Dabur Ashwagandharishta in hindi

अश्वगंधारिष्ट के फायदे, नुकसान, खुराक, सावधानी, उपयोग | Ashwagandharishta in Hindi

Advertisement

अश्वगंधारिष्ट क्या है? – What is Ashwagandharishta in Hindi

अश्वगंधारिष्ट एक आयुर्वेदिक स्वास्थ्य टॉनिक हैं, जो तरल रूप में होने के कारण मौखिक खुराक द्वारा ग्रहण की जाती हैं। यह दवा आसानी से किसी भी मेडिकल स्टोर पर उपलब्ध हो जाती हैं।

सामान्यतः इस दवा का इस्तेमाल मानसिक और यौन विकारों के उपचार हेतु किया जाता हैं। कमजोर तंत्रिका तंत्र, अवसाद, चिंता, कमजोरी, थकावट, बौनापन, शुक्राणु में कमी, शीघ्रपतन, हार्मोन असंतुलन, बांझपन, बवासीर, मिर्गी आदि सभी लक्षणों से यह दवा छुटकारा दिला सकती हैं। लंबी अवधि से चल रही बीमारी से हुई शारीरिक हानि की भरपाई कर यह दवा स्वास्थ्य को पूरी तरह निरोगी बनाने में भी अहम भूमिका निभाती हैं।

दैनिक जीवन से इस दवा का अलग से उपयोग किये जाने पर जीवन शक्ति में सुधार देखा जा सकता हैं। अतिसंवेदनशीलता, अल्सर और गैस्ट्रिक समस्याओं के मामलों में इस दवा के सेवन से पूरी तरह बचा जाना चाहिए।

यह निम्न कंपनी व ब्रांड नाम से प्रचलित है।

  • Dabur Ashwagandharishta
  • Baidyanath Ashwagandharishta
  • Patanjali Divya Ashwagandharishta
  • Sandu Ashwagandharishta
  • Dhootapapeshwar Ashwagandharishta
  • Zandu Ashwagandharishta
नामDabur Ashwagandharishta
संरचना (Composition)श्वेता, मूसली, मंजिष्ठा, हरीतकी, हरिद्रा, दारूहरिद्रा, याष्टिमधु, रसना, विदरी कंद, अर्जुन तवक, मुस्तका, त्रिवृत, अनंत मूल, कृष्ण सरिवा, रक्ता चंदन, चंदन, वचा, धताकिपुष्प, मधु, शुनथि, मारीच, पिपाली, तवाक, तेजपत्रा, इला, प्रियांगु, नागाकेसर
दवा-प्रकार (Type of Drug)Ayurvedic Health Tonic
उपयोग (Uses)मानसिक व यौन विकास के लिए, तनाव, चिंता और अवसाद कम करें, पाचन तंत्र को मजबूत करें आदि
दुष्प्रभाव (Side Effects)मुँह में भारी छाले, पेट में जलन, गैस्ट्रिक समस्याएं आदि

पढ़ियेएंडोरा मास के फायदे | Muktashukti Bhasma in Hindi

Advertisements

अश्वगंधारिष्ट कैसे काम करती है?

पूरी तरह प्राकृतिक घटकों से मिलकर बनी यह दवा स्वास्थ्य सुधारक का कार्य करती हैं। इस दवा की कार्य प्रणाली इसमें उपस्थित घटकों पर आधारित हैं।

यह दवा तंत्रिका संबंधी विकारों से मुक्ति दिलाकर एक मजबूत तंत्रिका तंत्र का गठन करती हैं और मस्तिष्क को लक्षणों के प्रति सचेत कर देती हैं।

इस दवा के घटक यौन रोगों की वजह से शारीरिक संबंधों में आ रही तकलीफों से समझौता कर मानव को एक संतुष्टि भरा जीवन प्रदान करते हैं।

अश्वगंधारिष्ट के उपयोग व फायदे – Ashwagandharishta Uses & Benefits in Hindi

अश्वगंधारिष्ट के निम्न फायदे और उपयोग है।

  • याददाश्त में बढ़ाता है
  • त्वचा के लिए लाभकारी
  • तनाव, चिंता और अवसाद कम करता है
  • अनिद्रा दूर करता है
  • कमजोरी और थकान से छुटकारा
  • एनीमिया के उपचार में उपयोगी
  • यौन स्वास्थ्य में सुधार करता है
  • संक्रमण को खत्म करने में मदद करता है
  • पाचन तंत्र को मजबूत करें
  • गठिया से राहत देता है
  • नसों को शांत करता है
  • नेत्र विकार से बचाता है

अश्वगंधारिष्ट के दुष्प्रभाव – Ashwagandharishta Side Effects in Hindi

अश्वगंधारिष्ट की खुराक में लापरवाही की वजह से शरीर को कुछ सामान्य नुकसान उठाने पड़ सकते हैं। आयुर्वेदिक होने के बावजूद इसे बड़ी सावधानी से डॉक्टरी सलाह का पालन करते हुए उपयोग में लाया जाना चाहिए। इसमें मौजूद घटकों से अलग प्रतिक्रिया होने पर निम्न साइड एफ़ेक्ट्स हो सकते है।

Advertisements
  • मुँह में भारी छाले
  • पेट में जलन
  • गैस्ट्रिक समस्याएं
  • एसिडिटी

पढ़िये: दिव्य मुक्ता वटी के फायदे | Giloy Ghanvati in Hindi

अश्वगंधारिष्ट की खुराक – Ashwagandharishta Dosage in Hindi

अश्वगंधारिष्ट की खुराक शुरू करने से पहले एक बार अपने डॉक्टर या किसी विशेषज्ञ से निजी सलाह लें।

दिन में 15-30ml इस दवा की मात्रा लेकर समान मात्रा में पानी मिलाकर भोजन के बाद इसका सेवन करना लाभकारी हैं।

बच्चों में इसकी खुराक नहीं दी जानी चाहिए क्योंकि यह बच्चों में अनुशंसित नहीं की जाती हैं। इससे जुड़ी हर तरह की जानकारी बाल रोग विशेषज्ञ से लेने की आवश्यकता हैं।

छूटी खुराक को समय रहते लेना उचित हैं। यदि रोजाना इसकी खुराक छूट रही हैं, तो इसे याद से समय पर लें।

Advertisements

खुराक को कम या ज्यादा करने से बचा जाना चाहिए।

ओवरडोज़ से अश्वगंधारिष्ट से दुष्प्रभाव ज्यादा हो सकते है। भारी साइड एफ़ेक्ट्स अश्वगंधारिष्ट से हो, तो डॉक्टर से मदद लें।

सावधानियां – Ashwagandharishta Precautions in Hindi

निम्न सावधानियों के बारे में अश्वगंधारिष्ट के सेवन से पहले जानना जरूरी है।

  • इसका उपयोग करने से पहले इस पर लगे लेबल को एक बार अवश्य चेक करना चाहिए।
  • इससे जुड़ा हर तरह का फैसला खुद लेने से बचें। डॉक्टरी सलाह को महत्वता को बढ़ावा दें।
  • बच्चों तथा गर्भवती महिलाओं में इस दवा की खुराक लेने से परहेज करें और पहले डॉक्टर से विशेष सलाह लें।
  • एलर्जी तथा अल्सर के मामलों में इस दवा से जितनी दूरी बनायें रखें उतना बेहतर हैं।

अश्वगंधारिष्ट को निम्न दवाइयों से साथ लेने से बचें।

  • Sedatives
  • Immunosuppressant
  • Thyroid hormone pills

कीमत व वेरिएंट – Ashwagandharishta Price & Variant

निम्न वेरिएंट में अश्वगंधारिष्ट मार्केट में उपलब्ध है, जिनकी कीमत निम्नलिखित है।

Advertisements
वेरिएंटमात्राकीमत
Dabur Ashwagandharishta225ml130 Rs
Dabur Ashwagandharishta450ml210 Rs

पढ़िये: दिव्य यौवनमृत वटी के फायदे | Patanjali Divya Medha Vati in Hindi 

Ashwagandharishta FAQ in Hindi

1) क्या अश्वगंधारिष्ट विटामिन और खनिज लवणों का एक अच्छा स्रोत हो सकती हैं?

उत्तर: इस दवा के प्राकृतिक घटक मानसिक और यौन रोगों के इलाज हेतु हर संभव प्रयास करते हैं। यह दवा मानसिक कमजोरी और थकावट को दूर कर कुछ हद तक शरीर में विटामिन्स और खनिज लवणों के स्तर में सुधार कर सकती हैं। लेकिन पोषक तत्वों की पूरी भरपाई के लिए सिर्फ इस दवा पर निर्भर रहना पूरी तरह गलत होगा।

2) क्या अश्वगंधारिष्ट मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करती हैं?

उत्तर: मासिक धर्म चक्र जैसे प्राकृतिक चक्र को यह दवा गलत तरीके से प्रभावित नहीं करती हैं। इससे जुड़ी हर तरह की जानकारी अपने मासिक धर्म चक्र से जुड़े चिकित्सक से लेने की आवश्यकता हैं।

3) क्या अश्वगंधारिष्ट एल्कोहोल के साथ सुरक्षित हैं?

उत्तर: एल्कोहोल के साथ इस दवा की खुराक लेने से बचा जाना चाहिए। हालांकि इस बारें में कुछ जानकारी अज्ञात हैं। हर तरह के सुझाव हेतु हमेशा डॉक्टर के संपर्क में बने रहें।

4) क्या अश्वगंधारिष्ट नशायुक्त दवा हैं?

उत्तर: इस दवा की खुराक 3 महीनों या उससे ज्यादा समय तक बिना संकोच ली जा सकती हैं। इस दवा के रेगुलर इस्तेमाल से शरीर को इसकी आदत नहीं लगती हैं, क्योंकि इसमें उपस्थित हर एक सामग्री पूर्णतया आयुर्वेदिक हैं। शरीर को इसकी आदत नहीं लगने के गुण से यह साबित होता हैं कि यह दवा नशायुक्त न होकर पूर्णतया नशामुक्त हैं।

Advertisements
5) क्या अश्वगंधारिष्ट को खाली पेट लेना उचित हैं?

उत्तर: इस दवा में पहले से एल्कोहोल की कुछ मात्रा उपस्थित होती हैं। इसकी खुराक लेने से पहले पेट भरे होने का ध्यान रखा जाना चाहिए, क्योंकि भूखे पेट इसके सेवन से एसिडिटी और अन्य परेशानियां पैदा हो सकती हैं।

6) क्या अश्वगंधारिष्ट भारत में लीगल हैं?

उत्तर: हाँ, यह दवा आयुर्वेदिक होने के कारण भारत में पूर्णतया लीगल हैं।

पढ़िये: नीरी KFT सिरप के फायदे | Chandraprabha Vati in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

अस्वीकरण

हम पूरी कोशिश करते है, कि इस साइट पर मौजूद जानकारी सही, पूरी व नवीनतम हो। लेकिन हम इसकी सटीकता की गारंटी नहीं लेते है। यह लेख सिर्फ जानकारी मात्र है और इसका उपयोग चिकित्सकीय परामर्श के विकल्प में उपयोग ना करें। किसी भी प्रकार की हानी होने पर, आप स्वयं जिम्मेदार होंगे।