एक्यूप्रेशर के प्रकार | Acupuncture से सूजोक एक्यूप्रेशर तक

acupressure-types-in-hindi

आखरी लेख में हमने Acupressure क्या है? यह विस्तार से जाना था। इस लेख में हम Acupressure के प्रकार के बारे में जानेंगे।

Acupressure एक ऐसी उपचार विधि है, जिसमें किसी केमिकल को शरीर में लिए बिना, बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज किया जाता है। इसमें कैंसर और मानसिक विकार भी शामिल है।

अलग-अलग Acupressure की खोज अलग-अलग कारक से हुई है, लेकिन इन सबमें विशेष बिन्दुओं पर ही काम किया जाता है। तो आइये जानते है, Acupressure के प्रकार के बारे में

एक्यूप्रेशर के प्रकार

Acupressure को विशेष बिंदुओं, दबाने के लिए उपयोग की जाने वाली सामग्री और मौलिक तत्वों के मान्यताओं के अनुसार निम्नलिखित भागों में बांटा गया है।

1) Acupuncture (एक्यूपंक्चर)

Acupuncture में विशेष बिंदुओं पर दबाब देने के लिए सुई या किसी नुकीली चीज़ का इस्तेमाल किया जाता है।

Acupunture की शुरुआत चीन में 3000-4000 साल पूर्व हुआ था, जब चीनी सैनिकों को अकस्मात ही इस बात का ज्ञान हुआ, कि उनके नुकीले औज़ारों से जब भिन्न शरीर के बिंदुओं पर दबाब दिया जाता है, तो दर्द, बीमारियों में राहत मिलती है। और इसके बाद धीरे-धीरे अन्य प्रकार के Acupressure सामने आए।

Acupuncture से ही Acupressure और अन्य प्रकारों का उदय हुआ, जब Acupuncture को गहराई में जानने की कोशिश की गए। पुरानी चीनी पुस्तकों में Acupuncture का विवरण मिलता है।

पढ़िये:

2) Magneto Therapy (मैग्नेटो थेरेपी)

Magneto Therapy में विशेष बिन्दुओ पर कम चुम्बकीय क्षेत्र (Magnetic Field) वाले चुम्बक से दबाब दिया जाता है। विशेषज्ञ के अनुसार अगर किसी शरीर के भाग पर कम चुम्बकीय क्षेत्र का प्रभाव डाला जाता है, तो शरीर में कुछ फायदे देखने को मिलते है। इसके फायदे के तत्थों की कोई विशेष पुष्टि नहीं हुए है। 

3) Seed Therapy (बीज थेरेपी)

इसमें विशेष बिंदुओं पर दबाब देने के लिए बीज का उपयोग किया जाता है। Seed Therapy द्वारा उपचार में बीज के औषधीय गुण बहुत मायने रखते है।

Seed Therapy में बीज को ज़रूरी बिन्दु पर रस्सी या प्लास्टिक से कुछ समय तक बाँधकर छोड़ दिया जाता है। इसमें मुख्यतः हरे चने, राजमा और मटर का प्रयोग होता है। Seed Therapy में बिन्दुओ और दर्द के गंभीरता के अनुसार उचित आकार, रंग के बीज का चयन किया जाता है।

मरीज को राहत मिलने के बाद बीज का आकार, ढाँचा बदल जाता है, रंग उतर जाता है और कई बार बीज अपनी खुश्बू भी खो बैठता है। बीज थेरेपी सूजोक थेरेपी का सहायक है।

4) Chinese Acupressure (चीनी एक्यूप्रेशर)

इसमें ज़रूरी बिंदुओं का पता, पूरे शरीर में जाल के समान फैले 14 मुख्य मेरिडियन (Meridians) के रास्ते को जांचकर लगाया जाता है।

इन 14 मेरिडियन के द्वारा जीवनी शक्ति, जो शरीर में प्राण और ऊर्जा भर्ती है, वो प्रवाहित होती है। शरीर में मौजूद कुछ विशेष बिंदु जीवनी शक्ति के स्तर, प्रवाह को किसी विशेष अंग के लिए प्रभावित करते है।

मतलब लक्षित बिन्दु, जो लक्षित अंग से जुड़े हुए है, पर दबाने या मसाज करने से लक्षित अंग की बीमारी या दर्द से राहत मिलती है। Chinese Acupressure के अनुसार पूरे शरीर में 300 ज़रूरी बिंदू है। ये 5 तत्व जिसमें पृथ्वी, जल , वायु, अग्नि आकाश शामिल है, उनपर आधारित है। 

5) Ayurvedic Acupressure (आयुर्वेदिक एक्यूप्रेशर)

आयुर्वेदिक एक्यूप्रेशर दशोपत्ति सिद्धान्त पर आधारित है। दशोपत्ति सिद्धांत के अनुसार शरीर को स्वस्थ रखने के लिए 10 तत्वो का संतुलन आवश्यक है। इसमे भिन्न बिंदुओं को दबाकर 10 तत्वों को संतुलित किया जाता है। वो 10 तत्व निम्न हैं,

  • पृथ्वी,
  • जल ,
  • वायु,
  • अग्नि,
  • आकाश,
  • काल,
  • दिशा मन,
  • आत्मा
  • और तम

6) Yogic Acupressure (योगिक एक्यूप्रेशर)

योगिक एक्यूप्रेशर सात चक्रों और उन चक्रो का सम्पूर्ण शरीर पर प्रभाव पर आधारित है। योगिक एक्यूप्रेशर में इन सातों चक्रों पर दबाब के माध्यम से लाईलाज रोगों, जन्मजात बीमारियो से निजात पाया जाता है।

योगिक एक्यूप्रेशर को किसी जानकर के ही निगरानी में ही करना चाहिए।

7) Color Acupressure (रंग एक्यूप्रेशर)

Color Acupressure में विशेष बिन्दुओ पर रंगों से दबाब दिया जाता है। इसमे 10 रंगों का इस्तेमाल किया जाता है। रंगों का चयन उनकी ऊर्जा और हमारी शरीर की ऊर्जा का उनसे तालमेल के अनुसार किया जाता है।

ये 10 रंग 10 आयुर्वेदिक तत्वों को दर्शाते है। रंग एक्यूप्रेशर छोटे बच्चों और मानसिक परेशानियों से झूझ रहे लोगो से लिए बहुत कारगर सिद्ध हुआ है।

पढ़िये:

8) Su jok Acupressure (सूजोक एक्यूप्रेशर)

Su jok Acupressure की खोज कोरियन प्रोफेसर Park jae Woo ने की थी।

Su jok Acupressure सबसे नई एक्यूप्रेशर विधी है। Su jok Acupressure के अनुसार सारे 14 मेरिडियन हाथो की हथेली और पैरों के तलवे से जुड़े होते है। मतलब हाथो और पैरो के भिन्न बिंदुओं को दबाकर या उनपर मसाज करके स्वस्थ रहा जा सकता है। Su jok Acupressure पूर्णतः सुरक्षित, सरल और कारगर एक्यूप्रेशर है।

आखरी शब्द

हमें उम्मीद है, कि यह लेख “एक्यूप्रेशर के प्रकार | Acupuncture से सूजोक एक्यूप्रेशर तक” आपके लिए मददगार होगा और आपको एक्यूप्रेशर के प्रकार के बारे में जानने को मिला होगा। अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमें कमेंट में जरूर बताएं।

यह पोस्ट कितनी उपयोगी थी?
[Total: 0 Average: 0]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *