निर्माता

Himalaya Drug Company

कीमत

Rs 165 (60 Tablets)

Himalaya Septilin Tablet की जानकारी
उत्पाद प्रकार Ayurvedic
संयोजन गिलोय + मंजिष्ठा + मुलेठी + गुग्गुल + आंवला
डॉक्टर की पर्ची जरुरी नहीं
Himalaya Septilin Tablet

Himalaya Septilin Tablet Uses in Hindi: फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी

परिचय

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट क्या है? – What is Himalaya Septilin Tablet in Hindi

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के उद्देश्य से तैयार की गई एक आयुर्वेदिक चिकित्सा औषधि है।

इस टैबलेट की जड़ी-बूटियां एक नुस्खे के अनुसार निश्चित अनुपात में मिली होती है, जो हर इंफेक्शन को आत्मसात कर संक्रमणों से छुटकारा दिलाती है।

यह प्रभावी टैबलेट एक समय के कई सारे संक्रमणों को एक साथ ठीक करने में सक्षम है।

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट शल्य चिकित्सा या ऑपरेशन के बाद संभावित संक्रमित स्थितियों से जल्दी उभरने में भी सहायक हो सकती है।

सेप्टिलीन टैबलेट का उपयोग श्वसन तंत्र के संक्रमण, गले में सूजन या संक्रमण, ब्रोंकाइटिस, संक्रमित बुखार, टॉन्सिल, गुर्दे में इंफेक्शन, सर्दी, खाँसी, संक्रमित त्वचा आदि सभी समग्र लक्षणों के उपचार हेतु किया जा सकता है।

सेप्टिलीन टैबलेट हिमालया ड्रग कंपनी द्वारा निर्मित एक मौखिक उपयोग है, जो स्वास्थ्य को भीतर से निरोगी बनाने में बेहद अच्छा योगदान देता है।

यह एक ओटीसी वर्ग की टैबलेट है, जिसे खरीदने के लिए डॉक्टर की पर्ची जरूरी नहीं है।

पढ़िये: इरोटिकन कैप्सूल | Mustang Capsule in Hindi

संयोजन

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट की संरचना – Himalaya Septilin Tablet Composition in Hindi

निम्न घटक हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट में मौजूद होते है।

गिलोय + मंजिष्ठा + मुलेठी + गुग्गुल + आंवला

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट कैसे काम करती है?

  • गिलोय शरीर में एलर्जिक प्रतिक्रिया को समाप्त कर इम्यून सिस्टम को पहले से ज्यादा मजबूत बनाने में कारगर है। गिलोय में कैल्शि‍यम, प्रोटीन, फॉस्फोरस जैसे रासायनिक तत्वों की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है, जो शारीरिक क्षति की भरपाई करने में सहायक होते है। इसके अलावा, गिलोय स्टार्च से परिपूर्ण होता है, जो शक्ति को एकत्रित कर प्रतिरक्षा तंत्र को कई खतरनाक बीमारियों से सुरक्षित रखता है।
  • मंजिष्ठा मुख्यतः खाँसी के लिए प्रयोग की जाने वाली जड़ी-बूटी है। मंजिष्ठा प्रतिरक्षा तंत्र की प्रतिक्रिया को शरीर की जरूरत के हिसाब से बदलने का कार्य करता है, जिसके लिए इस घटक में शामिल एल्केलाइड्स, टैनिन, फ्लेवोनोइड्स और फिनोल जिम्मेदार होते है।
  • मुलेठी में रोगाणुरोधी, जीवाणुरोधी और एंटीवाइरल गुण मौजूद होते है, जो सर्दी, खाँसी, खराश, दमा, सांस की तकलीफ और अत्यधिक बलगम का इलाज कर श्वसन पथ के संक्रमण से आजादी दिलाती है। मुलेठी एक एंटीऑक्सीडेंट है, जो ब्रोन्कियल सूजन और दर्द के लक्षणों से राहत देती है।
  • गुग्गुल त्वचा की परेशानियों के लिए एक फायदेमंद सुविधा है। गुग्गुल फेफड़ों के कामकाज में सुधार कर क्रोनिक खाँसी, ब्रोंकाइटिस, अस्थमा और तपेदिक जैसी स्थितियों का उपचार कर सकता है।
  • आंवला एंटीऑक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल गुणों का विशाल संग्रह है, जो प्रतिरक्षा तंत्र के लिए गुणकारी है। यह शरीर से विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर कफ की गंभीरता का इलाज करने में मददगार है।

पढ़िये: बायोस्लिम टैबलेट | Himalaya Abana Tablet in Hindi

फायदे

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट के उपयोग व फायदे – Himalaya Septilin Tablet Uses & Benefits in Hindi

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट को निम्न अवस्थ व विकार में सलाह किया जाता है-

  • श्वसन तंत्र में संक्रमण
  • संक्रमित बुखार
  • गुर्दे में संक्रमण
  • त्वचा संबंधी समस्याएं
  • गले में सूजन या संक्रमण
  • ब्रोंकाइटिस
  • आम सर्दी
  • खाँसी
  • टॉन्सिल
  • कमजोर रोग प्रतिरोधक क्षमता
  • हीमोग्लोबिन में कमी
  • कान का संक्रमण
  • मूत्र संबंधी संक्रमण

दुष्प्रभाव

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट के दुष्प्रभाव – Himalaya Septilin Tablet Side Effects in Hindi

इसकी अति या दुरुपयोग से कुछ सामान्य दुष्प्रभाव हो सकते है-

  • गैस्ट्रिक परेशानी
  • उच्च रक्तचाप
  • खुजली
  • पेट में दर्द
  • उल्टी
  • दस्त

पढ़िये: सरस्वातरिष्ठा के फायदे | Godanti Bhasma in Hindi

खुराक

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट की खुराक – Himalaya Septilin Tablet Dosage in Hindi

इस टैबलेट की उचित खुराक हमेशा आयुर्वेदिक डॉक्टर या विशेषज्ञ को अपनी खुराक बताकर लेनी चाहिए।

आमतौर पर, हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट की ज्यादातर मामलों में सुझाव की जाने वाली खुराक कुछ इस प्रकार है-

उत्पाद खुराक
use in hindi
Himalaya Septilin Tablet
  • लेने का तरीक़ा: मौखिक खुराक
  • कितना लें: 1 से 2 टैबलेट
  • कब लें: सुबह और शाम
  • खाने से पहले या बाद: खाने के बाद
  • लेने का माध्यम: गुनगुने पानी के साथ
  • उपचार अवधि: डॉक्टर की सलाह अनुसार

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट को शुरू करने के लिए आवश्यक कारण होने चाहिए। बिना मतलब इस टैबलेट की खुराक न लें।

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट के साथ छेड़छाड़ न करें। इन गोलियों को सीधे मौखिक रूप से पानी के साथ ग्रहण करना उचित है।

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित सेप्टिलीन टैबलेट का सेवन जल्द करें। अगली खुराक सेप्टिलीन टैबलेट की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानी

निम्न सावधानियों के बारे में हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

भोजन

सेप्टिलीन टैबलेट की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

जारी दवाई

अन्य जारी दवाई और घटक के साथ सेप्टिलीन टैबलेट की प्रतिक्रिया की उपयुक्त जानकारी नहीं है।

लत लगना

नहीं, सेप्टिलीन टैबलेट की लत नहीं लगती है।

ऐल्कोहॉल

शराब और सेप्टिलीन टैबलेट की साथ में प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

गर्भावस्था

जिन गर्भवती महिलाओं को इस टैबलेट में शामिल किसी भी घटक से एलर्जी है, तो वे डॉक्टर की मंजूरी के बिना इस टैबलेट का सेवन कभी न करें।

स्तनपान

इस विषय में सटीक जानकारी के लिए अपने चिकित्सक से व्यक्तिगत परामर्श लें।

ड्राइविंग

सेप्टिलीन टैबलेट के सेवन से ड्राइविंग क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ता है।

अन्य बीमारी

एलर्जी, मधुमेह या अतिसंवेदनशीलता के मामलों में पंचसकार चूर्ण का उपयोग डॉक्टर की सलाह अनुसार करें।

पढ़िये: महासुदर्शन चूर्ण | Talisadi Churna in Hindi 

कीमत

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट को आप अमेजन से कुछ प्रतिशत छूट पर ऑनलाइन खरीद सकते है-

सवाल-जवाब

क्या हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकती है?

इस विषय में अपने मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक की सलाह लें।

क्या हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट मधुमेह के मामलों में सुरक्षित है?

इस टैबलेट को मधुमेह के मामलों में लेने से पहले चिकित्सक के दिशा-निर्देशों का पालन अवश्य करें।

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट से कितने समय में असर देखने को मिलता है?

उपचार और सुधार की अवधि के लिए मेडिकल स्थिति की जांच आवश्यक है, हालांकि कुछ स्थितियों में यह टैबलेट शीघ्र असर कर जाती है।

क्या हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट वजन को कम या ज्यादा करने में उपयोगी हो सकती है?

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट को विशेषकर वजन घटाने या बढ़ाने के लिए इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।

हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट को कैसे संग्रहित किया जाना चाहिए?

इस टैबलेट को कमरे के ताप पर गर्मी और प्रकाश से दूर स्टोर साफ जगह पर स्टोर किया जाना चाहिए। इसे रेफ्रिजरेटर में संग्रहित करने से भी बचना चाहिए।

क्या हिमालया सेप्टिलीन टैबलेट भारत में लीगल है?

हाँ, यह हर्बल टैबलेट भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: पंचसकार चूर्ण | Sitopaladi Churna in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.