patanajali divya dhara in hindi

दिव्य धारा के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Patanjali Divya Dhara in Hindi

पतंजलि दिव्य धारा एक आयुर्वेदिक औषधि है। इस उत्पाद को विशेष हर्बल यौगिकों के संयोजन से निर्मित किया गया है। पतंजलि दिव्य धारा दवा को बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी द्वारा तैयार किया जाता है। इस हर्बल दवा का उपयोग विभिन्न स्वास्थ्य जटिलताओं के सकुशल उपचार हेतु किया जाता है।

यह दवा विशेषकर दर्दनाशक के रूप में प्रचलित है, जैसे सिरदर्द, दांत दर्द, कान दर्द आदि।

इसके अलावा, Patanjali Divya Dhara का इस्तेमाल अपच, जुकाम, खाँसी, अस्थमा, पाचन रोग, मांसपेशियों के दर्द एवं ऐंठन, कान रोग, नाक से खून, सूजन, कोलोरैक्टल कैंसर, विषाणुजनित संक्रमण, दमा, कफ, छाती में जकड़न, त्वचा रोग आदि सभी लक्षणों के उपचार हेतु किया जा सकता है, जिसे आयुर्वेदिक डॉक्टर सलाह करते है।

अतिसंवेदनशीलता और नवजात शिशु के मामलों में पतंजलि दिव्य धारा का उपयोग विशेषज्ञ की निगरानी में करना चाहिए।

दिव्य धारा के उपयोग व फायदे – Divya Dhara in Uses & Benefits Hindi

दवा से होने वाले फायदे निम्नलिखित है।

  • सिर दर्द से आराम दिलाने में सहायक
  • अस्थमा में उपयोगी
  • दांतों के दर्द का इलाज
  • कान संबंधी समस्त रोगों का निवारण
  • पाचन तंत्र की कमजोरी दूर करना
  • नाक से खून बहने को रोकना
  • कफ तथा अतिरिक्त बलगम पर नियंत्रण
  • छाती की जकड़न मिटाना
  • मांसपेशियों के दर्द में फायदेमंद
  • पेट संबंधी विकार जैसे अपच, गैस, कब्ज आदि का इलाज
  • जुकाम, खाँसी में राहतदायक
  • शारीरिक सूजन को कम करने में सहायक
  • कोलोरैक्टल कैंसर में लाभदायक
  • विषाणुजनित संक्रमणों की रोकथाम
  • दमा में लाभकारी
  • त्वचा रोगों के लिए उपयोगी दवा आदि।

पढ़िये: Ashokarishta in Hindi | Brihatyadi Kashayam in Hindi

दिव्य धारा के दुष्प्रभाव – Divya Dhara Side Effects in Hindi

इस दवा से अभी तक कोई दुष्प्रभाव के मामलें सामने नहीं आये है। कुछ विशेष स्थितियों में इस दवा की खुराक के बाद जलन महसूस हो सकती है, लेकिन ये अल्पकालिक होती है। इस विषय में ज्यादा जानकारी के लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक का परामर्श लें।

दिव्य धारा की खुराक – Divya Dhara Dosage in Hindi

इस आयुर्वेदिक दवा की खुराक का पालन आयुर्वेदिक डॉक्टर के अनुसार करें।

  • विभिन्न रोगों के लिए, दिव्य धारा की खुराक और खुराक-विधि अलग-अलग हो सकती है, जैसे मसाज, कश खींचना (Inhalation) या मौखिक सेवन।
  • सिरदर्द के दौरान, दिव्य धारा की 3-4 बूंदें लें और ललाट पर अच्छे से मालिश करें।
  • अस्थमा या सांस की समस्या होने पर, दिव्य धारा की गंध लें या छाती पर मालिश करें।
  • दाँत दर्द के दौरान, दिव्य धारा की कुछ बूंदे रुई पर लें और दर्द वाले दाँत पर लागू करें।
  • पेट दर्द या अन्य कोई गैस्ट्रिक परेशानी में, गर्म पानी में 3-4 बूंदें मिलाकर इसका सेवन करें।
  • शिशु के लिए, इसे कपड़े या बिस्तर पर कुछ बुंदे लगाकर रख दें।
  • इस दवा के पैक का पूरा इस्तेमाल करें और जब तक डॉक्टर द्वारा सुझाव न दिया जाएं, तब तक इस दवा की खुराक नियमित चालू रखें।
  • एक्सपायरी उत्पाद के इस्तेमाल से बचें। निर्धारित मात्र से ज्यादा का उपयोग न करें।

पढ़िये: Sanshamani Vati in Hindi | Drakshasava Syrup in Hindi

दिव्य धारा कैसे कार्य करती है?

इस दवा में शामिल कुछ मुख्य सक्रिय घटक निम्नलिखित है।

  • पुदीना
  • कपूर
  • अजवाइन
  • लौंग का तेल
  • नीलगिरी तेल आदि।

पुदीना, पेट की समस्याओं जैसे भारीपन, अपच, गैस, एसिडिटी आदि सभी के इलाज में मदद करता है।

कपूर या देसी कपूर में हीलिंग गुण होते है, जो त्वचा संबंधी विकारों के लिए उपयोगी है, जैसे मुंहासे, फोड़े-फुंसियां आदि। इसके अलावा कपूर सिरदर्द, खाँसी, कमजोर आँखों की दृष्टि, बवासीर, सूजन आदि सभी लक्षणों के लिए फायदेमंद है।

अजवाइन सीने की जलन, पाचन विकार, एसिडिटी, उल्टी-दस्त, मासिक धर्म की रुकावट, सर्दी-जुकाम आदि सभी लक्षणों के उपचार में सहयोगी है।

लौंग का तेल त्वचा को संक्रमण मुक्त करने का कार्य करता है। इसे दांतों के दर्द, कैंसर, कमजोर प्रतिरक्षा प्रणाली, मतली, कम यौन क्षमता, तनाव,कान दर्द, थकान आदि सभी लक्षणों के लिए चुना जाता है।

नीलगिरी तेल ताजगी और सुकून का अहसास कराता है। यह सर्दी, खांसी, नाक बहने, गले की खराश, अस्थमा, कफ, ब्रोंकाइटिस और साइनसाइटिस के इलाज में मदद करता है।

पढ़िये: Khadirarishta in Hindi | Sphatika Bhasma in Hindi

Divya Dhara FAQ in Hindi

1) क्या पतंजलि दिव्य धारा गर्भवती महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: गर्भवती महिलाओं का स्वास्थ्य सही होने पर ये दवा सुरक्षित है। यदि कोई महिला किसी अन्य बड़ी बीमारी का शिकार है, तो इस दवा का सेवन निजी डॉक्टर की मंजूरी के बाद ही करें।

2) क्या पतंजलि दिव्य धारा रोग प्रतिरोधक क्षमता में सुधार कर सकती है?

उत्तर: हाँ, यह दवा रोगों से लड़कर स्वास्थ्य को ठीक करने में सहायक है। एक निरोगी स्वास्थ्य एक अच्छी प्रतिरोधक क्षमता का उदाहरण होता है। हालंकि इस विषय में यह दवा धीमी गति से कार्य कर सकती है।

3) क्या पतंजलि दिव्य धारा यौन ऊर्जावर्धक है?

उत्तर: यह आयुर्वेदिक दवा दर्द और सूजन से राहत दिलाने में बेहद कारगर है। यौन ऊर्जा की कमी होने के संबंध में ये दवा इतनी मददगार नहीं है। विशेष रूप से ऊर्जावर्धक हेतु इस दवा का इस्तेमाल करने से पहले अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

4) क्या पतंजलि दिव्य धारा स्तनपान कराने वाली महिलाओं में सुरक्षित है?

उत्तर: हाँ, स्तनपान कराने वाली महिलाओं में यह आयुर्वेदिक दवा सुरक्षित है।

5) क्या पतंजलि दिव्य धारा को ठंडे पानी के साथ लिया जा सकता है?

उत्तर: दिव्य धारा को आंतरिक बीमारियों में ज्यादातर गर्म पानी के साथ लेने की सलाह दी जाती है। ठंडे पानी के साथ कभी-कभी सर्दी, जुकाम जैसी स्थितियां पैदा हो सकती है।

6) क्या पतंजलि दिव्य धारा को भूखे पेट लिया जा सकता है?

उत्तर: हाँ, दिव्य धारा को खाने के बाद या पहले कभी-भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

7) क्या पतंजलि दिव्य धारा त्वचा को निखारने में सहायक है?

उत्तर: नहीं, दिव्य धारा सिर्फ दर्द के कारणों के इलाज में सहायक है।

8) क्या पतंजलि दिव्य धारा दवा नशे का कारण है?

उत्तर: नहीं, इस आयुर्वेदिक दवा से इसकी आदत नहीं लगती है। लंबे समय तक उपयोग के लिए आयुर्वेदिक डॉक्टर की सहायता लें।

9) क्या पतंजलि दिव्य धारा का इस्तेमाल बालों की ग्रोथ के लिए किया जा सकता है?

उत्तर: नहीं, बालों के विकास में इस आयुर्वेदिक दवा का कोई योगदान नहीं है।

10) क्या पतंजलि दिव्य धारा दवा के इस्तेमाल के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: हाँ, इस दवा के इस्तेमाल के बाद ड्राइविंग करना पूर्णतया सुरक्षित है, लेकिन यह मरीज की अवस्था पर ज्यादा निर्भर करता है।

पढ़िये: Lodhrasava in Hindi | Abhayarishta in Hindi

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अस्वीकरण

हम पूरी कोशिश करते है, कि इस साइट पर मौजूद जानकारी सही, पूरी व नवीनतम हो। लेकिन हम इसकी सटीकता की गारंटी नहीं लेते है। यह लेख सिर्फ जानकारी मात्र है और इसका उपयोग चिकित्सकीय परामर्श के विकल्प में उपयोग ना करें। किसी भी प्रकार की हानी होने पर, आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।