patanjali-divya-mukta-vati-in-hindi

दिव्य मुक्ता वटी के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Patanjali Divya Mukta Vati in Hindi

Patanjali Divya Mukta Vati Extra Power in Hindi: इसे लेख मे आपको पतंजलि के एक प्रसिद्ध उत्पाद दिव्य मुक्ता वटी बारे में जानकारी मिलेगी, जो की प्राकृतिक रूप से बहुत सी शारीरिक व मानसिक विकारो से लड़ने मे मदद करती है।

अंतिम लेख में हमने पतंजलि गिलोय घनवटी के बारे में जाना था, इस लेख में आपको Patanjali Divya Mukta Vati Extra Power के फायदे, दुष्प्रभाव व खुराक के बार में विस्तार से जानकारी में मिल जाएगी।

दिव्य मुक्ता वटी क्या है? – Patanjali Mukta Vati in Hindi

दिव्य मुक्ता वटी एक आयुर्वेदिक दवाई है, जो पतंजलि कंपनी के द्वारा बनाई जाती है। दिव्य मुक्ता वटी उच्च रक्तचाप, Cholesterol को नियंत्रित रखने के साथ-साथ मानसिक समस्याओं में भी मदद करता है। दिव्य मुक्ता वटी में Antihypertensive, Sedative और Antidepressant आदि गुण है।

दिव्य मुक्ता वटी काम कैसे करती है?

दिव्य मुक्ता वटी आयुर्वेद की जाने-माने जड़ी-बूटिया जैसे ब्राह्मी, शंखपुष्पी, उग्रगंधा, गाजवां, ज्योतिष्मती इत्यादि से निर्मित है। ये सभी अपने आयुर्वेदिक गुण और उपचार के लिए जाने जाते है। 

  • ब्राह्मी: मानसिक समस्याओं से लड़ने में मदद करता है।
  • ज्योतिष्मती- हृदय रोगों के उपचार में काफी असरदार है।
  • शंखपुष्पी: तंत्रिका तंत्र की समस्याये, अनिद्रा, मिर्गी, अवसाद, रक्त-शनशोधन इत्यादि कार्यो में मदद करती है।
  • पुष्कमूल: रक्तचाप, Cholesterol को नियंत्रण में रखने में मदद करता है।
  • उग्रगन्धा: उग्रगन्धा ध्यान, स्मरण शक्ति, दिमाग के बेहतर कार्य करने में मदद करता है। ये एक तरह का ब्रैंटोनिक है। 

इस तरह के कई और आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों से दिव्य मुक्ता वटी बनाई जाती है। इन प्रभावी घटको के कारण दिव्य मुक्ता वटी मे निम्न गुण होते है।

  • Antidepressant
  • Anti-hypertensive
  • Anti-stress
  • Anti-anxiety
  • Anticonvulsant
  • Sedative
  • Mind Relaxant

पढ़िये: गिलोय घनवटी के फायदे | Divya Youvnamrit Vati in Hindi

दिव्य मुक्ता वटी के फायदे – Mukta Vati Benefits in Hindi

दिव्य मुक्ता वटी के नियमित जरूरत अनुसार सेवन के निम्नलिखित फायदे है।

  • दिव्य मुक्ता वटी रक्तचाप व Cholesterol को नियंत्रित रखता है।
  • दिव्य मुक्ता वटी मानसिक विकारो के इलाज में काफी कारगर है।
  • दिव्य मुक्ता वटी अवसाद, तनाव, चिड़चिड़ापन, अकारण गुस्सा जैसी गंभीर समस्याओं को दूर करने में मदद करता है।
  • किडनी व Cholesterol विकार के कारण हृदय रोग मे मदद करता है।
  • यह अनिद्रा के मरीजो के लिए काफी असरदार है।

दिव्य मुक्ता वटी के दुष्प्रभाव – Mukta Vati Side Effects in Hindi

पतंजलि दिव्य मुक्ता वटी एक आयुर्वेदिक उत्पाद है, जिसके इतने दुष्प्रभाव नहीं है। लेकिन शरीर की अलग प्रतिक्रिया या गलत तरीके से खुराक लेने पर हल्के दुष्प्रभाव हो सकते है। जैसे,

  • मुह मे सूखापन
  • नाक बंद
  • नाक बंद के कारण रात को सांस मे तकलीफ
  • हल्का सरदर्द
  • सुबह की सुस्ती

अत्यंत दुष्प्रभाव की स्थिति मे खुराक तुरंत बंद करे व विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही फिर शुरू करे।

पढ़िये: दिव्य मेधा वटी के फायदे | Neeri KFT Syrup in Hindi

दिव्य मुक्ता वटी की खुराक – Mukta Vati Dosage in Hindi

दिव्य मुक्ता वटी की खुराक व्यक्ति की उम्र, अवस्था व जरूरत पर निर्भर करती है। इसलिए इसकी खुराक विशेषज्ञ या डॉक्टर से खुराक लेने के बाद ही शुरू करे।

आमतौर पर दिन मे 1 से 2 टैबलेट का सेवन सुबह-शाम खाली पेट करना चाहिए।

इसके सेवन के 1 घंटे बाद ही भोजन ले। इसका सेवन शुद्ध पानी या हल्के गर्म गाय दूध के साथ कर सकते है।

दिव्य मुक्ता वटी की कीमत – Mukta Vati Price

पतंजलि दिव्य मुक्ता वटी के एक पैक की कीमत 200 रुपये है। जिसमे 120 टैबलेट होती है और 1 टैबलेट 300 मिलीग्राम की होती है।

इसे आप किसी भी पतंजलि स्टोर, लोकल मेडिकल स्टोर या ऑनलाइन भी खरीद सकते है।

पढ़िये: चंद्रप्रभा वटी के फायदे | Rasayan Vati in Hindi 

Mukta Vati FAQ 

निम्नलिखित कुछ प्रश्न और उनके उत्तर है, जो आमतौर पर Divya Muktavati के बारे में पूछे जाते है।

1) क्या दिव्य मुक्ता वटी को होमियोपैथी दवाई के साथ लिया जा सकता है?

उत्तर: हाँ,दिव्य मुक्ता वटी को होमियोपैथी दवाई के साथ लिया जा सकता है।

2) क्या दिव्य मुक्ता वटी को मल्टीविटामिन सप्लीमेंट के साथ लिया जा सकता है?

उत्तर: हाँ, दिव्य मुक्ता वटी को सप्लीमेंट्स के साथ लिया जा सकता है। लेकिन, अगर आप बहुत उच्चकोटि सप्लीमेंट (जो पाचन में काफी भारी हो) के साथ दिव्य मुक्ता वटी का उपयोग कर रहे है , तो आपको डॉक्टर से अवश्य सलाह लेनी चहिए।

3) क्या दिव्य मुक्ता वटी की आदत पड़ जाती है?

उत्तर: नही, दिव्य मुक्ता वटी की आदत नही पड़ती है।

4) क्या दिव्य मुक्ता वटी को एक-दम से छोड़ा जा सकता है या धीरे-धीरे छोडना सही रहेगा?

उत्तर: हाँ, जरूरत आने पर इसे छोड़ सकते है।

5) क्या शराब (Alcohol) का प्रयोग दिव्य मुक्ता वटी के उपयोग के दौरान चालू रखना चहिए?

उत्तर: नहीं, इसके साथ शराब का सेवन बंद कर देना चहिये।

6) दिव्य मुक्ता वटी के साथ किस प्रकार का डाइट पालन करना चहिये?

उत्तर: घर के बना हल्का भोजन ही करेऔर पानी भरपूर पिये।

7) क्या दिव्य मुक्ता वटी का सेवन करते समय नमक के प्रयोग में सावधानी रखनी चहिए?

उत्तर: हाँ, खाने में नमक कम ले और हो सके तो काला-नमक का प्रयोग करे।

8) क्या दिव्य मुक्ता वटी मानसिक समस्याओं में कारगर है?

उत्तर: हाँ, ये मानसिक शांति, तनाव, ध्यान अवधि बढ़ाने में काफी मददगार है।

9) क्या दिव्य मुक्ता वटी का उपयोग एलोपेथिक दवाइयों के साथ किया जा सकता है?

उत्तर: कुछ एलोपेथिक दवाइयां दिव्य मुक्ता वटी के साथ रिएक्शन कर सकते है। अतः, डॉक्टर से सलाह लेकर ही सेवन शुरू करे।

10) क्या दिव्य मुक्ता वटी 18 साल से कम उम्र के बच्चों को दिया जा सकता है?

उत्तर: 18 साल से कम उम्र के बच्चो को आमतौर पर रक्तचाप, Cholesterol की तकलीफे होती नही है। अतः इस परिस्थिति में डॉक्टर का सुझाव अवश्य ले।

पढ़िये: नुट्रीगेन की फायदे | Musli Pak in Hindi

2 thoughts on “दिव्य मुक्ता वटी के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Patanjali Divya Mukta Vati in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *