DIVYA-MEDHA-VATI-IN-HINDI

दिव्य मेधा वटी के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Patanjali Divya Medha Vati in Hindi

दिव्य मेधा वटी क्या है? – What is Divya Medha Vati in Hindi?

Divya Medha Vati आयुर्वेदिक दवा है, जो जड़ी बूटियों के मिश्रण से बनाया गयी है, मानसिक समस्याओं और तनाव के उपचार के लिए। Patanjali Ayurved इसकी निर्माता कंपनी है।

दिव्य मेधा वटी में मौजूद हर्बल तत्व तनाव और अवसाद से राहत देने वाले कुछ खास हार्मोनों को शरीर में पैदा करने में मदद करते हैं।

पंतजली दिव्य मेधा वटी, टैबलेट के रूप मे उपलब्ध होती है।

दिव्य मेधा वटी के घटक – Divya Medha Vati Ingredient in Hindi

Divya Medha Vati की एक टैब्लेट में निम्नलिखित प्रमुख घटक बताई मात्रा मे होते है, जो इसे प्रभावशाली बनाते है। कुछ घटक एक्स्ट्रेक्ट व कुछ पाउडर रूप मे उपलब्ध होते है।

  • ब्राह्मी – 54.7 mg
  • अश्वगंधा – 43.7 mg
  • शंखपुष्पी – 54.7 mg
  • वाचा  – 43.7 mg
  • उस्तुखुददूस – 43.7 mg
  • ज्योतिष्मती – 43.7 mg
  • जटामांसी – 11.25 mg
  • गोजिह्व – 17 mg      
  • सौंफ – 19.3 mg
  • जहर मोहरा – 19.3 mg
  • प्रवल पिष्टी – 17 mg
  • मुक्त पिष्टी – 11.25 mg

पढ़िये: नीरी KFT सिरप | Chandraprabha Vati in Hindi 

Divya Medha Vati काम कैसे करती है?

Divya Medha Vati में अश्वगंधा, शंखपुष्पी ,ब्राह्मी और जटामांसी मुख्य सामग्री होते है। ये सभी अपने मस्तिक संबंधित विकारो को दूर करने के लिए जाने जाते है।

इन सब सामग्रियों के कारण Divya Medha Vati में निम्नलिखित गुण होते है, जो इसको इतना असरदार बनाते है।

  • Memory Booster: याददाश्त को बढ़ाता है।
  • Antioxidant: शरीर मे ओक्सिडेशन को रोकता है।
  • Adaptogenic: तनाव के कारको को कम करता है।
  • Sedative: आराम देता है और बेहतर नींद मे मदद मिलती है।
  • Anti-depressant: डिप्रेसन से बचाव मिलता है।
  • Anxiolytic: चिंता से मुक्ति मिलती है।
  • Neuroprotective: नर्वस सिस्टम को मदद मिलती है।
  • Carminative: गैस जैसी समस्या से निदान मिलता है।
  • Stomachic: भूख मे बढ़ोतरी होती है।
  • Anti-stress: स्ट्रैस कम करती है।
  • Anti-inflammatory: सूजन कम होती है।

दिव्य मेधा वटी के फायदे व उपयोग – Divya Medha Vati Benefits & Uses in Hindi

सामान्य तौर पर, Divya Medha Vati का उपयोग स्मृति और ध्यान अवधि बढ़ाने के लिए किया जाता है। यह मानसिक स्वास्थ मे सुधार करने के लिए उपयोग व फायदेमंद है।

दिव्य मेधा वटी के प्रमुख फायदे निम्नलिखित है।

स्मरण शक्ति बढ़ाता है

Divya Medha Vati एक प्रभावी ब्रेन टॉनिक है। Divya Medha Vati याद शक्ति को बढ़ाने  के साथ-साथ मस्तिष्क के बौद्धिक और संज्ञानात्मक कार्यों को बेहतर बनाने में मदद करता है।

घबराहट दूर करता है (Anxiety)

Divya Medha Vati को चिंता विकारों के प्रबंधन में लाभकारी पाया गया है। Divya Medha Vati मस्तिष्क को ठंडा करता है और विश्राम की स्थिति पैदा करता है।

जिससे घबराहट, अत्यधिक पसीना, हृदय गति में वृद्धि, उथल-पुथल और आत्मविश्वास की कमी जैसे चिंता विकारों के लक्षण कम होते है।

तनाव में मददगार (Depression)

Divya Medha Vati का उपयोग तनाव के उपचार में किया जा सकता है।

Divya Medha Vati, मस्तिष्क और तंत्रिकाओं पर एक शांत और आराम प्रभाव पैदा करती है। Divya Medha Vati अवसाद के लक्षणों को नियंत्रित करती है, जैसे कि दैनिक गतिविधियों में रुचि की कमी, लगातार सिरदर्द, कमजोरी, आत्महत्या के विचार और नींद न आना।

अनिद्रा की बीमारी (Insomia)

Divya Medha Vati को अनिद्रा के इलाज के लिए एक प्रभावी उपाय माना जाता है। Divya Medha Vati एक शामक क्रिया पैदा करता है और नींद को प्रेरित करता है।

मिर्गी में सहायक

Divya Medha Vati का उपयोग तंत्रिका तंत्र के रोगों जैसे मिर्गी, और तंत्रिकाशूल के उपचार में भी किया जाता है।

यह तंत्रिका तंत्र के कार्यों को विनियमित करके Convulsion (एक तरह की मिर्गी) के हमलों की आवृत्ति को कम करता है। Divya Medha Vati द्वारा निर्मित एंटीऑक्सिडेंट क्रिया तंत्रिका तंत्र को मुक्त कणों से होने वाले नुकसान से बचाती है। इस प्रकार इसके सामान्य कार्यों को संरक्षित करती है।

डाउन सिंड्रोम

डाउन सिंड्रोम कुछ शारीरिक और मानसिक लक्षणों के एक समूह को कहते है, जो जन्मजात समस्या के कारण होता है।

डाउन सिंड्रोम वाले बच्चों में एक फ्लैट चेहरे या एक छोटी गर्दन जैसी कुछ विशेषताएं होती हैं । वे बौद्धिक विकलांगता से भी पीड़ित हो सकते हैं।

हालांकि, डाउन सिंड्रोम के लिए कोई इलाज नहीं है, लेकिन Divya Medha Vati बौद्धिक कार्यों को बढ़ाकर इन रोगियों के जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में मदद कर सकती है।

पढ़िये: रसायन वटी के फायदे | Nutrigain in Hindi

दिव्य मेधा वटी के दुष्प्रभाव – Divya Medha Vati Side Effects in Hindi

Divya Medha Vati के वैसे तो कोई दुष्प्रभाव नही है। लेकिन शरीर की अलग प्रतिक्रिया या गलत खुराक के चलते, इससे कुछ दुष्प्रभाव हो सकते है। दिव्य मेधा वटी से हो सकने वाले दुष्प्रभाव निम्नलिखित है।

  • शुरुआत में आपको निम्न श्रेणी का सिरदर्द हो सकता है, लेकिन गंभीर अवस्था में नहीं।
  • दुर्लभ मामलों में आपको कुछ हल्की पेट में जलन हो सकती है। 
  • पेट में कुछ दर्द पैदा हो सकता है।
  • दिव्य मेधा वटी के किसी घटक से एलर्जी हो सकती है।

दिव्य मेधा वटी की खुराक – Divya Medha Vati Dosage in Hindi

Divya Medha Vati की खुराक पूरी तरह से व्यक्ति की उम्र, लिंग, अवस्था व जरूरत पर आधारित है। इसलिए खुराक विशेषज्ञ या डॉक्टर से सलाह लेने के बाद ही शुरू करे।

विकारों से पीड़ित रोगियों को प्रति दिन Divya Medha Vati की दो गोलियों की एक खुराक लेने की सलाह दी जाती है। खुराक को एक गिलास दूध या पानी के साथ लिया जाना चाहिए।

पांच साल से कम उम्र के बच्चों को इस दवा की एक गोली आधी-आधी दिन में दो बार दी जा सकती है।

5 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए अनुशंसित खुराक दिन में दो बार एक गोली है।

दिव्य मेधा वटी से जुड़ी सावधानियां – Divya Medha Vati Precautions in Hindi

वैसे तो Divya Medha Vati से जुड़ी कोई सख्त सावधानिया नही है। लेकिन कुछ सावधानियों का पालन करना बेहद जरूरी है।

  • दिव्य मेधा वटी की खुराक हमेशा विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद ही शुरू करे।
  • गर्भवती महिलाओ को इसके सेवन से बचना चाहिए। अगर जरूरत हो, तो पहले विशेषज्ञ से सलाह ले।
  • बच्चो को इसकी कम से कम खुराक दे।
  • दिव्य मेधा वटी के किसी प्रमुख घटक से एलर्जी होने पर इसके सेवन से बचना चाहिए।

पढ़िये: मूसली पाक के फायदे | Divya Medohar Vati in Hindi 

कीमत – Divya Medha Vati Price

दिव्य मेधा वटी के 1 पैक जिसमे 120 टैबलेट आती है, उसकी कीमत 210 रुपये है। जिसे आप ऑनलाइन अमेज़न से सस्ते में खरीद सकते है।

Divya Medha Vati FAQ in Hindi

Q1) अपनी अवस्था में सुधार लाने के लिए Divya Medha Vati का उपयोग कितने समय तक करना चाहिए?

उत्तर: ऐसा देखने में आया है कि आम तौर से दो हफ्ते में सुधार दिखना शुरू हो जाता है। किंतु हर व्यक्ति की स्थिति में अंतर होता है, इसलिए Divya Medha Vati को लेने से पहले डॉक्टर या विशेषज्ञ से इस बारे में पूछना ज़रूरी है।

Q2) Divya Medha Vati को दिन में कितनी बार लेने की आवश्यकता है?

उत्तर: आमतौर पर वयस्क को Divya Medha Vati दिन में दो बार लेनी चाहिए। क्योंकि आपकी अवस्था, उम्र, लिंग, जरूरत अलग हो सकती है, इसलिए Divya Medha Vati का कितना इस्तेमाल आपके लिए उचित है, यह डॉक्टर से सलाह करें।

Q3) Divya Medha Vati को खाली पेट लेना चाहिए या भोजन से पहले या भोजन के बाद?

उत्तर: आमतौर से Divya Medha Vati को भोजन के बाद ही ली जाती है, क्योकि भोजन के बाद अवशोषण प्रतिक्रिया सरल हो जाती है।

Q4) क्या Divya Medha Vati की आदत या लत बन सकती है?

उत्तर: नहीं, Divya Medha Vati की आदत नहीं पड़ती। जिन दवाइयों की लत पड़ने का ख़तरा होता है। उन्हे भारत सरकार ने नियंत्रित पदार्थों की अनुसूची H या X में शामिल कर दिया है। डॉक्टर से परामर्श करे बिना कोई दवा ना लें। 

Q5) क्या Divya Medha Vati को लेना एकदम से रोका जा सकता है या इसे धीरे धीरे रोकना चाहिए?

उत्तर: ऐसी कई दवाइयाँ हैं, जिन्हे एकदम से रोक दे, तो दिक्कत पैदा हो सकती है। Divya Medha Vati को रोकने से पहले अपनी स्थिति अपने डॉक्टर को बतायें और फिर निर्णय लें।

Q6) क्या Divya Medha Vati का उपयोग गर्भवती महिला के लिए ठीक है?

उत्तर: गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओ को इसका सेवन नहीं करना चाहिए। लेकिन जरूरत होने पर पहले डॉक्टर से सलाह ले।

पढ़िये: डाबर पुदीन हरा के फायदे | Protinex Powder in Hindi 

1 thought on “दिव्य मेधा वटी के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Patanjali Divya Medha Vati in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *