कुबेराक्ष वटी: फायदे, नुकसान, खुराक, साइड एफ़ेक्ट्स, उपयोग, सावधानी | Kuberaksha Vati in Hindi

कुबेराक्ष वटी
नाम (Name)कुबेराक्ष वटी
संरचना (Composition)सागरगोटा + ओवा + काला नमक + हींग + काली मिर्च
दवा-प्रकार (Type of Drug)आयुर्वेदिक दवा
उपयोग (Uses)PCOD, कील-मुँहासे, अनियमित मासिक धर्म, अनचाहे शारीरिक बाल, कमजोरी आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects)अज्ञात
ख़ुराक (Dosage)जरूरत अनुसार
किसी अवस्था पर प्रभावअतिसंवेदनशीलता, गर्भावस्था
खाद्य पदार्थ से प्रतिक्रियाअज्ञात
अन्य दवाई से प्रतिक्रियाअज्ञात

कुबेराक्ष वटी क्या है? – What is Kuberaksha Vati in Hindi

कुबेराक्ष वटी खासकर महिलाओं के लिए तैयार किया गया एक आयुर्वेदिक उत्पाद है। यह दवा महिलाओं से जुड़े विकारों को ठीक कर खुशहाल जीवन जीने में मदद करती है।

Advertisements

कुबेराक्ष वटी का उपयोग मुख्यतः PCOD (Polycystic Ovarian Disease/Syndrome) जैसे लक्षणों के इलाज हेतु किया जाता है।

यदि महिलाओं में शरीर पर अनचाहे बाल, कील-मुँहासे, हार्मोन असंतुलन, वजन बढ़ना, चिड़चिड़ापन, बालों का झड़ना, मूड स्विंग, अनियमित पीरियड्स, असामान्य रक्तस्राव आदि सभी PCOD से जुड़े लक्षण दिखते है, तो विशेषज्ञ की सलाह अनुसार कुबेराक्ष वटी एक बेहद फायदेमंद विकल्प हो सकता है।

कुबेराक्ष वटी मादा जननांग की कमियों को दूर कर गर्भाशय को तंदुरुस्त बनाने में भी मददगार हो सकती है।

कुबेराक्ष वटी की संरचना – Kuberaksha Vati Composition in Hindi

निम्न घटक कुबेराक्ष वटी में होते है।

सागरगोटा + ओवा + काला नमक + हींग + काली मिर्च

कुबेराक्ष वटी कैसे काम करती है?

  • सागरगोटा बालों की जड़ो को मजबूत कर उन्हें झड़ने से रोकने का काम करता है। यह पेट से जुड़ी समस्याओं और अंगों की सूजन को दूर करने में कारगर होता है।
  • ओवा महिलाओं में हार्मोन असंतुलन की वजह से पैदा हुए मासिक धर्म और गर्भावस्था से जुड़े मुद्दों का इलाज करता है और साथ ही, महिला हॉर्मोन्स के बीच संतुलन बनाये रखने का कार्य करता है।
  • काला नमक मोटापे को कम कर इम्यूनिटी को बढ़ाने का कार्य करता है। यह पेट से जुड़ी समस्याओं का इलाज कर पाचन तंत्र को सहजने में सहायक है।
  • हींग सामान्य प्रसव कराने में मददगार होता है। हींग अनियमित माहवारी, मासिक धर्म के दर्द, भारी मासिक रक्तस्राव, कब्ज जैसे अन्य कई संकेतों से छुटकारा दिलाने में कारगर है।
  • मिरे (काली मिर्च) पीरियड्स में देरी होने पर लाभकारी साबित होती है। काली मिर्च की तासीर गर्म होने से यह शारीरिक गर्मी को बढ़ाकर रक्तस्राव को सामान्य बनाती है।

पढ़िये: ब्राह्मी वटी | Lavangadi Vati in Hindi

कुबेराक्ष वटी के उपयोग व फायदे – Kuberaksha Vati Uses & Benefits in Hindi

कुबेराक्ष वटी को निम्न अवस्था व विकार में सलाह किया जाता है। कुबेराक्ष वटी का सेवन डॉक्टर या विशेषज्ञ से व्यक्तिगत सलाह बिना लिए ना करें।

  • चिड़चिड़ापन
  • कील-मुँहासे
  • अनियमित मासिक धर्म
  • अनचाहे शारीरिक बाल
  • शारीरिक कमजोरी
  • मूड परिवर्तन
  • बाल झड़ना
  • हार्मोन असंतुलन
  • पाचन कमजोरी
  • असामान्य रक्तस्राव
  • कब्ज
  • नाराजगी
  • पेट दर्द
  • यकृत विकार
  • अंडाशय में गठानों की समस्या

कुबेराक्ष वटी के दुष्प्रभाव – Kuberaksha Vati Side Effects in Hindi

कुबेराक्ष वटी एक आयुर्वेदिक संयोजन है, जिसे निर्देशित मात्रा में लेने से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। इस दवा से जुड़ी सभी बातों को जानने के लिए आप अपने चिकित्सक का सहायता जरूर लें। कुबेराक्ष वटी की अति या दुरुपयोग करने से हमेशा बचें।

कुबेराक्ष वटी की खुराक – Kuberaksha Vati Dosage in Hindi

  • कुबेराक्ष वटी की खुराक रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है।
  • कुबेराक्ष वटी की खुराक दिन में एक या दो टैबलेट भोजन के बाद लेने की सलाह दी जाती है।
  • कुबेराक्ष वटी की खुराक को बढ़ाने या कम करने के लिए डॉक्टरी सलाह की आवश्यकता है।
  • छोटी उम्र की लड़कियों के लिए, कुबेराक्ष वटी की खुराक बाल रोग विशेषज्ञ की सहायता द्वारा सुनिश्चित करें।
  • कुबेराक्ष वटी को बीच में छोड़ने की गलती न करें। जब तक डॉक्टर द्वारा ना कहा ना जाएं, तब तक इस दवा की नियमित खुराक लेते रहें।
  • कुबेराक्ष वटी की गोलियों को तोड़ने, चबाने या कुचलनें की बजाय पाने के साथ निगल लेना ज्यादा उचित माना जाता है।
  • एक खुराक छूट जाये, तो निर्धारित कुबेराक्ष वटी का सेवन जल्द करें। अगली खुराक कुबेराक्ष वटी की निकट हो, तो छूटी खुराक ना लें।

पढ़िये: रूप मंत्र क्रीम | Punarnavarishta in Hindi

सावधानियां – Kuberaksha Vati Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में कुबेराक्ष वटी के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में कुबेराक्ष वटी से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, डॉक्टर को अवस्था बताकर ही कुबेराक्ष वटी की खुराक लें।

  • गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाएं
  • अतिसंवेदनशीलता

भोजन के साथ प्रतिक्रिया

कुबेराक्ष वटी की भोजन के साथ प्रतिक्रिया की जानकारी अज्ञात है।

पढ़िये: मन्मथ रस | Arjunarishta in Hindi

Kuberaksha Vati FAQ in Hindi

1) क्या कुबेराक्ष वटी भूख बढ़ाने में सहायक है?

उत्तर: कुबेराक्ष वटी पाचन शक्ति में सुधार करने हेतु जरूर लाभदायक होती है। लेकिन विशेषकर भूख बढ़ाने के लिए इस उत्पाद पर निर्भर रहना उचित नहीं है।

2) क्या कुबेराक्ष वटी महिलाओं में चेहरे के बालों को हटाने में सहायक है?

उत्तर: हाँ, यह आयुर्वेदिक दवा महिलाओं में PCOD के कारण चेहरे पर उगने वाले बालों को हटाने में सहायक है। यह चेहरे के बालों की जड़ को खत्म कर अनचाहे बालों को उगने से रोकती है।

3) क्या कुबेराक्ष वटी वजन घटाने में सहायक है?

उत्तर: हार्मोन असंतुलन की वजह से महिलाओं के वजन में वृद्धि हो सकती है। कुबेराक्ष वटी अनावश्यक वजन बढ़ने की समस्या को नियंत्रित कर वजन को कम करने में सहायक हो सकती है।

4) क्या कुबेराक्ष वटी गर्भवती महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: इस विषय में जानकारी अज्ञात है, इसलिए गर्भवती महिलाएं इस दवा को लेने से पहले अपने चिकित्सक की राय ले सकती है।

5) क्या कुबेराक्ष वटी की खुराक के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: यदि आपको इस दवा के घटकों से एलर्जी नहीं है, तो आप इस दवा की खुराक के बाद ड्राइविंग कर सकते है। अत्यधिक कमजोरी या थकान महसूस होने पर, कुबेराक्ष वटी की खुराक के बाद आराम करना ज्यादा उचित है।

6) क्या कुबेराक्ष वटी एल्कोहोल के साथ लेना सुरक्षित है?

उत्तर: एल्कोहोल सेहत के लिए हानिकारक होता है। यह दवाओं के साथ बुरा व्यवहार कर सकता है, जिसका सीधा असर स्वास्थ्य पर होता है। इसलिए कुबेराक्ष वटी के साथ एल्कोहोल की खपत को पूरी तरह नजरअंदाज किया जाना चाहिए।

7) क्या कुबेराक्ष वटी के सेवन से आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, कुबेराक्ष वटी के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है। लेकिन लंबे समय तक उपयोग करने से पहले अपने चिकित्सक की राय भी जरूरी है।

8) क्या कुबेराक्ष वटी स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: इस विषय में संपूर्ण जानकारी स्त्री रोग विशेषज्ञ द्वारा प्राप्त करें।

9) कुबेराक्ष वटी की दो लगातार खुराकों के बीच कितना समय अंतराल होना उचित है?

उत्तर: इस दवा की दो लगातार खुराकों के बीच कम से कम 10-12 घंटों का समय अंतराल होना सुरक्षित है। इस समय अंतराल का पालन करने से ओवरडोज़ की संभावना नहीं होती है।

10) क्या कुबेराक्ष वटी भारत में लीगल है?

उत्तर: हाँ, यह आयुर्वेदिक दवा भारत में पूर्णतया लीगल है और आसानी से अधिकतर आयुर्वेदिक स्टोर पर उपलब्ध होती है।

पढ़ियेशतावरी के फायदे | Swarna Bhasma in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *