Mahatriphala Ghrita

Mahatriphala Ghrita के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि, सावधानी | महात्रिफला घृत

Advertisement

Mahatriphala Ghrita क्या है?

महात्रिफला घृत एक आयुर्वेदिक नुस्खा है, जो आँखों से जुड़ी कठिनाइयों का सफल इलाज कर सकता है।

त्रिफला की प्रचुरता वाला यह उत्पाद नेत्र दृष्टि को तेज करने तथा शरीर की पुष्टि करने के लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है।

महात्रिफला घृत को आंतरिक तथा बाहरी दोनों तरीकें से इस्तेमाल किया जा सकता है। इसे गर्म दूध के साथ आंतरिक इस्तेमाल किया जाना लाभकारी होता है तथा इसे आँखों पर काजल की तरह बाहरी प्रयोग किया जा सकता है।

महात्रिफला घृत रतौन्धी, आँखों की सूजन, जलन, बार-बार पानी निकलना, इंफेक्शन, कम दिखाई देना, रोशनी के समक्ष आँखें न खुलना, दर्द आदि सभी लक्षणों के इलाज हेतु उपयुक्त समाधान है।

Advertisements
नामMahatriphala Ghrita
निर्माता (Manufacturer)SHREE BAIDYANATH AYURVED BHAWAN PVT. LTD
संरचना (Composition)त्रिफला + शतावरी + गिलोय + मुनक्का + भाँगरा + बाँसे + पीपल + मुलेठी + गुडूची + कटेरी + नीलोफर + क्षीरकाकोली + बहेड़ा + हरीतकी + भृंगराज
कीमत (Price)249 रूपये (100 ग्राम)

पढ़िये: केराग्लो इवा टैबलेट | Dabur Laxirid Syrup in Hindi

महात्रिफला घृत के उपयोग व फायदे – Mahatriphala Ghrita Benefits & Uses in Hindi

इस आयुर्वेदिक घी को इस्तेमाल करने से कई फायदें देखने को मिल सकते है-

आँखों को स्वस्थ बनायें रखने में मददगार

घी-दूध में मौजूद कई गुण हमारे संपूर्ण स्वास्थ्य को तंदुरुस्त बनायें रखने में मदद करते है, इसलिए ये हमारे दैनिक जीवन का जरूरी हिस्सा होते है। यह आयुर्वेदिक घी कई प्राकृतिक जड़ी-बूटियों को जोड़कर बनाया गया है, जो आँखों की समस्त शिकायतों जैसे कमजोरी, सूजन, दर्द, लालिमा, तिमिर, खुजली, पानी आना आदि को ठीक कर सकता है।

हड्डियों को मजबूती प्रदान करें

कैल्शियम और एंटीऑक्सीडेंट गुणों से युक्त इस घी के द्वारा शरीर का पोषण किया जा सकता है। इसे बच्चे से लेकर बुजुर्ग हर कोई इस्तेमाल कर सकता है, लेकिन खुराक का नियमित पालन जरूरी होता है।

Advertisements

मोतियाबिंद की रोकथाम

मोतियाबिंद की समस्या आँखों की गंभीर समस्याओं में से एक है। मोतियाबिंद को प्रभावी होने से रोकने के लिए इस घी का सेवन करना बेहद लाभदायक हो सकता है। हालांकि मोतियाबिंद की अंतिम चरण में चिकित्सीय हस्तक्षेप आवश्यक है।

निकट या दूर दृष्टि दोष का उपचार

लगातार आँखों पर पड़ने वाला प्रेशर आँखों की देखने की शक्ति को कम कर देता है, जैसे- पूरे दिन कम्प्यूटर के आगे बैठना, तेज रोशनी में काम करना आदि। कम उम्र में बच्चों को पास य दूर की वस्तु न दिखाई देने से आँखों पर चश्मा पहनना जरूरी हो जाता है। ऐसे में, इस घी के नियमित सेवन तथा आँखों की एक्सरसाइज से सकारात्मक प्रभाव देखने को मिल सकता है।

महात्रिफला घृत के दुष्प्रभाव – Mahatriphala Ghrita Side Effects in Hindi

निम्न साइड इफेक्ट्स Mahatriphala Ghrita के कारण हो सकते है। आमतौर पर साइड इफेक्ट्स Mahatriphala Ghrita से शरीर की अलग प्रतिक्रिया व गलत खुराक से होते है और सबको एक जैसे साइड इफेक्ट्स नहीं होते है। अत्यंत Mahatriphala Ghrita से दुष्प्रभाव में विशेषज्ञ की सहायता लें।

  • दस्त
  • अपच

इनके अलावा भी अन्य साइड इफेक्ट्स Mahatriphala Ghrita से हो सकते है।

Advertisements

पढ़िये: हमदर्द डायनामोल क्रीम | Vasmol Kesh Kala in Hindi

महात्रिफला घृत की खुराक – Mahatriphala Ghrita Dosage in Hindi

खुराक विशेषज्ञ द्वारा Mahatriphala Ghrita की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है। इसलिए Mahatriphala Ghrita का उपयोग विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद शुरू करें।

इसकी दिन में 6 से 12 ग्राम खुराक एक कप गुनगुने दूध के साथ दो बार लें।

इसके उपयोग की अवधि की जानकारी किसी आयुर्वेदिक चिकित्सक से लें। उम्र के हिसाब से खुराक को कम या ज्यादा किया जा सकता है।

Advertisements

एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित Mahatriphala Ghrita का उपयोग जल्द करें। अगली खुराक Mahatriphala Ghrita की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

सावधानियां – Mahatriphala Ghrita Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में Mahatriphala Ghrita के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में Mahatriphala Ghrita से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, विशेषज्ञ को अवस्था बताकर ही Mahatriphala Ghrita की खुराक लें।

  • उच्च कोलेस्ट्रॉल
  • मधुमेह
  • हृदय रोग
  • एलर्जी

पढ़िये: प्ले विन कैप्सूल | Spermto Syrup in Hindi

Advertisements

Mahatriphala Ghrita FAQ in Hindi

1) क्या Mahatriphala Ghrita को भूखे पेट इस्तेमाल किया जा सकता है?

उत्तर: इस घी की खुराक भोजन से पहले या बाद में कभी भी ली जा सकती है। अन्य कोई बड़ी बीमारी होने पर इसे चिकित्सक की सलाह से लें।

2) क्या Mahatriphala Ghrita गर्भवती महिलाएं इस्तेमाल कर सकती है?

उत्तर: इसमें मौजूद प्राकृतिक अवयव गर्भावस्था के लिए हावी हो सकते है, इसलिए गर्भवती महिलाएं इसका सेवन अपने चिकित्सक की सलाह पर ही करें।

3) क्या Mahatriphala Ghrita एक नशे की लत है?

उत्तर: नहीं, इस उत्पाद के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है। प्राकृतिक घटकों से निर्मित यह दवा मानसिक और शारीरिक रूप से बाध्य नहीं है।

4) क्या Mahatriphala Ghrita स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: स्तनपान कराने वाली महिलाएं इस दवा का इस्तेमाल कर सकती है। यदि इसे लेने के बाद कोई दुष्प्रभाव दिखता है, तो जल्द ही अपने चिकित्सक से बातचीत करें।

Advertisements
5) क्या Mahatriphala Ghrita एल्कोहोल के साथ सुरक्षित है?

उत्तर: एल्कोहोल के साथ इस दवा की प्रतिक्रिया की जानकारी मौजूद नहीं है, इसीलिए इस विषय में अपने चिकित्सक की राय लें।

6) क्या Mahatriphala Ghrita मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकता है?

उत्तर: नहीं, इस उत्पाद को इस्तेमाल करने से मासिक धर्म चक्र प्रभावित नहीं होता है।

7) क्या Mahatriphala Ghrita किड़नी को प्रभावित कर सकता है?

उत्तर: इस घी का किडनी पर कोई विपरीत प्रभाव नहीं होता है।

8) क्या Mahatriphala Ghrita का सेवन करने के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: हाँ, इसकी खुराक लेने के बाद गाड़ी चलाना सुरक्षित है क्योंकि यह मानसिक क्षमता को प्रभावित नहीं करता है।

Advertisements
9) क्या Mahatriphala Ghrita के साथ पानी का इस्तेमाल किया जा सकता है?

उत्तर: हाँ, इसे लेने के लिए गर्म दूध या पानी का इस्तेमाल किया जा सकता है।

10) क्या Mahatriphala Ghrita भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, यह उत्पाद भारत में पूर्णतया लीगल है। इसे खरीदने के लिए डॉक्टरी पर्ची की आवश्यकता नहीं होती है।

पढ़िये: सदर मुगल्लिज़ जवाहरी | Naari Jeevan Jyoti Capsule in Hindi

Advertisements

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अस्वीकरण

हम पूरी कोशिश करते है, कि इस साइट पर मौजूद जानकारी सही, पूरी व नवीनतम हो। लेकिन हम इसकी सटीकता की गारंटी नहीं लेते है। यह लेख सिर्फ जानकारी मात्र है और इसका उपयोग चिकित्सकीय परामर्श के विकल्प में उपयोग ना करें। किसी भी प्रकार की हानी होने पर, आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।