MUSLI-PAK-IN-HINDI

मूसली पाक के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, घटक, उपयोग विधि, कीमत | Musli Pak in Hindi

Baidyanath, Dabur, Patanjali की Musli Pak आज के समय में बहुत से लोग उपयोग करते है। मूसली पाक के फायदे बहुत से है, जिसका मुख्य घटक Safed Musli (सफ़ेद मूसली) है।

इस लेख में आपको मूसली पाक के उपयोग, फायदे, दुष्प्रभाव, रचना, ख़ुराक, प्रयोग विधि व कीमत की जानकारी मिलेंगी. Musli Pak Uses, Benefits, Side Effects, Composition, Dosage, Use Method & Price Details in Hindi.

मूसली पाक क्या है? – What is Musli Pak in Hindi

मूसली पाक एक आयुर्वेदिक ब्राह्मण (पौष्टिक) फार्मूला है, जिसका उपयोग शारीरिक शक्ति को बढ़ाने एवं एक पौष्टिक टॉनिक के तौर पर होता है।

मूसली पाक पुरुषों के स्वास्थ एवं यौनविकारो में मददगार है। यह पुरुषों की ताकत, सहनशक्ति, समय और प्रदर्शन में सुधार करता है।

मूसली पाक के घटक – Musli Pak Ingredients in Hindi

मूसली पाक में मुख्य तौर पर सफेद मूसली (Chlorophytum Borivilianum) होता है, जो इसके गुण को प्रभावित करता है। इसके अलावा निम्नलिखित अन्य सामग्री होती है, जिसे मिलाकर यह आयुर्वेदिक औषधि बनती है।

मूसली पाक बहुत सारी अलग-अलग कंपनिया बनाती है, इसलिए तत्वो और उनकी मात्रा मे बदलाव हो सकता है।

पढ़िये: दिव्य मेदोहर वटी के उपयोग | Dabur Pudin Hara in Hindi 

मूसली पाक काम कैसे करता है?

मूसली पाक इसके दो गुणों के प्रभाव से काम करता है।

1. औषधीय गुण

मूसली पाक में निम्नलिखित औषधीय गुण होते है।

  • Androgenic: Androgens वैसे हॉर्मोन्स होते है, जो एक लड़के को पुरुष (मर्द) बनाते है। मतलब इन हॉर्मोन्स के वजह से ही पुरुष जैसे गुण और व्यहवार आते है।
  • Spermatogenic: शूकराणुओ के सुचारू रूप से विकसित होने की क्रिया को बेहतर करता है।
  • Antioxidant: मूसली पाक एंटीऑक्सीडेंट गुण होते है, जो मूसली पाक ऑक्सीडेशन की क्रिया को कम करता है।
  • Adaptogenic: Adaptogens एक प्रकार के प्राकर्तिक पौधे होते है, जो हर तरह के तनाव से मुक्त करने में मददगार है।
  • Erectogenic Effect: मूसली पाक लिंग के इरेक्शन में मदद करता है, जिससे संभोग प्रतिक्रिया बेहतर बनती है।

2. आयुर्वेदिक गुण

आयुर्वेद के अनुसार, मूसली पाक मुख्य रूप से वात दोष पर कार्य करता है और कफ दोषो को बढ़ा सकता है। ज्यादातर बीमारियों में जिसकी सिफारिश की जाती है, वे वात वृद्धि के कारण होती हैं। यह स्निग्ध नहर में Snigadh या Sneha (Unctuous or Oily) गुना को भी बढ़ा सकता है।

मूसली पाक के फायदे – Musli Pak Benefits in Hindi

आयुर्वेद में मूसली पाक वाजीकरण चिकत्सा (आयुर्वेदिक कामोद्दीपक चिकित्सा) के लिए एक लोकप्रिय दवा है। यह पुरुष बांझपन और पुरुष प्रजनन प्रणाली के अन्य विकारों के उपचार में उपयोगी है। इसके अलावा निम्न इसके अन्य फायदे है।

मांसपेशियों की कमजोरी और थकान

मूसली पाक से मांसपेशियों की ताकत बढ़ती है। दरअसल, यह मांसपेशियों की थकान और शारीरिक थकान को कम करने में मदद करता है। यह मांसपेशियों को पोषण प्रदान करता है, मांसपेशियों में थकावट और थकावट की भावना को कम करता है। एक छोटे से काम के बाद मांसपेशियों की थकान महसूस करने वाले लोगों के लिये मददगार है।

उत्सर्जन और कम वजन

मूसली पाक वजन बढ़ाने (Musli Pak for weight gain) में काफी मददगार है। हालांकि कम वजन वाले लोगो को शुरुआत में मूसली पाक की हल्की खुराक लेनी चहिये। खुराक को धीरे धीरे चिकित्सक या विशेषज्ञ की सलाह से बढ़ाना चहिये।

पुरुष बांझपन – Oligospermia

मूसली पाक आमतौर पर पुरुष बांझपन के उपचार के लिए उपयोग किया जाता है, जो ओलिगोस्पर्मिया (Oligospermia) के कारण होता है। मूसली पाक शुक्राणुओ के मात्रा, गिनती और गतिशीलता में सुधार करता है। इसमें मौजूद मुसली सीरम टेस्टोस्टेरोन के स्तर में सुधार करता है और (Testicular) वृषण कार्यों को बढ़ाता है।

प्रदर – leucorrhoea

महिलाओं को ल्यूकोरिया में मदद कर सकता है। मूसली पाक के अवयवों के अनुसार, यह आमतौर पर पतले और बिना चिपचिपे स्त्राव में सहायक होता है। यह प्रदर के साथ कम पीठ दर्द वाली महिलाओं में भी बहुत उपयोगी है।

पढ़िये: प्रोटीनेक्स पाउडर के फायदे | Chericof Syrup in Hindi

मूसली पाक के नुकसान – Musli Pak Side Effects in Hindi

वैसे तो मूसली पाक के गंभीर और ज्यादा दुष्प्रभाव नहीं होते है। जैसा ये काफी भारी पदार्थ होता है, अगर इसे अनियमित तौर पर और ज्यादा लिया, तो अपच, कब्जियत जैसी समस्याएं हो सकती है।

इससे हो सकने वाली गंभीर समस्याओ से बचने के लिए विशेषज्ञ या चिकत्सक की सलाह अनुसार ही खुराक ले।

प्रयोग विधि व खुराक – Musli Pak Dosage in Hindi

मूसली पाक की ख़ुराक व्यक्ति की उम्र व अवस्था अनुसार बदलती रहती है।

  • आमतौर पर युवा (19 से 60 वर्ष) के लिए मूसली पाक की प्रतिदिन 3 से 24 ग्राम मात्रा दी जाती है।
  • बुजुर्ग (60 साल से ऊपर) के लिए इसकी प्रतिदिन जरूरत मात्रा 3 से 6 ग्राम ही है।
  • Musli Pak की अधिकतम खुराक 48 ग्राम दिन में दो बार दूध या पानी के साथ ली जा सकती है।
  • आप भोजन करने के 2 से 3 घंटे के बाद भी Musli Pak का उपयोग कर सकते है।

मूसली पाक से जुड़ी सावधानियां – Musli Pak Precautions in Hindi

आधुनिक वैज्ञानिक मापदंडों के अनुसार मूसली पाक की सुरक्षा अच्छी तरह से स्थापित नहीं है।

कई आयुर्वेदिक डॉक्टरों के नैदानिक (Clinical) उपयोग और अनुभव के अनुसार, मूसली पाक से किसी भी गंभीर अंग को नुकसान होने की संभावना नहीं है।

लेकिन इसका उपयोग लगातार 6 हफ़्तों से ज्यादा नहीं करना चाहिए। इसे बीच मे थोड़े समय के लिए बंद करना चाहिए। मूसली पाक से जुड़ी सावधानियों के बारे मे जानने के लिए किसी चिकत्सक या विशेषज्ञ की सलाह ले।

पढ़िये: मैकटोटल कैप्सूल की जानकारी | Zevit Capsule in Hindi

मूसली पाक कीमत व वेरिएंट – Musli Pak Price & Variant

मूसली पाक को मार्केट मे बहुत-सी कंपनिया व ब्रांड बनाती है. जिसे आप ऑनलाइन या लोकल मेडिकल व जनरल स्टोर से खरीद सकते है.

निम्न मूसली पाक के प्रमुख प्रोडक्ट है, जिनकी मात्रा और कीमत की जानकारी निचे दी गयी है. आप इन्हें ऑनलाइन बहुत कम कीमत में खरीद सकते है.

प्रॉडक्ट नाम (Product Name)मात्रा (Quantity)कीमत (Price)
Baidyanath Musli Pak 100 ग्राम220 रुपये
Dabur Laghu Musali Pak Granule 125 ग्राम 260 रुपये
VADMANS Patanjali Moosli Pak  200 ग्राम340 रुपये
Attar Ayurveda Pure Safed Musli Powder 100 ग्राम 650 रुपये

Musli Pak FAQ in Hindi

निम्नलिखित कुछ प्रश्न और उनके जवाब है, जो आमतौर पर मूसली पाक के बारे में पूछे जाते है।

1) अगर मूसली पाक लेने पे भूख कम लगती है, तो क्या करना चाहिए?

उत्तर: जब आप शुरुआत में भारी खुराक लेते हैं, तो आमतौर पर भूख की कमी देखी जाती है। आपको इसे कुछ दिनों (3 से 5 दिन) तक रोकने की आवश्यकता है और फिर इसे कम खुराक (2.5 ग्राम) के साथ फिर से शुरू करें। फिर धीरे-धीरे इसकी खुराक बढ़ाएं। यदि फिर भी यह मदद नहीं करता है, तो आपको कुछ हर्बल ऐपेटाइज़र या यकृत एंजाइमों की आवश्यकता हो सकती है, जो भूख और पाचन में सुधार करने में मदद कर सकते हैं।

2) यदि मूसली पाक कब्ज का कारण बनता है, तो मुझे क्या करना चाहिए?

उत्तर: मूसली पाक में साफ मुसली के SNIGADH या SNEHA (Unctuous या Oily) गुण के कारण कब्ज हो सकती है। कब्ज से बचने के लिए फाइबर युक्त भोजन लेना चाहिए। इसके अतिरिक्त, इसबगोल (Psyllium भूसी) की तरह थोक बनाने वाले रेचक भी ले सकते हैं। अन्य हल्के जुलाब जैसे मुनक्का (किशमिश), त्रिफला, स्वादिष्ठ विरेचन चूर्ण आदि भी कब्ज मे मदद कर सकते हैं। यदि मूसली पाक के साथ गंभीर कब्ज होता है, तो आपको इसे तुरंत रोकना चाहिए।

3) क्या कोई महिला मूसली पाक ले सकती है?

उत्तर: हाँ, महिलाएं बलगम के साथ-साथ ताकत में सुधार और दुर्बलता को कम करने के लिए भी मूसली पाक का सेवन कर सकती हैं। प्रदर (ल्यूकोरिया) में यह तब उपयोगी होता है, जब निर्वहन (Discharge) सफेद, पतला और गंधहीन होता है।

4) मूसली पाक को कैसे लेना चाहिए?

उत्तर: इसे गर्म दूध के साथ इसकी निर्धारित खुराक के अनुसार लिया जा सकता है।

5) क्या मूसली पाक पानी के साथ भी ले सकता हूँ?

उत्तर: हाँ, मूसली पाक को पानी के साथ भी लिया जा सकता है। आयुर्वेद सिद्धांतों के अनुसार, दूध दवा की मजबूत क्रिया को उत्तेजित करता है और पोषण में सहायता करता है। पानी के साथ दूध जीतने लाभ नहीं मिलेंगे।

6) क्या मूसली पाक को शराब (Alcohol) के साथ लिया जा सकता है?

उत्तर: नहीं, मूसली पाक को शराब (Alcohol) के साथ नहीं लिया जा सकता है।

पढ़िये: हेयरब्लेस टैबलेट की जानकारी | Pantocid Tablet in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *