर्भावस्था में हानिकारक हो सकते है, इसलिए बिना डॉक्टर की सलाह गर्भवती महिलाएं इस दवा का सेवन न करें।

4) क्या पुष्पधन्वा रस को भूखे पेट लिया जा सकता है?

उत्तर: पुष्पधन्वा रस को ज्यादातर भोजन के बाद लेने की नसीहत दी जाती है। भोजन के पहले इसे इस्तेमाल करने पर मनचाहे परिणाम से वंचित रहना पड़ सकता है।

5) क्या पुष्पधन्वा रस एल्कोहोल के साथ सुरक्षित है?

उत्तर: एल्कोहोल के साथ इस दवा की क्रिया का अंजाम थोड़ा बुरा हो सकता है। हालांकि इस विषय में कोई ठोस जानकारी नहीं है, इसलिए हमारी सलाह के मुताबिक आप अपने चिकित्सक की राय अवश्य ले सकते है।

6) क्या पुष्पधन्वा रस स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: स्तनपान कराने वाली महिलाओं में इस दवा से थोड़े विषम प्रभाव देखे जा सकते है। ऐसी नर्सिंग महिलाओं को अपनी मौजूदा हालात का बयान करते हुए डॉक्टर से हिदायत लेने की आवश्यकता है।

7) क्या पुष्पधन्वा रस के सेवन से इसकी आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, इस दवा के सेवन से आदत नहीं लगती है, क्योंकि यह दवा नशेदार वर्ग से पूरी तरह किनारा करती है। हालांकि इस दवा को लंबे समय तक लेने से पहले डॉक्टर की सलाह जरूरी है।

8) क्या पुष्पधन्वा रस की खुराक के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: यदि इस दवा की खुराक के बाद उनींदापन, चक्कर, उल्टी या धुंधलापन जैसी शिकायत होती है, तो इसे लेने के बाद ड्राइविंग न करें। दूसरे पहलू की बात करें, तो यह दवा ड्राइविंग क्षमता को प्रभावित भी नहीं करती है। मरीज की वर्तमान स्थिति के आधार पर, ड्राइविंग करना एक निजी निर्णय हो सकता है।

9) क्या पुष्पधन्वा रस मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है?

उत्तर: मासिक धर्म चक्र में परिवर्तन से बचने के लिए, इस दवा की सही खुराक को मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक द्वारा सुनिश्चित किया जाना आवश्यक है।

10) पुष्पधन्वा रस की दो लगातार खुराकों के बीच कितना समय अंतराल होना उचित माना जाता है?

उत्तर: इस दवा की एक खुराक लेने के बाद कम से कम 8-10 घंटों के बाद ही दूसरी खुराक को लेने के बारें में सोचें। इस समय अंतराल का सख्ती से पालन करने पर ओवरडोज़ की संभावना खत्म हो जाती है।

11) क्या पुष्पधन्वा रस पाचन को सुधारने में सहायक हो सकता है?

उत्तर: हाँ, यह दवा पाचन को सुधारने में सहायक हो सकती है। यह दवा यौन दुर्बलताओं को दूर कर पाचन और रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत बनाने में सफल हो सकती है।

12) क्या पुष्पधन्वा रस भारत में लीगल दवा है?

उत्तर: हाँ, पुष्पधन्वा रस भारत में एक पूर्णतया लीगल दवा है। यह हर्बल उत्पाद आसानी से हर आयुर्वेदिक स्टोर पर उपलब्ध है।

पढ़िये: हिमालया पाइलेक्स टैबलेट | Labub Kabir in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *