Ashokarishta in Hindi: फायदे, नुकसान, खुराक, घटक, साइड एफ़ेक्ट्स, कीमत, उपयोग | अशोकारिष्ट

Ashokarishta in Hindi

Ashokarishta in Hindi: इस लेख में आपको अशोकारिष्ट के बारे में जानकारी हिन्दी में मिलेगी, जिसमें अशोकारिष्ट के फायदे (Benefits), उपयोग (Uses), खुराक (Dosage), घटक (Composition),  दुष्प्रभाव (Side Effects) देखेंगे।

अशोकारिष्ट बाज़ार में निम्न दो कंपनी के उत्पाद रूप में प्रचलित है।

  • Dabur Ashokarishta Tonic
  • Baidyanath Ashokarishta Syrup

What is Ashokarishta in Hindi – अशोकारिष्ट क्या है?

पीरियड्स काल हर महिला के लिए एक कठिनाई से भरा समय होता है। इस दौरान होने वाली असंगत परेशानियों से राहत पाने में अशोकारिष्ट बहुत उपयोगी आयुर्वेदिक दवा है। इस दवा को हर्बल घटकों के साथ आयुर्वेदिक तरीके से निर्मित किया जाता है।

अशोकारिष्ट विशेषकर महिलाओं के लिए है और उन मुश्किलों दिनों में बेहद असरदार है। इसका उपयोग हार्मोन असंतुलन, मासिक धर्म विकार, अतिरिक्त रक्त प्रवाह, प्रदर रोग, कोलाइटिस, अल्सर, खराब गर्भाशय और अन्य सभी स्त्री रोगों के इलाज में कुशलता से किया जाता है। इस दवा को मौखिक रूप से ग्रहण किया जाता है और इसमें पहले से 5-10% स्वयं निर्मित एल्कोहोल होता हैं, जो हर्बल तत्वों को विलेय करने में मदद करता हैं।

यह दवा एक लोकप्रिय उपाय है, क्योंकि यह मासिक धर्म की ऐंठन, दर्द, खिंचाव, कमजोरी आदि सभी को दूर करने का कार्य करती है। भ्रम और अतिसंवेदनशीलता के मामलों में इस दवा से परहेज करना चाहिए।

Ashokarishta Composition in Hindi – अशोकारिष्ट के घटक

अशोकारिष्ट को बनाने में लगने वाली मुख्य आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां निम्नलिखित है।

  • अशोक की छाल
  • मुस्ता
  • हरीतकी
  • विभितकी
  • जीरका
  • वासा
  • धाताकी के फूल आदि

अशोकारिष्ट कैसे कार्य करती हैं?

इस दवा में Analgesic और Anti-inflammatory गुण होने के कारण यह मासिक धर्म के दर्द और प्रजनन अंग में सूजन को कम करने का कार्य करती है।

  • अशोक की छाल त्वचा के लिए लाभकारी होती है और सौंदर्य निखारने के काम आती है।
  • धातकी में हीलिंग गुण होते हैं, जो महिला स्वास्थ्य को जल्दी रिकवर करने में सहायक है।
  • मुस्ता में भूख बढ़ाने वाले और सूजनरोधी गुण होते है। साथ ही, ये गर्भाशय की अच्छी देखरेख में सहायता करता है।
  • हरिताकी में एंटीऑक्सीडेंट और प्रतिरक्षात्मक गुण होते है, जो सामान्य कमजोरी को दूर करने का कार्य करता है।
  • इसके अतिरिक्त यह दवा मासिक धर्म के दौरान संक्रमणों को पैदा होने या फैलने से रोककर अपना असर सिद्ध करती है।

पढ़िये: Brihatyadi Kashayam in Hindi | Sanshamani Vati in Hindi

Ashokarishta Benefits & Uses in Hindi – अशोकारिष्ट के फायदे व उपयोग

अशोकारिष्ट से होने वाले फायदों का असर शरीर पर लंबे समय के लिए रहता है। इस आयुर्वेदिक दवा की नियमित जरूरत अनुसार सही खुराक लेने पर निम्न फायदे हो सकते है।

  • भारी ब्लीडिंग में कमी
  • भूख की कमी को दूर करना
  • रक्त अर्श में लाभदायक
  • महिला प्रजनन प्रणाली को सुदृढ़ बनाना
  • गर्भ ठहराव में सहायक
  • गर्भाशय की सिकुड़न दूर कर मासिक धर्म के दर्द और ऐंठन से राहत
  • खूनी बवासीर और पेचिश की समस्या का निपटारा
  • कोलाइटिस और अल्सर का इलाज
  • हार्मोन में गड़बड़ी का सुधार करना
  • मेनोपॉज के कारण मिनरल्स की कमी को संतुलित करने में मददगार
  • अंड निषेचन प्रक्रिया का सही से संचालन
  • अंडाशय और गर्भाशय की सूजन को दूर करना
  • पॉलीस्टिक सिस्टिक ओवरी सिंड्रोम (PCOS) में फायदेमंद
  • बाल झड़ना, मुहांसे और वजन बढ़ने जैसी समस्याओं का निवारण
  • महिलाओं की सहनशक्ति को बढ़ाना
  • एक मजबूत पाचन तंत्र की नींव रखना
  • रोग प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा
  • मल-मूत्र त्याग को आसान बनाना
  • पेट दर्द और स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं को

Ashokarishta Side Effects in Hindi – अशोकारिष्ट के दुष्प्रभाव

अधिकांश महिलाओं में यह दवा काफी सुरक्षित है, लेकिन हर किसी की अवस्था और जरूरत अलग होती है। कुछ महिलाओं में अशोकारिष्ट के कुछ मामूली दुष्प्रभाव देखे गए हैं। इसलिए इस दवा के नुकसान से बचने के लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर का सहारा लेना उचित है।

  • सीने में जलन
  • पीरियड्स में देरी
  • मासिक धर्म में रक्त के प्रवाह की कमी
  • उच्च रक्तचाप
  • अरुचि आदि

पढ़िये: Drakshasava Syrup in Hindi | Khadirarishta in Hindi

Ashokarishta Dosage in Hindi – अशोकारिष्ट की खुराक

  • अशोकारिष्ट की खुराक विभिन्न मरीजों में अलग हो सकती है। सुरक्षित खुराक हर किसी के स्वास्थ्य के लिए महत्व रखती है, इसलिए इस दवा की खुराक चिकित्सा सुविधा के अनुसार ही शुरू करें।
  • एक सामान्य वयस्क के लिए, इस दवा को दिन में 15 से 20ml एक या दो खुराकों में लिया जा सकता है। भोजन के बाद बराबर मात्रा में पानी मिलाकर इस दवा का सेवन करना बेहद लाभकारी है।
  • 18 से कम उम्र में यह दवा चिकित्सा के नजरिये से अनुशंसित नहीं है।
  • पीरियड्स में देरी होने की स्थिति में इसका सेवन 20ml से घटाकर 10ml बिना पानी के अकेले करने से बेहद अच्छा परिणाम मिलता है।
  • दवा की खुराक को कम या ज्यादा किया जा सकता है, लेकिन ये काम स्वतः मनोइच्छा पर न करें। इसके लिए अपने चिकित्सक की सलाह ले।
  • यदि कोई खुराक भूलवश छूट जाएं, तो समय रहते छूटी खुराक का सेवन कर लेना चाहिए। ध्यान रहें, एक साथ दो खुराक कभी न लें।
  • ओवरडोज़ होने पर खुराक बंदकर तुरंत चिकित्सा सहायता तलाश करें।

Ashokarishta Precautions in Hindi -अशोकारिष्ट से सावधानियां

मरीज को किसी विशेष बड़ी बीमारी की शिकायत है, तो अशोकारिष्ट दवा को नजरअंदाज करें। अगर वर्तमान हालात में सुधार लाने के लिए इस दवा की आवश्यकता महसूस होती है, तो डॉक्टर से परामर्श कर इस विषय में पूर्णतया सावधानी बरती जानी चाहिए।

कुछ स्थितियां ऐसी है, जिस दौरान इस दवा की खुराक लेते समय सावधानी बरतनी आवश्यक है, जैसे

  • गर्भावस्था
  • मधुमेह
  • आअतिसंवेदनशीलता
  • भ्रम
  • हृदय दुर्बलता
  • रक्त कैंसर

Ashokarishta Price in Hindi – अशोकारिष्ट की कीमत

अशोकारिष्ट की कीमत कंपनियो और ब्रांड के आधार पर होती है। भारत में विभिन्न कीमत के साथ अशोकारिष्ट के अलग-अलग नाम के उत्पाद उपलब्ध हैं, जिनकी जानकारी हम नीचे दी गयी सारणी के द्वारा प्राप्त कर सकते है।

अशोकारिष्ट को बनाने वाली कंपनियाँ और उनकी कीमत निम्नलिखित है।

कंपनी नाम प्रॉडक्ट नाम मात्रा कीमत
डाबर अशोकारिष्ट टॉनिक 450ml 110 रुपये
बैद्यनाथ अशोकारिष्ट सिरप 450ml 111 रुपये

पढ़िये: Sphatika Bhasma in Hindi | Lodhrasava in Hindi

Ashokarishta FAQ in Hindi

1) क्या अशोकारिष्ट को भोजन से पहले लिया जा सकता है?

उत्तर: इस दवा को सदैव भोजन के बाद ग्रहण किया जाना चाहिए। खाली पेट यह दवा इतनी प्रभावी नहीं है।

2) क्या अशोकारिष्ट महिलाओं में अस्थिरता का कारण बन सकता है?

उत्तर: नहीं, इस दवा से मदहोशी होने की संभावना बिल्कुल गलत है। इस आयुर्वेदिक दवा को लेने से महिलाओं की बहुत सी समस्या दूर हो सकती है। यह शारीरिक थकावट को दूर कर शरीर में नई ऊर्जा का संचार करती है और सहनशक्ति बढ़ाती है।

3) क्या अशोकारिष्ट गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: अशोकारिष्ट महिला हार्मोन के स्तर पर प्रभाव डाल सकता है। इस बात को ध्यान में रखते हुए गर्भवती महिलाओं को अशोकारिष्ट का सेवन करने से बचना चाहिए। अति आवश्यकता के मामलें में डॉक्टरी हस्तक्षेप आवश्यक है।

4) क्या अशोकारिष्ट स्तनपान कराने वाली महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: हां, यह दवा स्तनपान कराने वाली महिलाओं में सुरक्षित है, पर इस अवस्था में डॉक्टर से निजी सलाह लेना सबसे उचित है।

5) अशोकारिष्ट का सेवन काल कितना हो सकता है?

उत्तर: इस दवा का सेवन काल लक्षणों की गंभीरता पर निर्भर करता है। शुरुआती कुछ सप्ताह में अशोकारिष्ट का उपयोग करने से इसके परिणाम दिखने शुरू हो जाते हैं।

6) अशोकारिष्ट की दो लगातार खुराकों के बीच कितना समय अंतराल आवश्यक है?

उत्तर: इस दवा की दो लगातार खुराकों के बीच कम से कम 8 से 12 घंटों का समय अंतराल उपयुक्त होता है। इस समय अंतराल का पालन करने से दवा को अपना कार्य करने के लिए पर्याप्त समय मिलता है, जिससे एक अच्छा परिणाम प्राप्त होता है।

7) अशोकारिष्ट को कैसे संग्रहित किया जाना चाहिए?

उत्तर: इस दवा को एक ठंडी और सूखी जगह पर रखें। एक बार खोलने के बाद इसे बच्चों की पहुंच से दूर स्टोर करें।

8) क्या अशोकारिष्ट की खुराक के बाद गाड़ी चलाना या श्रम करना सुरक्षित है?

उत्तर: हाँ, इस दवा की खुराक के बाद ड्राइविंग करना या श्रम करना पूर्णतया सुरक्षित हैं।

9) क्या अशोकारिष्ट से लत लग सकती है?

उत्तर: इस दवा के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है। उपभोक्ता जब चाहे, इस दवा को लेना बंद कर सकता है।

10) क्या अशोकारिष्ट भारत में लीगल दवा है?

उत्तर: हाँ, यह दवा भारत में पूरी तरह से लीगल है।

पढ़िये: Abhayarishta in Hindi | Makardhwaj Vati in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *