Cephalandra Indica

Cephalandra Indica Mother Tincture Q in Hindi | सेफलैंड्रा इंडिका मदर टिंचर के फायदे, नुकसान, प्रयोग विधि

Cephalandra Indica Mother Tincture Q क्या है?

सेफलैंड्रा इंडिका मधुमेह के लिए एक होम्योपैथिक उपचार है।

आज मधुमेह की समस्या बहुत तेजी से फैल रही है, जिसे एलोपैथिक दवाओं द्वारा सिर्फ बढ़ने से रोका जा रहा है क्योंकि मधुमेह-रोधी एलोपैथिक दवाएं एक अस्थायी उपचार है। वही होम्योपैथी चिकित्सा की एक रिसर्च के अनुसार, उन्होंने सही दवा और परीक्षण के आधार पर मधुमेह के उपचार में उच्च सफलता प्राप्त करने का दावा किया है।

इसका परीक्षण चूहों पर किया गया, जिसमें सेफलैंड्रा इंडिका मदर टिंचर से चूहों के अग्नाशय में रक्त शर्करा के स्तर में कमी, शारीरिक वजन में सुधार और बीटा-कोशिकाओं का पुनर्निर्माण देखा गया। इसीलिए आज इस दवा को एक मजबूत एंटीडायबिटिक दवा के रूप में देखा जाता है।

cephalandra-indica

सेफलैंड्रा इंडिका एक बारहमासी जंगली लता होती है, जो पूरे भारत में पाई जाती है। आयुर्वेद की तरह ही होमियोपैथी भी प्रकृति में मौजूद नेचुरल घटकों का प्रभुत्व देखर, उनसे बीमारी का इलाज तलाशता है। इस जंगली लता के पत्ते, फूल, जड़ और छाल के प्रयोग मधुमेह के उपचार हेतु किया जाता है।

इस पर लगने वाले कच्चे फल का सेवन करने से मुंह के साधारण घाव ठीक होते है और तो और पत्तियों का उपयोग करने से फोड़े, फुंसियों और अन्य त्वचा से जुड़े लक्षण दूर होते है।

डायबिटीज के कारण होने वाले प्रतिकूल प्रभाव से आराम पाने के लिए, सेफलैंड्रा इंडिका बहुत उपयोगी दवा हो सकती है।

एक OTC वर्ग की दवा है, अथार्त इस दवा को खरीदने के लिए, डॉक्टर की पर्ची आवश्यक नहीं है।

यह दवा पाचन के समय कार्बोहाइड्रेट को ग्लूकोज में बदलने से रोकती है, जिससे रक्त शर्करा और रक्त यूरिया का स्तर घटता है।

नामCephalandra Indica Mother Tincture Q
निर्माता (Manufacturer)SBL Pvt Ltd
संरचना (Composition)Cephalandra Indica
दवा-प्रकार (Type of Drug)होम्योपैथिक
कीमत (Price)100 रूपये (30ml)

पढ़िये: जिन्कगो बिलोबा | Nuphur Lutea in Hindi

उपयोग – Cephalandra Indica Uses in Hindi

निम्न अवस्था या विकार में सेफलैंड्रा इंडिका को विशेषज्ञ द्वारा रोगी को सलाह किया जाता है। सेफलैंड्रा इंडिका का उपयोग विशेषज्ञ से व्यक्तिगत सलाह बिना लिए ना करें।

  • मधुमेह मेलिटस (Diabetes Mellitus) और मधुमेह इन्सिपिडस (Diabetes Insipidus) में उपयोगी
  • विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालकर गुर्दे की कार्यक्षमता में सुधार
  • मुंह के छालों से छुटकारा
  • त्वचा पर होने वाले फोड़े-फुंसियों और जलन के मामलों में फायदेमंद
  • मूत्र में ग्लूकोज का स्तर सुनिश्चित करें
  • ब्लड शुगर लेवल को कम करने में उपयोगी
  • भूख में सुधार
  • मुंह सुखना, चक्कर और आंखों में खुजली से राहत
  • पूरे शरीर की जलन और दर्द से निजात
  • धूप में जाने पर होने वाले तेज सिरदर्द का इलाज
  • अवशोषण प्रक्रिया में सुधार कर आंतों के कार्य में निरंतरता
  • कमजोरी याददाश्त और काम के प्रति मन न लगना जैसे मामलों में उपयोगी
  • गठिया का उपचार

दुष्प्रभाव – Cephalandra Indica Side Effects in Hindi

इस होम्योपैथिक दवा के प्रयोग से अभी तक कोई दुष्प्रभाव सामने नहीं आया है। तय की गई मात्रा में उपयोग करने से, यह दवा पूर्णतया सुरक्षित साबित होती है। हालांकि शरीर में कोई बड़ी बीमारी होने पर, बिना रिस्क लिए अपने डॉक्टर की सलाह पर इस दवा की खुराक लें।

पढ़िये: हिमालया कोफ्लेट सिरप Madhunashini Vati in Hindi

खुराक – Cephalandra Indica Dosage in Hindi

खुराक विशेषज्ञ द्वारा सेफलैंड्रा इंडिका की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है। इसलिए सेफलैंड्रा इंडिका का उपयोग विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद शुरू करें।

इस सामान्य व्यक्ति, इस दवा की 3-5 बूंदे आधे कप पानी के साथ दिन में 3 बार लें सकता है।

इस दवा को दिन में ज्यादा इस्तेमाल करने के लिए, आप अपने डॉक्टर की सलाह लें। बच्चों में इस दवा की खुराक के लिए बाल रोग विशेषज्ञ की मदद लें।

पढ़िये: अर्जुन क्वाथ | Udramrit Vati in Hindi

सावधानियां – Precautions in Hindi

निम्न अवस्था व विकार में सेफलैंड्रा इंडिका से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, विशेषज्ञ को अवस्था बताकर ही सेफलैंड्रा इंडिका की खुराक लें।

पढ़िये: महामंजिष्ठादि | Divya Shuddi Churna in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published.