Vasant Kusumakar Ras

वंसत कुसुमाकर रस के फायदे, नुकसान, खुराक, कीमत, सावधानी | Vasant Kusumakar Ras in Hindi

वंसत कुसुमाकर रस क्या है? – What is Vasant Kusumakar Ras in Hindi

वंसत कुसुमाकर रस कई पुरानी और जटिल बीमारियों को उखाड़ फेंकने वाली एक आयुर्वेदिक औषधि है। इसे डॉक्टर की पर्ची के बिना भी उपयोग व खरीद सकते है।

यह दवा दिल और दिमाग को संतुलित रखने के लिए बढ़िया ढंग से काम करती है।

यह रस रक्त में शर्करा के स्तर को सुनिश्चित कर मधुमेह के लिए लाभदायक सिद्ध हो सकती है।

यह दवा मर्दों की खोई ताकत को पुनः लौटाने और जीवन में जोश की कमी को मिटाने में काफी हद तक सफल है।

इसे भारत में कई बड़ी हर्बल कंपनियों द्वारा निर्मित कर अपनी पहचान के साथ बाजार में विपणन किया जाता है, जैसे- डाबर, झंडू, पतंजलि, हिमालया और बैधनाथ आदि।

वंसत कुसुमाकर रस मधुमेह, मूत्र संबंधी विकार, शीघ्रपतन, स्मृति हानि, त्वचा से जुड़ी दिक्कतें, खराब पाचन तंत्र, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, शारीरिक कमजोरी, ल्यूकोरिया, मानसिक दुर्बलता, अस्वस्थ हृदय आदि सभी स्थितियों की रोकथाम और इलाज में सहायक हो सकता है।

वृद्धाकाल में होने वाली शिकायतों जैसे मांसपेशियों में दर्द, गठिया दर्द, कमजोर नेत्र ज्योति, सांस लेने में तकलीफ आदि सभी के लिए यह दवा अभीष्ट है।

इस दवा से निरोगी स्वास्थ्य पाकर जिंदगी के पढ़ाव को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने में काफी मदद मिल सकती है।

निम्न वंसत कुसुमाकर युक्त प्रचलित उत्पाद है।

  • Jhansi Baidyanath Basant Kusumakar Ras
  • Dabur Vasant Kusumakar Ras
  • Patanjali Divya Vasant Kusumakar Ras
  • Dhootapapeshwar Vasant Kusumakar Ras
  • Baidyanath Vasant Kusumakar Ras

वंसत कुसुमाकर रस की संरचना – Vasant Kusumakar Ras Composition in Hindi

निम्न घटक Vasant Kusumakar Ras में होते है।

प्रवाल पिष्टी + लोह भस्म + अभ्रक भस्म + चांदी भस्म + मुक्तापिष्टी + रस सिंदूर + बंग भस्म + नाग भस्म + सुवर्ण भस्म + अम्बर

पढ़िये: हैमर ऑफ थोर | Majun Arad Khurma in Hindi 

वंसत कुसुमाकर रस के उपयोग व फायदे – Vasant Kusumakar Ras Uses & Benefits in Hindi

वंसत कुसुमाकर रस के प्रमुख उपयोग व फायदे निम्नलिखित है।

यौन दौर्बल्य के लिए अतिउत्तम

वंसत कुसुमाकर रस पुरुषों में यौन दुर्बलता के लिए खास प्रभावी औषधियों में से एक है। यह नपुंसकता, शीघ्रपतन और कामेच्छा की कमी को दूर कर जननेद्रियों को शक्तिशाली बनाने में सहायक है। अश्लील दृश्यों को ज्यादा देख वीर्यनाश करने से आई कमजोरी को दूर करने के लिए इस रस को स्वास्थ्यवर्धक के रूप में देखा जा सकता है। इन मामलों में इसकी रोजाना दो गोलियां बेहद हितकारी साबित हो सकती है।

मधुमेह को नियंत्रण में करें वंसत कुसुमाकर का प्रयोग

यह मूल्यवान जड़ी-बूटियों का संगम रस मधुमेह की अस्थिरता को सामान्य बनाने का एक अच्छाखासा इलाज हो सकता है। इसके द्वारा रक्त में शर्करा के स्तर पर काबू पाने में मदद मिलती है, ताकि मूत्र में अधिक शर्करा न आएं। यह मूत्र संस्थान की कमियों के निवारण और इंद्रियों की शिथिलता को मिटाने हेतु बेहद फायदेमंद माना जाता है।

महिलाओं के रोगों के उपचार में लाभकारी

गर्भाशय से ज्यादा रक्तस्राव होना और योनि से ज्यादा सफेद पानी निकलना जिसे ल्यूकोरिया या श्वेत प्रदर कहा जाता है, ऐसी स्थितियों में इसे सुबह-शाम लेने से कुछ समय में इसके फायदों अनुमानित हो जाते है। यह स्त्री के शरीर को पुष्ट कर अनेकों बीमारियों से लड़ने में मददगार हो सकता है।

शारीरिक और मानसिक कमजोरी के प्रबंधन में सहायक

वंसत कुसुमाकर रस लोगों को उम्र के साथ महसूस हो रही कमजोरी और मस्तिष्क की थकावट से निजात दिलाने वाला एक प्रभावी उपचार हो सकता है। याददाश्त कम होना, सांस में तकलीफ, लगातार खाँसी का प्रकोप, दृष्टि अस्पष्ट होना, जल्दी थकना आदि संकेतों के प्रबंधन हेतु इसका प्रयोग किया जा सकता है।

एनीमिया के इलाज में सहायक वंसत कुसुमाकर रस

यह रक्त बनने की प्रक्रिया को सुधारने और रक्त की हानि होने से बचाने के लिए दो तरीकों से काम करता है क्योंकि रक्त का स्तर बराबर होने से एनीमिया के इलाज में काफी मदद मिल सकती है।

पाचन तंत्र को मजबूत करने में सहायक

पाचन तंत्र की दिक्कतों से पूरा शरीर नीरस-सा हो जाता है। यह दवा पाचन को मजबूत कर सेहत को पेट की बीमारियों के प्रति अद्यतन बनाने का कार्य करती है।

वंसत कुसुमाकर रस के दुष्प्रभाव – Vasant Kusumakar Ras Side Effects in Hindi

वंसत कुसुमाकर से होने वाले नुकसानों के बारें में अभी तक कोई पता नहीं चला है। इसमें प्रयुक्त होने वाले पर प्रभावी तत्व गंभीर स्थितियों के लिए भी फायदेमंद हो सकते है। इसे लेते समय हर छोटी बातों के लिए चिकित्सा निगरानी ज्यादा उचित मानी जाती है।

पढ़िये: हिमालया डायबकॉन टैबलेट |  Liv 52 DS Tablet in Hindi

वंसत कुसुमाकर रस की खुराक – Vasant Kusumakar Ras Dosage in Hindi

  • वंसत कुसुमाकर रस की दिन में एक-एक गोली दो बार सुबह-शाम दूध के साथ लेना सुरक्षित और लाभदायक साबित होता है।
  • लेकिन डॉक्टर या विशेषज्ञ से निजी सलाह पहले लेना उचित माना जाता है।
  • इसकी खुराक में कुछ परिवर्तनों के लिए अपने स्वास्थ्य प्रदाता या मेडिकल स्टॉफ की मदद लें।
  • बच्चों में वंसत कुसुमाकर रस अनुशंसित नहीं है। बच्चों को इस दवा से दूर रखें।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित Vasant Kusumakar Ras का उपयोग जल्द करें। अगली खुराक Vasant Kusumakar Ras की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानियां – Vasant Kusumakar Ras Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में Vasant Kusumakar Ras के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में Vasant Kusumakar Ras से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर ही Vasant Kusumakar Ras की खुराक लें।

  • अतिसंवेदनशीलता
  • गर्भावस्था
  • लीवर या किडनी दुर्बलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

वंसत कुसुमाकर रस की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: आईएमई 9 टैबलेट | Kayam Tablet in Hindi

Vasant Kusumakar Ras FAQ in Hindi

1) वंसत कुसुमाकर रस को कितने समय तक लेने की आवश्यकता होती है?

उत्तर: इस दवा के पैक को पूरा करने में एक महीना का समय लगता है। अर्थात इसे महीने तक लेने की आवश्यकता हो सकती है। इसे महीने तक लेने के बाद इसके अगले पैक के बीच में 2 से 3 महीनों का समय अंतराल देना चाहिए।

2) क्या वंसत कुसुमाकर रस गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: गर्भवती महिलाओं के लिए इस दवा से जुड़ी कुछ आपत्तिजनक बातें है, जो गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित नहीं है। इसीलिए इसे सुरक्षा के साथ अपने डॉक्टर की सलाह से ही इस्तेमाल करें।

3) क्या वंसत कुसुमाकर रस नवजात शिशुओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: नहीं, यह दवा बच्चों के लिए सुरक्षित नहीं है। आमतौर पर इसे 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों के लिए सिफारिश नहीं किया जाता है।

4) क्या वंसत कुसुमाकर रस स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इस दवा से दूर रहने की सलाह दी जाती है। इस विषय में ज्यादा जानकारी के लिए अपने चिकित्सक की राय ले सकते है।

5) क्या वंसत कुसुमाकर रस भूखे पेट ले सकते है?

उत्तर: इसे लेने के सही तरीकों के बारें में एक अच्छे डॉक्टर या सलाहकार की सलाह ले सकते है। इसे भोजन के बाद या पहले दोनों समय लेना सुरक्षित माना जाता है।

6) क्या वंसत कुसुमाकर रस के सेवन से इसकी आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, इस रस के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है। यह एक हर्बल उत्पाद है, जो सभी महत्वपूर्ण अंग-प्रत्यंग के लिए गुणकारी है। इसकी सही समयावधि के लिए आप अपने डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

7) क्या वंसत कुसुमाकर रस की खुराक के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: इस दवा से उनींदापन, चक्कर या उल्टी जैसा महसूस होता है, तो इसकी खुराक के बाद ड्राइविंग न करें। यह दवा ड्राइविंग की क्षमता को प्रभावित नहीं करती है, इसलिए वर्तमान हालात के आधार पर इसे लेने के बाद ड्राइविंग करना निजी फैसला हो सकता है।

8) वंसत कुसुमाकर रस की एक खुराक के बाद दूसरी खुराक कितने घंटों के बाद लेनी चाहिए?

उत्तर: इस दवा की सुबह एक खुराक लेने के बाद दूसरी खुराक के लिए 5 से 6 घंटों के इंतजार के बाद दूसरी खुराक लेना सुरक्षित माना जाता है।

9) क्या वंसत कुसुमाकर रस एल्कोहोल के साथ सुरक्षित है?

उत्तर: नहीं, इस दवा को एल्कोहोल के साथ नहीं लेना चाहिए। यह औषधि एल्कोहोल के साथ प्रतिक्रिया तथा दवा के प्रभाव को कम कर सकती है।

10) क्या वंसत कुसुमाकर रस मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकती है?

उत्तर: यह महिलाओं की व्याधियों के लिए बेहद अच्छा विकल्प हो सकता है। इससे रक्तस्राव को कम किया जा सकता है। लेकिन यह दवा मासिक धर्म चक्र पर कैसा असर कर सकती है, इसकी जानकारी अपने मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक से लें।

11) क्या वंसत कुसुमाकर रस भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, यह हर्बल दवा भारत में पूर्णतया लीगल है।

पढ़िये: वोलिनी स्प्रे | Itone Eye Drops in Hindi

References

Vasant Kusmakar Ras, an ayurvedic herbo-mineral formulation prevents the development of diabetic retinopathy in rats https://www.researchgate.net/publication/340723223_Vasant_Kusmakar_Ras_an_ayurvedic_herbo-mineral_formulation_prevents_the_development_of_diabetic_retinopathy_in_rats Accessed On 28/06/2021

Phamaceutical and Analytical study on Loha Bhasma https://www.ijam.co.in/index.php/ijam/article/view/3 Accessed On 28/06/2021

Comparative study on cellular entry of incinerated ancient gold particles (Swarna Bhasma) and chemically synthesized gold particles https://www.nature.com/articles/s41598-017-10872-3 Accessed On 28/06/2021

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *