Himalaya Liv 52 DS Tablet

Liv 52 DS Tablet के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट

नाम (Name)Himalaya Liv 52 DS Tablet
निर्माता (Manufacturer)Himalaya Drug Company
संरचना (Composition)कासनी + हिमस्रा + अर्जुन
दवा-प्रकार (Type of Drug)आयुर्वेदिक दवा
कीमत (Price)155 रुपये (60 टैबलेट)
वेरिएंट (Variant)Himalaya Liv 52 Syrup

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट क्या है? – What is Himalaya Liv 52 DS Tablet in Hindi

Liv 52 DS Tablet लीवर की आयु को लंबे समय तक बरकरार रखने वाली एक आयुर्वेदिक दवा है, जिसमें शामिल सभी अवयवों में प्राकृतिक गुणधर्म होते है।

रसायनों से मुक्त यह दवा पाचन की प्रगति को बढ़ाने में सहायक हो सकती है।

हमारे शरीर की अनेक पाचन गतिविधियां लीवर से संबंधित हो सकती है। यद्यपि लीवर पर कोई आघात होता है, तो सबसे पहला गलत प्रभाव पाचन तंत्र पर देखने को मिलता है।

यह दवा लीवर को सेहतमंद कर खाने के अवशोषण को इस तरीके से बढ़ाती है कि जिससे वजन भी नियंत्रण में रहें और हजम शक्ति पर भी दबाव न पड़ें।

Liv 52 DS Tablet के उपयोग से एनोरेक्सिया, हेपेटाइटिस, एल्कोहोलिक लीवर डिजीज, पीलिया, लीवर सिरोसिस, भूख परिवर्तन, आंतों में इंफेक्शन, फैटी लीवर और एनीमिया जैसी कई अन्य स्थितियों का उपचार किया जा सकता है।

यह दवा लीवर की कार्यात्मक और सुरक्षात्मक शक्ति को बनाएं रखने में मददगार हो सकती है।

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट की संरचना – Himalaya Liv 52 DS Tablet Composition in Hindi

निम्न घटक Himalaya Liv 52 DS Tablet में होते है।

कासनी + हिमस्रा + अर्जुन

पढ़िये: आईएमई 9 टैबलेट | Kayam Tablet in Hindi

Himalaya Liv 52 DS Tablet कैसे काम करती है?

  • कासनी एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट यौगिक है, जो शरीर से मुक्त कणों की सफाई का कार्य करता है। यह शराब की विषाक्ता के खिलाफ कार्य कर लीवर को सुरक्षा प्रदान कर संक्रमणों से बचाए रखता है।
  • हिमस्रा एक हेपेटोप्रोटेक्टिव यौगिक है, जो प्लाज्मा और हेपेटिक कोशिकाओं में मैलोनडिएल्डिहाइड (ऑक्सीडेटिव तनाव के लिए जिम्मेदार) के स्तर की वृद्धि को रोकने का कार्य करता है। यह लीवर की सूजन को कम करने, उसके कार्यों को सुनिश्चित करने और कार्यात्मक दक्षता में सुधार के लिए प्रभावी है।
  • अर्जुन पाचन क्रिया को सुधारने वाला एजेंट है। यह खाने के अवशोषण को बढ़ाकर भूख लगाने में मदद कर सकता है। यह संक्रमित लीवर जिससे हेपेटाइटिस होता है, को ठीक करने के लिए जिम्मेदार बैक्टीरिया और वायरस के विकास को रोकने में मददगार हो सकता है।
  • यह दवा लीवर की कमजोरी को दूर कर सूजन और दर्द से आराम प्रदान कर सकती है। यह रक्त के स्तर में सुधार कर एनीमिया के लक्षणों में काफी कारगर हो सकती है।

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट के उपयोग व फायदे – Himalaya Liv 52 DS Tablet Uses & Benefits in Hindi

Himalaya Liv 52 DS Tablet को निम्न अवस्था या विकार में सलाह किया जाता है।

  • वायरल हेपेटाइटिस
  • सिरोसिस
  • एनोरेक्सिया
  • भूख की कमी
  • एल्कोहोलिक लीवर डिजीज
  • पीलिया
  • फैटी लीवर
  • यकृत संक्रमण
  • हल्का कब्ज
  • मूत्राशय की सूजन
  • हीमोग्लोबिन में कमी
  • आंतों में इंफेक्शन
  • एनीमिया
  • पेप्टिक अल्सर
  • सुस्त लीवर
  • ल्यूकोरिया

पढ़िये: वोलिनी स्प्रे |  Itone Eye Drops in Hindi

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट के दुष्प्रभाव – Himalaya Liv 52 DS Tablet Side Effects in Hindi

निम्न साइड इफेक्ट्स Himalaya Liv 52 DS Tablet के कारण हो सकते है। आमतौर पर साइड इफेक्ट्स Himalaya Liv 52 DS Tablet से शरीर की अलग प्रतिक्रिया व गलत खुराक से होते है और सबको एक जैसे साइड इफेक्ट्स नहीं होते है।

  • त्वचा में जलन
  • एलर्जी
  • मतली
  • चेहरे पर लाल चकत्ते होना
  • सिर भारी होना

हिमालया लिव 52 डीएस टैबलेट की खुराक – Himalaya Liv 52 DS Tablet Dosage in Hindi

  • खुराक डॉक्टर द्वारा Liv 52 DS Tablet की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है। इसलिए इसका सेवन डॉक्टर से निजी सलाह लेने के बाद शुरू करें।
  • Liv 52 DS Tablet की खुराक सामान्य वयस्कों को एक टाइम की एक से दो टैबलेट दिन में दो से तीन बार लेनी चाहिए।
  • Liv 52 DS Tablet को बच्चों में आधी से एक गोली दिन में दो से तीन बार दी जानी चाहिए। इस विषय में बाल रोग चिकित्सक की सलाह ले सकते हैं।
  • इस दवा की गोलियों को तोड़कर, चबाकर या कुचलकर लेने की भूल न करें। इसे गुनगुने पानी के साथ आइस्ता लें।
  • इससे उपचार की अवधि लम्बी चल सकती है, इसलिए डॉक्टर द्वारा सुझाई गई खुराक का रोजाना पालन करें।
  • इस दवा को लेने के बाद यदि इससे आपको फायदें प्राप्त नहीं हो रहें तो ऐसी स्थिति में खुराक को बंदकर अपने चिकित्सक से व्यक्तिगत सम्पर्क करें।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित Liv 52 DS Tablet का सेवन जल्द करें। अगली खुराक Liv 52 DS Tablet की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: स्त्रीवेदा पाउडर |  Aimil Bgr-34 Tablet in Hindi

Himalaya Liv 52 DS Tablet FAQ in Hindi

1) क्या Liv 52 DS Tablet रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ा सकती है?

उत्तर: इस दवा में इम्युनोमॉड्यूलेटर गुण होते है, जो रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में सहायक है। यह दवा लीवर के कार्यों को सुधारने और स्वास्थ्य को कई जोखिमों से छुटकारा दिलाने में मददगार साबित हो सकती है।

2) क्या Liv 52 DS Tablet वजन बढ़ाने में सहायक हो सकती है?

उत्तर: हाँ, इस दवा का इस्तेमाल से वजन को बढ़ाया जा सकता है। यह दवा भूख में बढ़ोतरी कर भोजन की आवश्यकता को बढ़ाती है, जिससे पूरी पाचन प्रणाली एक्शन में आ जाती है। परिणामस्वरूप खाना शरीर पर लगने से वजन में इजाफा संभव है।

3) क्या Liv 52 DS Tablet से आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, इस दवा के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है। हर लीवर से जुड़ी हर दिक्कतों का लिए खास हो सकती है और इसे लंबे समय तक लेने की आवश्यकता हो सकती है।

4) क्या Liv 52 DS Tablet गर्भवती महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: यदि गर्भावस्था के दौरान, पीलिया या भूख न लगने की परिस्थिति बन चुकी है, जिससे इस दवा की आवश्यकता महसूस होती है, तो आप अपने चिकित्सक की सलाह से ही इसे शुरू करें। सर्जरी, एलर्जी या अतिसंवेदनशीलता के मामलों में गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर की सलाह की सख्त आवश्यकता हो सकती है।

5) क्या Liv 52 DS Tablet हीमोग्लोबिन को बढ़ाने में सहायक है?

उत्तर: जब शरीर लंबे समय तक रक्त की कमी से झूझ रहा होता है, तब एनीमिया का खतरा सबसे ज्यादा रहता है। इस दवा को एनीमिया के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है क्योंकि यह खून बनने की प्रक्रिया में सुधार कर सकती है। यह दवा रक्त के साथ हीमोग्लोबिन के स्तर को बढ़ाने में भी फायदेमंद हो सकती है।

6)  Liv 52 DS Tablet को कैसे संग्रहित किया जाना चाहिए?

उत्तर: इस दवा को कमरे के ताप पर सीधे प्रकाश और गर्मी से बचाते हुए संग्रहित किया जाना चाहिए। ध्यान रहें, इस दवा को बच्चों और पालतू जानवरों से भी दूर रखें। इसे फ्रिज में रखने की गलती न करें।

7) क्या Liv 52 DS Tablet भूखे पेट सुरक्षित है?

उत्तर: इस दवा के पूरे अध्यनन से पता चलता है कि इसे भोजन के बाद लेना ही ज्यादा सुरक्षित माना जाता है। भोजन के पहले लेने से इससे क्या दुष्प्रभाव हो सकते है, इस बारें में आप अपने चिकित्सक की राय ले सकते है।

8) क्या Liv 52 DS Tablet स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: इस विषय में जानकारी अज्ञात होने के कारण आप किसी गायनेकोलॉजिस्ट से सलाह ले सकते है।

9) क्या Liv 52 DS Tablet पथरी के इलाज में सहायक है?

उत्तर: यह हर्बल दवा लीवर के लिए उत्कृष्ट है, लेकिन इससे पथरी को मिटाने की चाह रखने वाले लोगों को पहले चिकित्सक की सलाह अवश्य लेनी चाहिए।

10) क्या Liv 52 DS Tablet की खुराक के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: हाँ, इस दवा की खुराक के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है, लेकिन लक्षणों की गंभीरता अधिक होने पर दवा की खुराक के बाद अपनी सुरक्षा पर ज्यादा ध्यान दें। यदि आप ड्राइविंग करने की हालत में नहीं है तो ड्राइविंग न करें।

11) क्या Liv 52 DS Tablet एल्कोहल के साथ सुरक्षित है?

उत्तर: एल्कोहोल के साथ इस दवा के व्यवहार की कोई खास जानकारी नहीं होने के कारण आप अपने चिकित्सक की सलाह ले सकते है। यदि मरीज का लीवर ज्यादा शराब के सेवन से खराब हुआ है तो डॉक्टर आपको ये दवा लेने की सलाह दे सकते है।

12) क्या Liv 52 DS Tablet मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकती है?

उत्तर: इस विषय में मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक की सलाह अवश्य लें।

13) क्या Liv 52 DS Tablet भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, यह आयुर्वेदिक दवा भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: पीड़ानील गोल्ड टैबलेट | Boroline Cream Benefits in Hindi

References

AN OPEN CLINICAL STUDY TO EVALUATE THE SAFETY AND EFFICACY OF Liv.52 DS IN THE MANAGEMENT OF NON-ALCOHOLIC FATTY LIVER DISEASE (NAFLD) https://www.authorea.com/users/310018/articles/440862-an-open-clinical-study-to-evaluate-the-safety-and-efficacy-of-liv-52-ds-in-the-management-of-non-alcoholic-fatty-liver-disease-nafld?commit=55fa5e2cb2247b66e3981e842f4d129a7a41c57a Accessed On 18/06/2021

Kasni (Cichorium intybus): A Unani Hepatoprotective Drug https://www.researchgate.net/publication/343035352_Kasni_Cichorium_intybus_A_Unani_Hepatoprotective_Drug Accessed On 18/06/2021

Efficacy and Advancement of Terminalia arjuna in Indian Herbal Drug Research: A Review https://www.researchgate.net/publication/335448881_Efficacy_and_Advancement_of_Terminalia_arjuna_in_Indian_Herbal_Drug_Research_A_Review Accessed On 18/06/2021

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *