Mahatriphala Ghrita की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन त्रिफला + शतावरी + गिलोय + मुनक्का + भाँगरा + बाँसे + पीपल + मुलेठी + गुडूची + कटेरी + नीलोफर + क्षीरकाकोली + बहेड़ा + हरीतकी + भृंगराज
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Mahatriphala Ghrita

महात्रिफला घृत के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि | Mahatriphala Ghrita in Hindi

परिचय

महात्रिफला घृत क्या है? – What is Mahatriphala Ghrita in Hindi

महात्रिफला घृत एक आयुर्वेदिक नुस्खा है, जो आँखों से जुड़ी कठिनाइयों का सफल इलाज कर सकता है।

त्रिफला की प्रचुरता वाला यह उत्पाद नेत्र दृष्टि को तेज करने तथा शरीर की पुष्टि करने के लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

महात्रिफला घृत को आंतरिक तथा बाहरी दोनों तरीकें से इस्तेमाल किया जा सकता है।

इसे गर्म दूध के साथ आंतरिक इस्तेमाल किया जाना लाभकारी होता है तथा इसे आँखों पर काजल की तरह बाहरी प्रयोग किया जा सकता है।

महात्रिफला घृत रतौन्धी, आँखों की सूजन, जलन, बार-बार पानी निकलना, इंफेक्शन, कम दिखाई देना, रोशनी के समक्ष आँखें न खुलना, दर्द आदि सभी लक्षणों के इलाज हेतु उपयुक्त समाधान है।

यह एक OTC उत्पाद है, जिसे खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची नहीं चाहिए।

पढ़िये: हिमालया स्पेमन टैबलेट | Patanjali Ashvashila Capsule in Hindi 

संरचना

महात्रिफला घृत की संरचना – Mahatriphala Ghrita Composition in Hindi

इसमें निम्न घटक मौजूद होते है-

त्रिफला + शतावरी + गिलोय + मुनक्का + भाँगरा + बाँसे + पीपल + मुलेठी + गुडूची + कटेरी + नीलोफर + क्षीरकाकोली + बहेड़ा + हरीतकी + भृंगराज

फायदे

महात्रिफला घृत के उपयोग व फायदे – Mahatriphala Ghrita Benefits & Uses in Hindi

इस आयुर्वेदिक घी को इस्तेमाल करने से कई फायदें देखने को मिल सकते है-

आँखों को स्वस्थ बनायें रखने में मददगार

घी-दूध में मौजूद कई गुण हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य को तंदुरुस्त बनायें रखने में मदद करते है, इसलिए ये हमारे दैनिक जीवन का जरूरी हिस्सा होते है। यह आयुर्वेदिक घी कई प्राकृतिक जड़ी-बूटियों को जोड़कर बनाया गया है, जो आँखों की समस्त शिकायतों जैसे कमजोरी, सूजन, दर्द, लालिमा, तिमिर, खुजली, पानी आना आदि को ठीक कर सकता है।

हड्डियों को मजबूती प्रदान करें

कैल्शियम और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से युक्त इस घी के द्वारा शरीर का पोषण किया जा सकता है। इसे बच्चे से लेकर बुजुर्ग हर कोई इस्तेमाल कर सकता है, लेकिन खुराक का नियमित पालन जरूरी होता है।

मोतियाबिंद की रोकथाम

मोतियाबिंद की समस्या आँखों की गंभीर समस्याओं में से एक है। मोतियाबिंद को प्रभावी होने से रोकने के लिए इस घी का सेवन करना बेहद लाभदायक हो सकता है। हालांकि मोतियाबिंद की अंतिम चरण में चिकित्सीय हस्तक्षेप आवश्यक है।

निकट या दूर दृष्टि दोष का उपचार

लगातार आँखों पर पड़ने वाला प्रेशर आँखों की देखने की शक्ति को कम कर देता है, जैसे- पूरे दिन कम्प्यूटर के आगे बैठना, तेज रोशनी में काम करना आदि। कम उम्र में बच्चों को पास य दूर की वस्तु न दिखाई देने से आँखों पर चश्मा पहनना जरूरी हो जाता है। ऐसे में, इस घी के नियमित सेवन तथा आँखों की एक्सरसाइज से सकारात्मक प्रभाव देखने को मिल सकता है।

पढ़िये: पतंजलि दृष्टि आई ड्रॉप Patanjali Divya Anu Taila in Hindi 

दुष्प्रभाव

महात्रिफला घृत के दुष्प्रभाव – Mahatriphala Ghrita Side Effects in Hindi

इसकी अति या दुरुपयोग से कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हो सकते है-

  • दस्त
  • अपच

खुराक

महात्रिफला घृत की खुराक – Mahatriphala Ghrita Dosage in Hindi

खुराक विशेषज्ञ द्वारा महात्रिफला घृत की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है।

आमतौर पर, महात्रिफला घृत की ज्यादातर मामलों में सुझाव की जाने वाली खुराक कुछ इस प्रकार है-

उत्पाद खुराक
use in hindi
Mahatriphala Ghrita
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 2 से 3 ml
  • कब लें: दिन में एक बार
  • खाने से पहले या बाद: खाने के बाद
  • उपचार अवधि: 1 महिना

इसके उपयोग की अवधि की जानकारी किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से लें। उम्र के हिसाब से खुराक को कम या ज्यादा किया जा सकता है।

पढ़िये: मेडिमिक्स सोप | Masturin Syrup in Hindi

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में महात्रिफला घृत के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

भिन्न खाद्य सामग्री के साथ महात्रिफला घृत की प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ महात्रिफला घृत की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, महात्रिफला घृत की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और महात्रिफला घृत की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

गर्भावस्था एक संवेदनशील अवस्था है, इसलिए महात्रिफला घृत का सेवन शुरू करने से पहले डॉक्टर की सलाह लें।

स्तनपान

स्तनपान कराने वाली महिलाओं पर, महात्रिफला घृत के प्रभाव की जानकारी अज्ञात है।

ड्राइविंग

महात्रिफला घृत के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

उच्च कोलेस्ट्रॉल, मधुमेह, हृदय रोग, एलर्जी या अतिसंवेदनशीलता के मामलों में महात्रिफला घृत का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

कीमत

महात्रिफला घृत को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

पढ़िये: वी वॉश Vestige Zeta Tea in Hindi

सवाल-जवाब

क्या महात्रिफला घृत मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है?

नहीं, इस उत्पाद को इस्तेमाल करने से मासिक धर्म चक्र प्रभावित नहीं होता है।

क्या महात्रिफला घृत किड़नी को प्रभावित कर सकता है?

इस घी का किडनी पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं होता है।

क्या महात्रिफला घृत भारत में लीगल है?

हाँ, यह उत्पाद भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: वेस्टीज जीटा टी | Kushta Qalai in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published.