बालारिष्ट सिरप के फायदे, नुकसान, खुराक, उपयोग | Balarishtam Syrup in Hindi

Balarishtam in Hindi

बालारिष्ट सिरप क्या है? – What is Balarishtam Syrup in Hindi

बालारिष्ट (Balarishtam) एक चिकित्सीय आयुर्वेदिक दवा हैं, जिसे प्रभावी गुणों के परिपूर्ण होने के कारण अरिष्ट श्रेणी में स्थान दिया गया हैं। बालारिष्ट का मुख्य उपयोग वात असंतुलन की वजह से पैदा हुए विकारों से मुक्ति दिलाने हेतु किया जाता हैं।

संधि-शोध, मांसपेशियों की ऐंठन, दर्द, सूजन, शारीरिक कमजोरी, थकावट, अस्थमा, पक्षाघात हमला, ब्रोंकाइटिस, सिरदर्द, कान दर्द, चेहरे का दर्द आदि सभी लक्षणों के उपचार हेतु इस दवा का इस्तेमाल एक बेहतरीन परिणामदायक होता हैं। यह दवा तंत्रिकाओं पर कार्य कर प्रभावित वात अंगों को पोषण प्रदान करती हैं और शारीरिक ऊर्जा में बढ़ोतरी करती हैं।

साथ ही, इस दवा में उपस्थित घटकों के आधार पर इसमें एंटी-इंफ्लेमेटरी, एनाल्जेसिक और एंटीऑक्सीडेंट जैसे गुण भी शामिल होते हैं। गर्भावस्था और स्तनपान कराने वाली महिलाओं के मामलों में इस दवा के सेवन से पूरी तरह परहेज किया जाना चाहिए।

बालारिष्ट घटक – Balarishtam Ingredients in Hindi

निम्न घटक Balarishtam Syrup में होते है।

बाला (सबसे महत्वपूर्ण यौगिक) + अश्वगंधा + धातकी + क्षीर काकोली + एरंडा + रसना + इलायची + प्रसारिनी+ लौंग + उशीरा + गोकशूरा + गुड़ + जल

बालारिष्ट कैसे काम करती है?

अंगों के दर्द के लिए जिम्मेदार कमजोर तंत्रिका तंत्र को यह दवा पोषण प्रदान कर सुदृढ़ बनाती हैं। इसके अलावा यह पक्षाघात की विसंगति को ठीक कर स्वास्थ्य को तेजी से ठीक होने में मदद करती हैं।

मांसपेशियों की ऐंठन, दर्द और सूजन के प्रति यह दवा मसल रिलैक्सेंट का कार्य करती हैं और मांसपेशियों की उत्तेजना को शिथिलता भी प्रदान करती हैं।

यह दवा वात और सांस की समस्याओं से पीड़ित मरीजों के फेफड़ो में हवा की मात्रा बढ़ाकर वायुमार्ग को चौड़ा करती हैं और श्वशन दर में सुधार करती हैं। दवा में उपस्थित अश्वगंधा और गोकशूरा अस्थिबंध संरचना को मजबूती प्रदान करते हैं।

पढ़िये: Amritarishta in Hindi | Punarnavasavam in Hindi

बालारिष्ट के उपयोग व फायदे – Balarishtam Uses & Benefits in Hindi

बालारिष्ट के निम्न फायदे व उपयोग है, लेकिन किसी भी अवस्था में इसके उपयोग से पहले डॉक्टर की सलाह लेना उचित है।

  • वात से जुड़ी हर समस्याओं से निपटने में फायदेमंद
  • भूख में बढ़ोतरी
  • मानसिक दुर्बलता में मदद
  • हृदय की कार्यप्रणाली को बेहतर बनाए
  • तंत्रिका तंत्र के मजबूती की गारंटी
  • दर्द और सूजन से छुटकारा
  • किड़नी को क्रियाशील बनाये रखने में मददगार
  • उत्सर्जन के सुनियोजन में सहायक
  • तनाव मुक्त करने में उपयोगी
  • आवश्यक पोषण की भरपाई
  • स्मरण क्षमता का बढ़ना
  • लकवाग्रस्त अंगों को जीवन शक्ति प्रदान करना
  • हड्डियों के बंधन को मजबूत करने में फायदेमंद
  • अस्थमा से मुक्ति
  • शारीरिक कमजोरी का अंत
  • मांसपेशियों की ऐंठन दूर करना

बालारिष्ट के दुष्प्रभाव – Balarishtam Side Effects in Hindi

बालारिष्ट सभी प्राकृतिक अवयवों से बनी एक दवा हैं। सावधानी और उचित देखरेख में इसका इस्तेमाल करने पर अभी तक कोई ज्यादा नुकसान या दुष्प्रभाव की स्थितियां उजागर नहीं हुई हैं। इसका सेवन सूचीबद्ध लक्षणों के प्रति आराम पाने के लिए करना एकदम सुरक्षित हैं।

गर्भावस्था और स्तनपान के दौरान इसका सेवन करने से बचा जाना आवश्यक हैं क्योंकि यह नवनिर्मित शिशु के लिए मुसीबत बन सकती हैं।

बालारिष्ट की खुराक – Balarishtam Dosage in Hindi

  • बालारिष्ट की खुराक के बारें में हर संभव और सुरक्षित जानकारी डॉक्टर या विशेषज्ञ आधारित होनी चाहिए। इस संदर्भ में मरीज द्वारा डॉक्टर से हर तरह की व्यक्तिगत बातों का साझा किया जाना आवश्यक हैं।
  • एक सामान्य व्यक्ति के लिए इसकी खुराक 12-24ml प्रतिदिन लेना फायदेमंद होता हैं।
  • बच्चों में इसकी खुराक दी जा सकती हैं, लेकिन खुराक की मात्रा को कम किया जाना भी उतना ही आवश्यक होता हैं। इस विषय में बाल रोग विशेषज्ञ का परामर्श जरूर लें।
  • दवा का सेवन करने से पहले बोतल को अच्छे से शेक (हिलाना) करना चाहिए और ऊपर अंकित निर्देशों का पूर्ण पालन करना चाहिए।
  • खुराक को रोजाना एक निश्चित समय पर विभाजित कर दो भागों में ग्रहण किया जाना उचित होता हैं।
  • छूटी खुराक को जितनी जल्दी हो सकें पानी के साथ ग्रहण किया जाना चाहिए। दो खुराकों को एक साथ लेने से बचा जाना चाहिए।
  • ओवरडोज़ की स्थिति पैदा होने पर जल्द से जल्द चिकित्सा सुविधा तलाश करनी चाहिए और खुराक पर रोक लगा देनी चाहिए।

Balarishtam FAQ in Hindi

1) क्या बालारिष्ट का सेवन गाड़ी चलाने से पहले करना सुरक्षित हैं?

उत्तर: इस दवा को लेने से बाद गाड़ी चलाना सुरक्षित हैं क्योंकि इसमें शामक गुण (जो आंखे भारी और उनींदापन जैसी समस्याओं के लिए जिम्मेदार होता हैं) नहीं होता हैं। साथ ही, यह दवा ड्राइविंग क्षमता को भी बिल्कुल प्रभावित नहीं करती हैं।

2) क्या बालारिष्ट का सेवन एल्कोहोल के साथ करना सुरक्षित हैं?

उत्तर: एल्कोहोल जैसी अम्लीय धातु के साथ इस दवा का सेवन करना कष्टदायक हो सकता हैं, क्योंकि इनके विपरीत प्रभावों से लक्षणों की गंभीरता कम होने के बजाए बढ़ सकती हैं। हर स्थिति में इस दवा का सेवन पानी के साथ किया जाना लाभकारी साबित होता हैं।

3) क्या बालारिष्ट नशायुक्त दवा हैं?

उत्तर: इस दवा के नशामुक्त होने के दो कारण हैं, एक तो यह कि आयुर्वेदिक वर्ग की होने के कारण यह दवा मस्तिष्क को इसके प्रति बाध्य नहीं करती हैं और दूसरा यह कि इस दवा में ऐसा कोई घटक नहीं हैं जिसके सेवन से शरीर को इसकी आदत लग सकें।

4) बालारिष्ट को स्टोर करने के लिए किन कारकों को ध्यान में रखा जाना आवश्यक हैं?

उत्तर: इस दवा का संग्रहण किये जाने से पहले उपयुक्त स्थान की तलाश की जानी चाहिए। इस दवा को ठंडी और सुखी जगह पर स्टोर किया जाना चाहिए, जहाँ सूर्य की रोशनी और गर्मी न हो। इसे पालतू जानवरों और बच्चों की पहुँच भी दूर रखा जाना चाहिए।

5) बालारिष्ट की खुराक शुरू करने के बाद कितने समय में इसका असर दिखना शुरू होता हैं?

उत्तर: इस दवा का कॉर्स और खुराक डॉक्टर द्वारा तय किये जाने के बाद इसका असर दिखने में कम से कम दो सप्ताह तो लगते ही हैं। कुछ मरीजों में इसका असर दिखने में थोड़ा समय लगता हैं।

6) क्या बालारिष्ट मधुमेह के रोगियों के लिए सुरक्षित हैं?

उत्तर: इस दवा में शुगर की मात्रा नहीं होने के कारण यह दवा कुछ हद तक मधुमेह के रोगियों हेतु सुरक्षित हैं। लेकिन गुड़ की कुछ मात्रा होने के कारण इस विषय में पूरी तरह डॉक्टर की सलाह लेने के बाद ही इसका सेवन करना शुरू करें।

7) क्या बालारिष्ट भारत में लीगल हैं?

उत्तर: हां, यह दवा भारत में पूर्णतया लीगल हैं।

पढ़िये: Muktashukti Bhasma in Hindi | Ashwagandharishta in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *