Brihatyadi Kashayam की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन बृहती + भद्रा + पृश्निपर्णी + शालपर्णी + गोक्षुरा
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Brihatyadi Kashayam in Hindi

बृहत्यादी कश्यम के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Brihatyadi Kashayam in Hindi

परिचय

बृहत्यादी कश्यम क्या है?-What is Brihatyadi Kashayam in Hindi

बृहत्यादी कश्यम विभिन्न रूपों में उपलब्ध एक आयुर्वेदिक औषधि है।

इसके तरल रूप का उपयोग इसके अन्य रूपों की तुलना में बहुत ज्यादा किया जाता है।

इस शास्त्रीय आयुर्वेदिक दवा को डिस्यूरिया के लिए सबसे ज्यादा उपयोग में लाया जाता है। डिस्यूरिया एक मूत्र मार्ग से जुड़ी समस्या है, जिसमें मरीज को दर्दनाक और कठिन पेशाब से गुजरना पड़ता है।

इसके अलावा, यह दवा एक Diuretic (मूत्रवर्धक), रेचक और एंटीबायोटिक का भी कार्य करती है, जो किड़नी के कार्य संतुलन को सुचारू बनायें रखने में मददगार है।

पथरी, Cystitis (सूजन), मूत्र संक्रमण और अन्य मूत्र संबंधी लक्षणों के लिए भी यह दवा बहुत उपयोगी है।

मूत्र विकार की विविधता का इलाज और सरल सूत्रीकरण को देखते हुए यह एक समृद्ध दवा है, जिसकी सराहना एक अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक द्वारा मरीजों में की जा सकती है।

पढ़िये: संशमनी वटी | Sphatika Bhasma in Hindi 

संयोजन

बृहत्यादी कश्यम की संरचना-Brihatyadi Kashayam Composition in Hindi

इसमें मौजूद कुछ मुख्य घटक निम्नलिखित है

Brihati (बृहति) + Kantakari (कांटाकरी) + Prishniparni (प्रिसनपर्णी) + Shalaparni (शालपर्णी) + Gokshura (गोक्षुरा)

बृहत्यादी कश्यम कैसे कार्य करती है?

बृहत्यादी कश्यम को समान भागों में निम्न जड़ी-बूटियों को मिलाकर तैयार किया जाता है। इन घटकों की मात्रा में भिन्न निर्माता द्वारा परिवर्तन हो सकता है।

इन सभी जड़ी-बूटियों के संयोजन से मूत्र संबंधी बीमारियों का प्रभावी इलाज संभव है।

ये दवा मूत्र पथ में पैदा संक्रमण और सूजन रूपी अवरोधों को मिटाकर मूत्र का प्रवाह बढ़ाने का कार्य करती है।

मूत्र में दर्द के कारण का इलाज करने के लिए, ये दवा जमा हुए पेशाब को निकलने के लिए मूत्र नलिका को फैलाने का काम करती है।

बृहत्यादी कश्यम के घटक किड़नी की पथरी को तोड़कर मूत्र के साथ बाहर फेंकने में भी कारगर है।

यदि मूत्र के साथ जरूरी जल आयन की भी हानि हो रही है, तो विशेषज्ञ की सलाह अनुसार इसका उपयोग कर सकते है।

फायदे

बृहत्यादी कश्यम के फायदे व उपयोग-Brihatyadi Kashayam Benefits & Uses in Hindi

निम्न फायदे व उपयोग बृहत्यादी कश्यम के नियमित उपयोग करने के है।

  • मूत्रवर्धक में सहायक
  • जल आयन की हानि को रोकना
  • Dysuria (पेशाब में जलन) में बहुत उपयोगी
  • खराब मूत्र प्रणाली को सुधारना
  • मूत्रपथ के संक्रमणों का इलाज
  • पेशाब निष्कासन में आसानी
  • गुर्दे तथा मूत्र पथरी के इलाज में सहायक
  • सिस्टायटिस में फायदेमंद
  • मूत्र गंध को कम करना
  • किड़नी के रखरखाव में मददगार (और पढ़िये: Kidney Facts in Hindi)

पढ़िये: खादिरारिष्ट Drakshasava Syrup in Hindi 

दुष्प्रभाव

बृहत्यादी कश्यम के दुष्प्रभाव-Brihatyadi Kashayam Side Effects in Hindi

बृहत्यादी कश्यम से कोई साइड इफेक्ट या नुकसान नहीं होता है।

लेकिन इस दवा की बेहतर समझ और उचित खुराक के लिए एक अच्छे आयुर्वेदिक डॉक्टर या विशेषज्ञ से निजी परामर्श लेना जरूरी होता है।

खुराक

बृहत्यादी कश्यम की खुराक-Brihatyadi Kashayam Dosage in Hindi

बृहत्यादी कश्यम की खुराक इसके प्रॉडक्ट पर अंकित जानकारी तथा निर्देशों को पढ़कर शुरू की जा सकती है, पर रोगों का सही से निवारण करने के लिए एक अच्छे आयुर्वेदिक चिकित्सक की सलाह सदैव उचित होती है।

यहाँ इसके तरल रूप की खुराक बताई जा रही है, जिसे आमतौर पर, ज्यादातर मामलों में सुझाव किया जाता है।

उत्पाद खुराक

Brihatyadi Kashayam
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 2 छोटी चम्मच
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने के पहले या बाद: पहले
  • उपचार अवधि: 1 महिना

बृहत्यादी कश्यम की खुराक में सुविधानुसार बदलाव करने से हमेशा बचें।

ओवरडोज से हमेशा बचने का प्रयास करें।

बृहत्यादी कश्यम की खुराक इसके रूपों (चूर्ण, तरल और टैबलेट आदि) पर निर्भर करती है, कि मरीज किस रूप में इसका सेवन कर रहा है। जैसे-

चूर्ण रूप में खुराक-

60 से 70 ग्राम चूर्ण को 1 लिटर पानी में घोले और उस घोल को उबालकर 120ml का बनाए। इसकी एक दिन में अधिकतम खुराक 120ml है, जिसे भिन्न भागों में बांटकर लेना चाहिए।

  • बच्चों में 15ml से 30ml पानी घोल प्रतिदिन
  • वयस्कों में 30ml से 60ml पानी घोल प्रतिदिन

टैबलेट रूप में खुराक-

  • बच्चों में 1 टैबलेट (1000mg) प्रतिदिन
  • वयस्कों में 2 टैबलेट प्रतिदिन
  • इसकी एक दिन में अधिकतम खुराक 4 टैबलेट है।

पढ़िये: अशोकारिष्ट | Baidyanath Bhringrajasava in Hindi

सावधानी

भोजन

हर प्रकार के खाद्य सामग्री के साथ बृहत्यादी कश्यम सुरक्षित है।

जारी दवाई

निम्न दवाई/घटक के साथ बृहत्यादी कश्यम का सेवन ना करें।

लत लगना

नहीं, बृहत्यादी कश्यम की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और बृहत्यादी कश्यम की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए बृहत्यादी कश्यम का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए बृहत्यादी कश्यम बिल्कुल सुरक्षित है।

ड्राइविंग

बृहत्यादी कश्यम के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

अन्य कोई बड़ी बीमारी होने पर बृहत्यादी कश्यम का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

कीमत

पढ़िये: डाबर हनीटस हॉट सिप | Zandu Kesari Jivan in Hindi 

सवाल-जवाब

बृहत्यादी कश्यम की दो खुराकों के बीच कितना समय अंतराल रखें?

इस दवा की एक खुराक लेने के 6-8 घंटे बाद ही दूसरी खुराक लेने का प्रयास करें। कम समय में लगातार खुराक लेते रहने से शारीरिक उदासीनता और ओवरडोज़ का खतरा बढ़ जाता है।

क्या बृहत्यादी कश्यम पाचन को सुधारने में सहायक है?

नहीं, यह दवा सिर्फ मूत्र से जुड़ी परेशानियों को दूर कर उनका इलाज करती है।

क्या बृहत्यादी कश्यम भारत में लीगल है?

हाँ, यह भारत में पूर्णतया लीगल है और आसानी से आयुर्वेदिक स्टोर पर उपलब्ध होती है।

पढ़िये: पेन निवारण चूर्ण | Pain Niwaran Churna in Hindi

1 thought on “बृहत्यादी कश्यम के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी | Brihatyadi Kashayam in Hindi”

  1. RAmANUJ SHRI PANDEY

    क्या मूत्राशय कैंसर में यह उपयोगी है। मुझे मूत्र के साथ रक्त भी आता है, इसे लेने पर रक्त प्रभाव बंद होता है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.