Dhatupaushtik Churna

धातुपौष्टिक चूर्ण के फायदे, नुकसान, उपयोग विधि, सावधानी | Dhatupaushtik Churna

Advertisement

धातुपौष्टिक चूर्ण क्या है?

धातुपौष्टिक चूर्ण यौन स्वास्थ्य को बेहतर बनाने हेतु चमत्कारी प्राकृतिक जड़ी-बूटियों युक्त एक आयुर्वेदिक दवा है।

इसे खरीदने के लिए डॉक्टरी पर्चे की आवश्यकता नहीं होती है, क्योंकि यह OTC रूप में उपलब्ध है।

वैवाहिक जीवन में अपनी पीढ़ी को आगे बढ़ाने में असक्षम होने वाले पुरुषों के लिए यह दवा बेहद फायदेमंद हो सकती है क्योंकि यह वीर्य से जुड़ी समस्त शिकायतों का समाधान कर सकती है।

यह यौन धातुओं की पुष्टि कर शुक्राणुओं की कमी, नपुंसकता, शीघ्रपतन, यौन शक्ति में कमी, खराब स्पर्म काउंट या खराब स्पर्म क्वालिटी आदि सभी स्थितियों के लिए एक अच्छी वैकल्पिक दवा साबित हो सकती है।

इस दवा का इस्तेमाल पुरुषों के लिए सुरक्षित होता है लेकिन महिलाओं में इसे चिकित्सक की मंजूरी से ही इस्तेमाल किया जाना चाहिए।

Advertisements
नामDhatupaushtik Churna
निर्माता (Manufacturer)Dabar India Ltd.
संरचना (Composition)अश्वगंधा + गोखरू + शतावरी + सफेद मूसली + विधारा + काली मिर्च + सालम मिश्री
दवा-प्रकार (Type of Drug)Sexual Health
कीमत (Price)240 रूपये (100 ग्राम)

पढ़िये: क्यूट बी क्रीम | Himalaya Hadjod in Hindi

धातुपौष्टिक चूर्ण के उपयोग व फायदे – Dhatupaushtik Churna Benefits & Uses in Hindi

इस दवा से निम्नलिखित फायदें हो सकते है।

कामेच्छा में सुधार

यौन दुर्बलता से पीड़ित वयस्क कामेच्छा में कमी का शिकार जल्दी होता है। कामशक्ति को तंदुरुस्त बनायें रखने वाले विशेष गर्म घटक इस उत्पाद में शामिल है, जो कामेच्छा में सुधार कर यौन इच्छा को प्रबल बना सकती है।

नपुंसकता से छुटकारा

पुरुष गुप्तांग की आंतरिक व बाहरी उत्तेजना का प्रभावित होना नपुंसकता का कारण बन सकता है। नशीले उत्पादों के लगातार सेवन से भी यौन इच्छा पर बुरा प्रभाव पड़ सकता है। इसलिए इस दवा को लेने के साथ एक्सरसाइज और नशीले पदार्थों से दूर रहने पर भी ध्यान दिया जाना चाहिए।

यह शिश्न में उत्तेजना पैदा कर नपुंसकता से छुटकारा दिलाने में सहायक हो सकती है।

Advertisements

शीघ्रपतन का इलाज

संभोग के दौरान सामान्य अवधि से जल्दी वीर्य स्खलन हो जाना शीघ्रपतन कहलाता है, जिससे ग्रसित पुरुष कुछ ही समय में डिस्चार्ज हो जाता है। यह दवा नसों अथवा मांसपेशियों को मजबूत कर वीर्य को जल्दी निकलने से रोक सकती है और पुरुष प्रदर्शन में सुधार कर सकती है।

शुक्राणुओं से जुड़ी समस्या का निपटारा

अत्यधिक हस्तमैथुन या अन्य किसी कारणवश शुक्राणुओं से जुड़ी समस्याओं में यह दवा बेहतर इलाज कर सकती है।
अल्प शुक्राणु, खराब स्पर्म काउंट या क्वालिटी जैसे मामलों में गर्भधारण करना कठिन हो सकता है, क्योंकि कमजोर शुक्राणु अंड निषेचन प्रक्रिया में हस्तक्षेप नहीं कर पाते है।

धातुपौष्टिक चूर्ण के दुष्प्रभाव – Dhatupaushtik Churna Side Effects in Hindi

इस दवा से होने वाले दुष्प्रभाव हर किसी के लिए संभव नहीं है। पाचन तंत्र की खराबी के समय यह दवा पेट में कब्ज तथा भूख में कमी का कारण बन सकती है। यदि इससे कोई समय तक कोई दुष्प्रभाव रहता है तो अपने चिकित्सक की सलाह पर ही दुबारा शुरू करें।

पढ़िये: फ़रबा ऑइल | Masturin Syrup in Hindi

धातुपौष्टिक चूर्ण की खुराक – Dhatupaushtik Churna Dosage in Hindi

खुराक विशेषज्ञ द्वारा धातुपौष्टिक चूर्ण की रोगी की अवस्था अनुसार दी जाती है। इसलिए धातुपौष्टिक चूर्ण का उपयोग विशेषज्ञ से सलाह लेने के बाद शुरू करें।

Advertisements

यह दवा चूर्ण रूप में होती है, जिसे दूध के लेने के साथ सलाह दी जाती है। 18 वर्ष से ऊपर के वयस्क इस दवा की खुराक दिन में दो बार ले सकते है।

इसकी अधिकतम दैनिक खुराक 12gm तक सुरक्षित है। यह दवा बच्चों में अनुशंसित नहीं है।

इसकी एक खुराक छूट जाने पर अगली खुराक का समय होने से पहले छुटी हुई खुराक को लिया जा सकता है।

इसके गलत इस्तेमाल या ओवरडोज से बचने का प्रयास करें।

सावधानियां – Dhatupaushtik Churna Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में धातुपौष्टिक चूर्ण के उपयोग से पहले जानना जरूरी है।

Advertisements

किसी अवस्था से प्रतिक्रिया

निम्न अवस्था व विकार में धातुपौष्टिक चूर्ण से दुष्प्रभाव की संभावना ज्यादा होती है। इसलिए जरूरत पर, विशेषज्ञ को अवस्था बताकर ही धातुपौष्टिक चूर्ण की खुराक लें।

पढ़िये: डाबर हाजमोला | Freia Cream in Hindi

Dhatupaushtik Churna FAQ in Hindi

1) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण को भूखे पेट लिया जा सकता है?

उत्तर: इस दवा की प्रकृति देखते हुए चिकित्सक द्वारा अधिकतर इसे भोजन के बाद लेने की सलाह दी जाती है। इस दवा को खाली पेट लेने से पेट में जलन महसूस हो सकती है।

2) धातुपौष्टिक चूर्ण की उपचार अवधि कितनी हो सकती है?

उत्तर: इस दवा को शुरू करने के बाद इसका असर एक हफ्ते में दिखना शुरू हो जाता है, लेकिन स्थायी परिणाम हेतु इसकी उपचार अवधि 1 महीने की हो सकती है, अथार्त इसे एक महीने तक जारी रखने की सलाह दी जा सकती है।

3) धातुपौष्टिक चूर्ण की लगातार दो खुराकों के बीच कितना समय अंतराल उचित है?

उत्तर: इसकी दो लगातार खुराकों के बीच 4 से 6 घंटों का समय अंतराल उचित है।

Advertisements
4) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण गर्भवती स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सुरक्षित है?

उत्तर: यह दवा पुरुषों के लिए ज्यादा फायदेमंद है। इसमें शामिल भारी घटकों के कारण गर्भवती या स्तनपान कराने वाली महिलाएं इस दवा को पूरी तरह नजरअंदाज करें। इस विषय में ज्यादा जानकारी हेतु अपने चिकित्सक की सलाह ले सकते है।

5) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण के सेवन से इसकी आदत लग सकती है?

उत्तर: नहीं, इस दवा के सेवन से इसकी आदत नहीं लगती है क्योंकि यह हमारे मस्तिष्क को बाध्य या विवश नहीं करती है, हालांकि यह अपने चमत्कारी फायदों से आपकी पसंद जरूर बन सकती है।

6) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण को गुनगुने पानी के साथ लेना सुरक्षित है?

उत्तर: इस चूर्ण को दूध के अलावा गुनगुने पानी के साथ भी लिया जा सकता है।

7) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण की खुराक के बाद ड्राइविंग करना सुरक्षित है?

उत्तर: यह दवा हमारी मानसिक एकाग्रता या शारीरिक क्षमता को प्रभावित नहीं करती है, इसलिए इसकी खुराक के बाद ड्राइविंग करना आपका निजी फैसला हो सकता है।

8) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण मासिक धर्म चक्र को प्रभावित कर सकती है?

उत्तर: इसे महिलाओं द्वारा इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। अतः यह मासिक धर्म चक्र के लिए मुसीबत का कारण बन सकती है।

Advertisements
9) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण को अन्य एलोपैथिक दवाओं के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है?

उत्तर: इस उत्पाद को किसी अन्य एलोपैथिक दवाओं के साथ इस्तेमाल करने से पहले अपने चिकित्सक की राय अवश्य लें।

10) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण शिश्न के आकार को बढ़ा सकती है?

उत्तर: यह दवा पेनिस के इरेक्शन में सुधार अवश्य कर सकती है, परंतु उसके आकार को बढ़ा करने में असक्षम है।

11) क्या धातुपौष्टिक चूर्ण भारत में लीगल उत्पाद है?

उत्तर: हाँ, यह उत्पाद भारत में पूर्णतया लीगल है, जो कि डाबर जैसी विश्वसनीय कंपनी द्वारा निर्मित है।

पढ़िये: नवरत्न तेल | V Wash in Hindi

Advertisements

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अस्वीकरण

हम पूरी कोशिश करते है, कि इस साइट पर मौजूद जानकारी सही, पूरी व नवीनतम हो। लेकिन हम इसकी सटीकता की गारंटी नहीं लेते है। यह लेख सिर्फ जानकारी मात्र है और इसका उपयोग चिकित्सकीय परामर्श के विकल्प में उपयोग ना करें। किसी भी प्रकार की हानी होने पर, आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।