मन्मथ रस: फायदे, नुकसान, खुराक, साइड एफ़ेक्ट्स, उपयोग, सावधानी | Manmath Ras Tablet in Hindi

Manmath Ras in Hindi
नाम (Name)मन्मथ रस टैबलेट
संरचना (Composition)अभ्रक भस्म + शुद्ध कपूर + वंग भस्म + लौह भस्म + जायफल + शतावरी + लवंग + कौंच बीज
दवा-प्रकार (Type of Drug)आयुर्वेदिक दवा
उपयोग (Uses)कामशक्ति में कमी शीघ्रपतन, स्वप्नदोष, पतला वीर्य, यौन नसों की कमजोरी, नपुसंकता आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects)बाल झड़ना, चक्कर, सिर का भारी होना, उल्टी आदि
ख़ुराक (Dosage)जरूरत अनुसार
किसी अवस्था पर प्रभावडायबिटीज, अतिसंवेदनशीलता आदि
खाद्य पदार्थ से प्रतिक्रियाअज्ञात
अन्य दवाई से प्रतिक्रियाअज्ञात

मन्मथ रस क्या है? – What is Manmath Ras in Hindi

Manmath Ras शारीरिक थकावट के समय इस्तेमाल की जाने वाली एक आयुर्वेदिक औषधि है। बैद्यनाथ मन्मथ रस की एक प्रचलित निर्माता है।

Advertisements

आजकल खराब खानपान और डिजिटल सुविधाओं के कारण शीघ्रपतन, नपुसंकता और स्वप्नदोष जैसे यौन विकार बेहद आम हो गए है। मन्मथ रस इन स्थितियों में पुरुषों के लिए किसी वरदान के कम नहीं है।

मन्मथ रस स्तंभन शक्ति में अविश्वसनीय सुधार कर चरम सुख का आनंद प्रदान करने में सहायता करता है।

मन्मथ रस का उपयोग वीर्य विकार, मानसिक थकावट, नपुसंकता, बांझपन, स्तंभन दोष, तनाव, टेस्टोस्टेरॉन की कमी, स्वप्नदोष, शुक्र नसों की कमजोरी, ल्यूकोरिया आदि सभी लक्षणों के उपचार में किया जा सकता है।

मन्मथ रस एक प्राकृतिक कामोद्दीपक के रूप में कार्य करता है, जो आवश्यक शुक्राणुओं की संख्या और उनकी गुणवत्ता का पूरा ख्याल रखता है।

अतिसंवेदनशीलता और एलर्जी के मामलों में मन्मथ रस के सेवन से पूरी तरह परहेज किया जाना चाहिए।

मन्मथ रस की संरचना – Manmath Ras Composition in Hindi

निम्न घटक मन्मथ रस में होते है।

अभ्रक भस्म + शुद्ध कपूर + वंग भस्म + लौह भस्म + जायफल + शतावरी + लवंग + कौंच बीज

मन्मथ रस कैसे काम करती है?

  • अभ्रक भस्म मस्तिष्क की उत्तेजित नसों को शांत करने का कार्य करती है। यह पोषण प्रदान कर शारीरिक कमजोरी और कामेच्छा की कमी को दूर करने वाला एक उपयोगी घटक है।
  • शुद्ध कपूर में कई गुणों का योग होता है। यह विशेषकर यौन संबंधी संक्रमणों को दूर कर शिश्न निर्माण में मदद करता है। इसके अलावा, यह वीर्य उत्पादन की प्रक्रिया को भी नियंत्रित करता है।
  • वंग भस्म शारीरिक संबंधों से होने वाली घबराहट को कम करने का कार्य करती है। यह नपुसंकता के इलाज में भी बेहद फायदेमंद है।
  • लौह भस्म रक्त बनाने का कार्य करती है। यह शिथिल पड़े शिश्न में रक्त प्रवाह को बढ़ाकर उचित कामकाज के लिए उत्तेजित करती है।
  • जायफल शुक्राणु की समस्याओं के लिए उत्तम है। यह शुक्राणुओं के उत्पादन में सुधार करने और टेस्टोस्टेरॉन स्तर को बरकरार रखने का सकुशल कार्य करता है।
  • शतावरी पुरुषों में नया जोश और उमंग भरने का कार्य करती है। इसका मुख्य कार्य कामेच्छा के प्रति आकर्षण पैदा करना है।
  • लवंग शिश्न के ढीलेपन को दूर कर स्तंभन विकास को सुनिश्चित करने में सक्रिय है। यह शीघ्रपतन से भी छुटकारा दिलाने में कारगर है।
  • कौंच बीज मानसिक तनाव की वजह से पैदा हुए यौन रोगों के इलाज हेतु मानसिक तनाव को कम करने का कार्य करते है। यह स्पर्म काउंट को सामान्य करने में सहायक है।

पढ़िये: अर्जुनारिष्ट | Shatavari in Hindi 

मन्मथ रस के उपयोग व फायदे – Manmath Ras Uses & Benefits in Hindi

मन्मथ रस को निम्न अवस्था व विकार में सलाह किया जाता है।

  • कामशक्ति में कमी
  • शीघ्रपतन
  • स्वप्नदोष
  • पतला वीर्य
  • यौन नसों की कमजोरी
  • नपुसंकता
  • ल्यूकोरिया (सफेद पानी की समस्या)
  • वीर्य हानि
  • संक्रमण
  • मानसिक तनाव
  • आत्मविश्वास की कमी
  • बांझपन
  • स्तंभन दोष
  • संभोग असंतुष्टि

मन्मथ रस के दुष्प्रभाव – Manmath Ras Side Effects in Hindi

निम्न साइड एफ़ेक्ट्स मन्मथ रस के कारण हो सकते है। आमतौर पर साइड एफ़ेक्ट्स मन्मथ रस से शरीर की अलग प्रतिक्रिया व गलत खुराक से होते है और सबको एक जैसे साइड एफ़ेक्ट्स नहीं होते है। अत्यंत मन्मथ रस से दुष्प्रभाव में डॉक्टर की सहायता लें।

  • बाल झड़ना
  • चक्कर
  • सिर का भारी होना
  • उल्टी
  • हृदय धड़कन तेज होना

मन्मथ रस की खुराक – Manmath Ras Dosage in Hindi

  • मन्मथ रस खुराक की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है।
  • एक सामान्य वयस्क के लिए, मन्मथ रस की प्रतिदिन 1-2 टैबलेट दूध के साथ लेने की सलाह दी जाती है।
  • छोटे बच्चों के लिए यह दवा अनुशंसित नहीं है। फिर भी, इस विषय में पूरी जानकारी के लिए बाल रोग विशेषज्ञ से परामर्श करें।
  • नियमित खुराक में परिवर्तन करने के लिए हमेशा अपने चिकित्सक का सहारा लें। इस विषय में अपने स्वास्थ्य से जुड़ी सभी व्यक्तिगत समस्याओं के बारें में अपने डॉक्टर से चर्चा करें।
  • मन्मथ रस की तय खुराक को रोज एक निश्चित समय पर दोहराएं।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित मन्मथ रस का सेवन जल्द करें। अगली खुराक निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: Swarna Bhasma in Hindi | Rajat Bhasma in Hindi 

सावधानियां – Manmath Ras Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में मन्मथ रस के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में मन्मथ रस से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर ही Manmath Ras की खुराक लें।

  • डायबिटीज
  • अतिसंवेदनशीलता
  • ह्रदय, लिवर या किडनी दुर्बलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

मन्मथ रस की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: Triphala Juice in Hindi | Kesari Kalp Chwanprash in Hindi

Manmath Ras FAQ in Hindi

1) क्या मन्मथ रस एनीमिया के उपचार में सहायक है?

उत्तर: हाँ, मन्मथ रस टैबलेट एनीमिया के इलाज में सहायक है। इस दवा में मौजूद लौह भस्म एनीमिया से जुड़े रोगों के लिए बेहद ही असरदार होता है। इस दवा द्वारा एनीमिया के पूर्ण उपचार हेतु डॉक्टर से व्यक्तिगत परामर्श लिया जाना आवश्यक है।

2) क्या मन्मथ रस महिलाओं में उपयोगी है?

उत्तर: मन्मथ रस का इस्तेमाल अधिकतर पुरुष लोग करते है, क्योंकि यह खासकर पुरुषों की यौन दुर्बलताओं को दूर करने के लिए बनी है। महिलाओं में यह दवा ल्यूकोरिया और गर्भाशय की समस्याओं का इलाज कर बेहद उपयोगी साबित हो सकती है। लेकिन यहाँ डॉक्टर की सलाह को ही प्राथमिकता दें।

3) क्या मन्मथ रस संतान प्राप्ति में सहायक दवा है?

उत्तर: पुरुषों में यौन दुर्बलता और महिलाओं में गर्भाशय से जुड़ी समस्याएं ही संतान प्राप्ति के सुख में बाधा बनती है। यह दवा दोनों स्थितियों में कारगर है, लेकिन सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए इस विषय में अपने चिकित्सक से सम्पर्क अवश्य करें।

4) क्या मन्मथ रस स्तनपान कराने वाली महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: स्तनपान करने वाली महिलाओं को इस दवा के लिए डॉक्टर से व्यक्तिगत सम्पर्क करने की आवश्यकता है, क्योंकि ऐसी अवस्था में यह दवा दुष्प्रभावों को जल्दी उत्पन्न कर सकती है।

5) क्या मन्मथ रस का सेवन एल्कोहोल के साथ किया जा सकता है?

उत्तर: मन्मथ रस की गोलियों को बिना तोड़े, चबायें, कुचले या चूसें एक बार में पूरी निगलने की सलाह दी जाती है। शरीर में, इस दवा का अवशोषण होने के समय एल्कोहोल की उपस्थिति सेहत के लिए हानिकारक हो सकती है। इसलिए एल्कोहोल के साथ इस दवा के सेवन से पूरी तरह परहेज करें।

6) क्या मन्मथ रस को लेने से इसकी आदत लगती है?

उत्तर: नहीं, मन्मथ रस को लेने से इसकी आदत नहीं लगती है। मन्मथ रस में ऐसे किसी प्रकार के यौगिक को शामिल नहीं किया जाता है, जो शरीर को इस दवा के लिए मजबूर बनायें।

7) क्या मन्मथ रस अत्यधिक शारीरिक गर्मी को नियंत्रित करने में सहायक है?

उत्तर: गर्म पदार्थों के सेवन से और संभोग के प्रति ज्यादा तत्पर होने की चाह में शारीरिक गर्मी बढ़ जाती है। यह दवा संभोग क्रिया को सफल बनाकर शारीरिक गर्मी को नियंत्रित कर सकती है। लेकिन अन्य बीमारियों से पैदा हुई शारीरिक गर्मी को दूर करने के लिए आपको चिकित्सक की सलाह लेनी आवश्यक है।

8) क्या मन्मथ रस संभोग के बाद आने वाली थकान को दूर करने में सहायक है?

उत्तर: हाँ, यह दवा संभोग के बाद आने वाली थकान को दूर करने में सहायक है। इस विषय में दवा का कैसे इस्तेमाल किया जाना है, इस बारें में चिकित्सक की निजी सलाह लें।

9) क्या मन्मथ रस गर्भवती महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: आमतौर पर, गर्भवती महिलाओं में यह दवा अनुशंसित नहीं है। लेकिन गर्भाशय दोष के कारण गर्भधारण करने में आने वाली समस्याओं को दूर करने में, यह दवा मददगार साबित हो सकती है।

10) क्या मन्मथ रस ड्राइविंग क्षमता को प्रभावित कर सकती है?

उत्तर: नहीं, यह दवा ड्राइविंग क्षमता को प्रभावित नहीं करती है। मन्मथ रस एक शक्तिवर्धक दवा है, जो भारी कामों के लिए आवश्यक ऊर्जा को बढ़ाता है।

11) क्या मन्मथ रस भूखे पेट सुरक्षित है?

उत्तर: इन गोलियों को भोजन के बाद दूध के साथ लेना ज्यादा फायदेमंद है। भूखे पेट इस दवा के सेवन से पेट पर असर पड़ सकता है। इसलिए इस दवा को भोजन के बाद ही लें।

12) क्या मन्मथ रस भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, यह आयुर्वेदिक दवा भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़ियेHimalaya Liv 52 Syrup in Hindi | Vita Ex Gold Plus in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *