Makardhwaj Vati की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन मकरध्वज + कस्तूरी + काली मिर्च + जायफल + जल + कपूर
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Makardhwaj Vati in Hindi

मकरध्वज वटी के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Makardhwaj Vati in Hindi

परिचय

मकरध्वज वटी क्या है? – What is Makardhwaj Vati in Hindi

मकरध्वज वटी हर्बल तत्वों के बनी एक संयोजन दवा है, जो स्वास्थ्य के लिए बेहतरीन और गुणकारी है।

मकरध्वज वटी का पूरा लाभ पाने के लिए दैनिक जीवन में इसका अलग से उपयोग किया जाना स्वाभाविक है।

इस वटी का उपयोग लैंगिक समस्याओं और यौन स्वास्थ्य से जुड़े कई विकारों के इलाज हेतु किया जाता है।

वीर्य का पतलापन, स्वप्नदोष, शीध्रपतन, मूत्र के साथ वीर्य की हानि, आंखों की कमजोरी, स्मरण शक्ति का ह्रास, नपुंसकता, गर्भ न ठहरना, अपच, भ्रम, नसों में कमजोरी और दबाव, थकावट आदि सभी लक्षणों में इसका इस्तेमाल निःसंकोच किया जा सकता है और इससे एक अच्छा परिणाम मिलने की प्रबल संभावना है।

इसके अतिरिक्त, यह दवा मूत्र मार्ग संक्रमणों के इलाज में भी पूर्ण रूप से सहायक है।

आयुर्वेदिक के अनुसार, यह वटी मानव को अश्व शक्ति प्रदान करने का कार्य करती है।

पढ़िये: अभयारिष्ट | Brihatyadi Kashayam in Hindi 

संयोजन

मकरध्वज वटी की संरचना – Makardhwaj Vati Composition in Hindi

मकरध्वज वटी को आयुर्वेदिक तौर-तरीकों से दवा के रूप में बदला जाता है और जिसको बनाने में लगी सामग्रियों की सूची निम्नलिखित है।

मकरध्वज + कस्तूरी + काली मिर्च + जायफल + जल + कपूर

मकरध्वज वटी कैसे काम करती है?

  • यह वटी पुरुषों की खोई हुई मर्दाना ताकत वापस दिलाती है और अनावश्यक वीर्य हानि को रोकती है।
  • यह वटी स्तंभन दोषों का नाश कर नपुंसकता के खिलाफ एक अच्छा कार्य करती है।
  • इस वटी में उपस्थित प्राकृतिक घटक वात, पित्त और कफ से छुटकारा दिलाने में सहायक है। साथ ही, यह वटी स्टैमिना में सुधारकर यौन शक्ति में बढ़ोतरी करके कार्य करती है।
  • यह वटी शुक्र नलियों में जरूरी फैलाव तय कर वीर्य के प्रवाह को आसान और गाढ़ा बनाने का कार्य करती है।

पढ़िये: संशमनी वटी | Sphatika Bhasma in Hindi

फायदे

मकरध्वज वटी के फायदे व उपयोग – Makardhwaj Vati Uses & Benefits in Hindi

मकरध्वज वटी के नियमित सही सेवन के निम्नलिखित फायदे व उपयोग है।

  • डायबिटीज में एक बेहतरीन परिणामदायक
  • शारीरिक कमजोरी से ग्रस्त अंगों में नई जान डालना
  • नपुंसकता का नाश
  • स्तंभन दोष से छुटकारा
  • प्रदर रोगों के इलाज में सहायक
  • स्मरण शक्ति में बढ़ोतरी
  • आवश्यक ऊर्जा की भरपाई
  • सभोंग समय में बढ़ोत्तरी
  • वात, पित्त और कफ से जुड़े रोगों का इलाज
  • लिंग के ढीलेपन को दूर करना
  • शीघ्रपतन और स्वप्नदोष से निजात
  • प्रबल हृदय की नींव रखना
  • मूत्र मार्ग में फैले संक्रमणों का इलाज
  • कामेच्छा के प्रति नया आगाज
  • नींद न आने की समस्या को दूर करना
  • पाचन तंत्र को सुदृढ़ बनाना
  • टेस्टोस्टेरॉन हार्मोन का संतुलन बनायें रखना
  • वीर्य दोषों के इलाज में मददगार

दुष्प्रभाव

मकरध्वज वटी के दुष्प्रभाव – Makardhwaj Vati Side Effects in Hindi

इस आयुर्वेदिक वटी के कोई खास दुष्प्रभाव नहीं है। लेकिन इसकी गलत या ज्यादा खुराक लेने से कुछ सामान्य दुष्प्रभाव देखने को मिल सकते है-

  • चक्कर
  • शुक्राणुओं के प्रवाह गति में कमी
  • अनिद्रा
  • सिर भारी
  • तनाव
  • जल्दी गुस्सा आना आदि।

पढ़िये: खादिरारिष्ट | Drakshasava Syrup in Hindi

खुराक

मकरध्वज वटी की खुराक – Makardhwaj Vati Dosage in Hindi

मकरध्वज वटी की खुराक अपनी वर्तमान स्थिति की जांच कराने के बाद डॉक्टर की सलाह से करना ज्यादा उचित है।

आमतौर पर, मकरध्वज वटी की ज्यादातर मामलों में सुझाव की जाने वाली खुराक कुछ इस प्रकार है-

उत्पाद खुराक

Makardhwaj Vati
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 1-2 टैबलेट
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: बाद
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी या दूध के साथ
  • उपचार अवधि: 1 महिना

यह वटी बच्चों में अनुशंसित नहीं है।

इसकी खुराक को अन्य घरेलू सामग्रियों के साथ भी ले सकते है जैसे शहद, मक्खन, मलाई।

खुराक में अपनी सुविधानुसार बदलाव करने से बचें।

ओवरडोज का पता लगते ही तुरंत चिकित्सा सहायता ढूंढने के प्रयास करें।

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित मकरध्वज वटी का सेवन जल्द करें। अगली खुराक मकरध्वज वटी की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में मकरध्वज वटी के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

मकरध्वज वटी की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

मकरध्वज वटी के साथ अन्य दवाई की प्रतिक्रिया अज्ञात है। इस विषय में डॉक्टर से विशेष सलाह लें।

लत लगना

नहीं, मकरध्वज वटी की लत नहीं लगती है, क्योकि इसमें कोई नशेदार तत्व उपस्थित नहीं है।

ऐल्कोहॉल

शराब के साथ मकरध्वज वटी के सेवन से परहेज़ रखें।

गर्भावस्था

गर्भवती महिलाओं के लिए मकरध्वज वटी का सेवन असुरक्षित है।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, मकरध्वज वटी के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

मकरध्वज वटी के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

अन्य कोई बड़ी बीमारी होने पर मकरध्वज वटी का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

पढ़िये: अशोकारिष्ट | Long Look Capsule in Hindi 

कीमत

सवाल-जवाब

क्या मकरध्वज वटी शारीरिक वजन बढ़ाने में सहायक है?

इस वटी का इस्तेमाल मुख्य रूप से वजन बढ़ाने हेतु करना बिल्कुल व्यर्थ है। हालांकि यह वटी पाचन में सुधारकर भूख लगने में जरूर मददगार है। इस विषय में शारीरिक वजन पूरी तरह भोजन की खुराक पर आधारित होता है।

क्या मकरध्वज वटी एक स्टेरॉयड युक्त दवा है?

यह वटी पूर्णतया आयुर्वेदिक और हर्बल है जिसमें उपस्थित सभी तत्व पूरी तरह प्राकृतिक है। कोई भी स्टेरॉयड घटक शामिल नहीं होने के कारण यह वटी स्टेरॉयड युक्त बिल्कुल नहीं है।

क्या मकरध्वज वटी मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करती है?

इस विषय में कोई ठोस सबूत नहीं है। हर तरह की सावधानी बरतते हुए इस विषय में अपने निजी मासिक धर्म से जुड़े डॉक्टर का पूरा सहयोग लेवें।

क्या मकरध्वज वटी भारत में लीगल है?

हाँ, यह वटी भारत में पूर्णतया लीगल है और आसानी से हर आयुर्वेदिक स्टोर पर उपलब्ध है।

पढ़िये: रोगन बादाम तेल Rhuma Oil in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.